उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Feb 23, 2012

उदंती.com, फरवरी 2012


उदंती.com,फरवरी 2012
 वर्ष- 2, अंक 6
यदि किसी असाधारण प्रतिभा वाले आदमी से हमारा सामना हो तो हमें उससे पूछना चाहिये कि वो कौन सी पुस्तकें पढ़ता है।  - एमर्शन
**************
पहली छत्तीसगढ़ी फिल्म
कहि देबे संदेस पर विशेष

अनकही: शिक्षा की ध्वस्त बुनियाद - डॉ। रत्ना वर्मा
बृजलाल वर्मा का साथ और पलारी वासियों ... - उदंती फीचर्स
हर मुश्किल पार करके पूरा हुआ, मनु नायक... - मोहम्मद जाकिर हुसैन
सुरीले गीतों का फनकार- डॉ. एस. हनुमंत नायडू
रफी साहब की दरियादिली देख...
मुबारक बेगम नहीं गा सकीं बिदाई गीत
छत्तीसगढिय़ा मिठास घोलने वाले संगीतकार ...
नए कलाकारों को मिला महत्व
'कहि देबे संदेस' की व्यथा- कथा
कहां गुम हो गई छत्तीसगढ़ी जनजीवन की झलक? - भूपेन्द्र मिश्रा
प्रकृति: कचनार की छाँह में - अर्बुदा ओहरी
सेहत: माटी का सेब आलू - नवनीत कुमार गुप्ता
हाइकु: प्यार का पर्व - मंजु मिश्रा
लघुकथाएं: 1. चाहत 2. पराया सम्मोहन - रचना गौड़ 'भारती'
गजलें: क्या रोज छिटकती है चाँदनी? - प्राण शर्मा
ब्लॉग बुलेटिन से: लहरें... एक नशा है... - रश्मि प्रभा
प्रेरक कथा: वृक्ष
पिछले दिनों
वाह भई वाह
मिसाल: नाव से दुनिया का ....
जरा सोचें: माफ करना सीखें - डॉ. सृष्टि सिसोदिया
पर्यावरण: विज्ञान की रक्षक भूमिका - भारत डोगरा
रंग बिरंगी दुनिया

2 comments:

रूपसिंह चन्देल said...

प्राण शर्मा जी की गज़लें समय, समाज और जीवन की वास्तविकता से साक्षात करवाती हैं.

रूपसिंह चन्देल

Unknown said...

ek naayab ank ,mukh pristh sunder laga .