February 23, 2012

सुरीले गीतों का फनकार डॉ. एस. हनुमंत नायडू

डॉ. एस. हनुमंत नायडू मूलत: तेलुगू भाषी होने के बावजूद हिंदी और छत्तीसगढ़ी के प्रति दीवानगी की हद तक समर्पित थे। कॉलेज में वह हिंदी के प्रोफेसर थे तो पीएचडी उन्होंने छत्तीसगढ़ी लोकगीतों पर की। तकिया पारा दुर्ग में रहने वाले डॉ. नायडू ने शुरूआती कुछ साल दुर्ग में अध्यापन के बाद अपना कर्मक्षेत्र महाराष्ट्र को चुना। मुंबई के कॉलेज में नौकरी मिलने से पहले से ही वह युवा फिल्मकार मनु नायक के संपर्क में आ गए थे। इस युवा जोड़ी ने 'कहि देबे संदेस' में जो रचा वह अपने आप में एक अनूठा इतिहास बन चुका है। डॉ. नायडू के बारे में ज्यादातर जानकारी उनके बोरसी भिलाई में निवासरत भाई एस. वेंकट राव नायडू से मिली और कुछ जानकारी मनु नायक ने भी दी।
अध्यापन, साहित्य और पत्रकारिता में सक्रिय
डॉ. नायडू ने 34 साल तक हिंदी के प्रोफेसर के रूप में मुंबई के एल्फिंस्टन कॉलेज, नागपुर के वसंतराव नाइक कला व समाज विज्ञान संस्था (पूर्व में नागपुर महाविद्यालय)और कोल्हापुर के राजाराम कॉलेज में अपनी सेवाएं दी थी। उन्होंने मुंबई विश्वविद्यालय व नागपुर विश्वविद्यालय में एमए हिंदी का भी अध्यापन कार्य किया।
ऐसे पहुंचे डॉ. नायडू मुंबई
महाराष्ट्र जाने से पहले और महाराष्ट्र में मृत्युपर्यंत रहते हुए भी डॉ. नायडू छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ी के प्रति समर्पित रहे। डॉ. नायडू के मुंबई पहुंचने और कॉलेज ज्वाइन करने के संबंध में फिल्मकार मनु नायक बताते हैं- दुर्ग में नायडू साहब स्कूल में पढ़ा रहे थे और साहित्यिक अभिरूचि की वजह से काव्य गोष्ठियों व साहित्यिक सम्मेलनों की एक प्रमुख पहचान बन कर उभरे थे। 1958 में किसी माध्यम से वह मेरे पास मुंबई आए। यहां एल्फिंस्टन कॉलेज में प्रोफेसर के पद के लिए उनका इंटरव्यू था। वह बेहद घबराए हुए थे। मैंने अखबारों में छपी उनकी रचनाएं और उनका अकादमिक रिकार्ड देखने के बाद पूरे आत्मविश्वास के साथ कहा कि अगर फेयर सलेक्शन हुआ तो यह नौकरी आपको ही मिलेगी। और हुआ भी यही। नौकरी मिलते ही सबसे पहले मेरे पास आए और धन्यवाद दिया। इसके बाद हम लोगों की दोस्ती परवान चढ़ती गई। मेरी फिल्म 'कहि देबे संदेस' की पृष्ठभूमि भी नायडू साहब के साथ बैठकों में ही बनीं और जब सारे लोग मुझे हतोत्साहित कर रहे थे तब हौसला देने वाले एकमात्र नायडू साहब ही थे। यह तो तय ही था कि मेरी फिल्म के गीत नायडू साहब ही लिखेंगे, क्योंकि मैंने उनका काम देखा था। कोई भी सिचुएशन बता दो वह तुरंत गीत लिख देते थे। नायडू साहब ने मेरी 'कहि देबे संदेस' और 'पठौनी' में 'राजदीप' उपनाम से गीत लिखे। गीतों की रिकार्डिंग के दौर का एक वाकया याद आ रहा है मुझे। मैंने रफी साहब को बताया था कि मेरी फिल्म में आपको छत्तीसगढ़ी के गीत गाने हैं। शायद यहां थोड़ी सी चूक हो गई और रफी साहब ने छत्तीसगढ़ी का मतलब गीतकार का नाम समझ लिया। और पहले गीत की रिकार्डिंग के दौरान वे नायडू साहब को 'मिस्टर छत्तीसगढ़ी' कह कर पुकारने लगे। बाद में मैंने रफी साहब को बताया कि छत्तीसगढ़ी एक बोली है। रफी साहब ने बाद में अपनी गलती सुधार ली और दूसरे गीत 'तोर पैरी के...' की रिकार्डिंग के दौरान नायडू जी का ही संबोधन दिया।
छत्तीसगढ़ी संस्कार उन्हें घुट्टी में मिला था
डॉ. एस. हनुमंत नायडू का जन्म 7 अप्रैल 1933 को हुआ। मारवाड़ी स्कूल में पढ़ाई के बाद उन्होंने शासकीय बहुद्देशीय उच्चतर माध्यमिक शाला और महात्मा गांधी स्कूल में शिक्षक का दायित्व निभाया। अपने बेहतरीन अकादमिक रिकार्ड की वजह से 1958 में उन्हें मुंबई के एल्फिंस्टन कॉलेज में हिंदी के व्याख्याता के तौर पर जॉब मिल गई। यहां से वह कोल्हापुर गए और उसके बाद नागपुर के कॉलेज से सेवानिवृत्त हुए। 25 फरवरी 1998 को नागपुर में हृदयघात से उनका निधन हुआ। उनके परिवार में पत्नी श्रीमती कुसुम नायडू के अलावा तीन पुत्र एस. रजत नायडू ,एस. अमित नायडू और एस. सुचित नायडू हैं। उनकी कई पुस्तकें तथा सैकड़ों कविताएं, गजल, व्यंग्य लेख तथा शोध निबंध देश भर की प्रमुख पत्र- पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष