March 31, 2009

उदंती.com मार्च 2009

उदंती.com, 
वर्ष 1, अंक- 8, मार्च 2009  

जो मनुष्य समय नष्ट करता है वह जीवन का मूल्य नहीं जानता।
-चाल्र्स डार्विन

अनकही/ महिलाओं की हिस्सेदारी
समाज / महिला बेटी की पैदाइश... आज भी दुख का कारण? - विनीता बाल
इंटरनेट / अभिव्यक्ति गलत ट्रैक पर सरपट दौड़ती गाड़ी... ब्लाग- संजय तिवारी
यात्रा संस्मरण / बस्तर मैंने देखा.. एक समृद्ध संस्कृति को ...-अंजीव पांडे
छोटा पर्दा/ समाज.......रोक सकेगी इस कुरीति को बालिका-वधू?-तनु शर्मा
बाजार / गुडिय़ा 50 साल की बार्बी -उदंती फीचर्स
मुद्दा / राजनीतिछत्तीसगढ़ को अमरकंटक ....- आचार्य रमेन्द्र नाथ मिश्र
कलाकार/ भारती बंधु कबीर को गाते हैं पांच भाई - रमेश शर्मा
नारी शिक्षा/ समानता सात साल में पूरा होगा? ... सहस्त्राब्दी
अभियान / मुझे भी आता है गुस्सा पर्यावरण की होली न जलाएं - सुजाता साहा
कला / चित्रकार वंदना परगनिहा : नारी सौन्दर्य का चित्रण - उदंती फीचर्स
समय / दो रंग 1.जीवन का नृत्य 2. जब मौन ... - शैफाली
21वीं सदी के व्यंग्यकार हिन्दी में मनहूस रहने की परंपरा - ज्ञान चतुर्वेदी
वे डूब जाते हैं रंग बिरंगे ...


Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home