April 27, 2009

उदंती.com, अप्रैल 2009

वर्ष 1, अंक 9, अप्रैल 2009
*****
लोकतंत्र इस धारणा पर आधारित है कि साधारण लोगों में असाधारण संभावनाएं होती हैं।
— हेनरी एमर्शन फास्डिक
******
****** ************ ******
अनुभव
जब तक हम कड़वेपन के स्वाद का अनुभव प्राप्त नहीं कर लेते, तब तक मिठास के स्वाद का आनंद भी नहीं पा सकते।
******

Labels:

3 Comments:

At 03 May , Blogger Unknown said...

well done
thanx
ÀUˆˆæèâ»çɸUØæ Èñ¤€ÅUÚU ·¤è ÖæßÙæ

 
At 05 May , Blogger MAYUR said...

अच्छा लिखा है आपने , इस शानदार लेखन के लिए बधाई , साथ ही आपका चिटठा भी बहुत खूबसूरत है ,
इसी तरह लिखते रहे , हमें भी उर्जा मिलेगी ।

धन्यवाद ,
मयूर
अपनी अपनी डगर

 
At 09 June , Blogger कडुवासच said...

... प्रसंशनीय व प्रभावशाली संग्रह व अभिव्यक्तियाँ हैं, सारगर्भित विषयों पर लेख निश्चिततौर पर पत्रिका को चार-चाँद लगा रहे होंगे, शुभकामनाएँ।

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home