April 27, 2009

सापेक्ष में 58 रचनाकार एक साथ

हिंदी की साहित्यिक पत्रिकाओं में समकालीन सृजन और समाज की वैज्ञानिक चेतना के लिए प्रतिबद्ध दुर्ग छत्तीसगढ़ से निकलने वाले सापेक्ष ने एक लंबा सफर तय किया है। सापेक्ष के संपादक महावीर अग्रवाल ने हाल ही में इसका 50 वां विशेष अंक प्रकाशित किया है। यह 50वां अंक पूर्व के अंकों से इसलिए भिन्न है क्योंकि इसमें हिन्दी साहित्य आलोचकों एवं साहित्यिकारों पर केंद्रित विशिष्ट सामग्री संकलित की गई है।
इस अंक में वरिष्ठतम आलोचक रामविलास शर्मा से लेकर नवोदित आलोचक व्योमेश शुक्ल तक कुल 58 रचनाकारों के विचारों को शामिल किया गया है। अन्य आलोचक हैं त्रिलोचन, कमलेश्वर, रामस्वरुप चतुर्वेदी, विष्णुकांत शास्त्री, बच्चन सिंह, नामवर सिंह, राममूर्ति त्रिपाठी, रमेश कुंतल मेघ, शिव कुमार मिश्र, कुंवर नारायण, डॉ. निर्मला जैन, भवदेव पाण्डेय, विश्वनाथ त्रिपाठी, मैनेजर पाण्डेय, अशोक बाजपेई, परमानंद श्रीवास्तव, घनंजय वर्मा, विनोद कुमार शुक्ल, विष्णु खरे, वीरेन्द्र सिंह, विजेन्द्र नारायण सिंह, नंदकिशोर नवल, राजेश्वर सक्सेना मधुरेश, विजय बहादुर सिंह, प्रभाकर श्रोत्रिय,, खगेन्द्र ठाकुर, कमला प्रसाद, विश्वनाथ प्रसाद तिवारी, रमेश दवे, कुंवरपाल सिंह, प्रदीप सक्सेना, शंभुनाथ, विजय कुमार, मंगलेश डबलाल, राजेश जोशी, अरुण कमल, अनामिका, सुधीश पचौरी, अजय तिवारी, मदन सोनी, अरविन्द त्रिपाठी, वीरेन्द्र यादव, एकांत श्रीवास्तव, कृष्ण मोहन, सियाराम शर्मा, प्रणय कृष्ण, सूरज पालीवाल, साधना अग्रवाल, देवेन्द्र चौबे, रघुवंश मणी, बजरंग बिहारी तिवारी, बसंत त्रिपाठी, प्रियम अंकित तथा पंकज पराशर।
सापेक्ष में उल्लेखनीय बात यह है कि इसके पूर्व महावीर जी ने सापेक्ष में अनेक नामी व्यक्तित्व एवं विषयों पर केंद्रित कई विशेषांक प्रकाशित किए हैं जिसमें लोक संस्कृति, गजल, उत्तर आधुनिक सौंदर्यशास्त्र और द्वंदवाद, उत्तर आधुनिकता और द्वंदवाद, व्यंग्य सप्तक, विज्ञान का दर्शन, नाटक, मुकुटधर पाण्डेय, बाबा नागार्जुन, त्रिलोचन, देवेन्द्र सत्यार्थी, कबीर, शमशेर तथा हबीब तनवीर का रंग संसार शामिल है।
हिन्दी आलोचना पर केन्द्रित 'सापेक्ष 50' जिसमें 850 पृष्ठ हैं का मूल्य मात्र 150 रूपये है ।
जंगल एक गीत है
श्री प्रकाशन दुर्ग से प्रकाशित अजय पाठक की किताब जंगल एक गीत है पर्यावरण के रक्षक अनाम शहीदों को समर्पित है ... आरंभ में अजय पाठक ने अपनी बात भी जंगल के गीतों से माध्यम से की है- इस पाती में इस अनुभव का पल- पल सौंप रहा हूं, कर- कमलों में , गीत सुनाता जंगल सौंप रहा हूं। संकलन के सभी गीत जंगल के जीवन को केन्द्र में रख कर रचे गए हैं जैसे- सरगुजा के साल वन में, वनवासी, घोटूल, सल्फी, हाट भरा था, धूप सेंकते बंदर, चिडिय़ा, कुहरा और झरते फूल पलाश के आदि। जंगल की व्यथा को वे कुछ इन शब्दों में व्यक्त करते हैं- जंगल रोता है पतझर में, मैंने उसकी पीड़ा देखी, आंसू देखे हैं तरुवर में, जंगल रोता है पतझर में। और यह भी कि काट कर इन्हें क्या पायेगा, तेरे हिस्से बस संताप आयेगा। कुल मिलाकर जंगल और बिखरते पर्यावरण को उन्होंने अपनी भावनाओं के साथ मिलाकर बखूबी पिरोया है। पुस्तक का आवरण पृष्ठ नाम के अनुरुप आकर्षक है। कीमत जरुर कुछ अधिक है 100 रुपए। कागज एवं छपाई साफ सुथरी है।
....
ऐसा क्यों
आप देर से दफ्तर पहुंचते हैं तो हर कोई देखता है, पर आप जब देर तक काम करते हैं तो कोई ध्यान नहीं देता।
....

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष