February 17, 2010

उदंती.com, जनवरी-फरवरी 2010


उदंती.com,  जनवरी-फरवरी 2010
वर्ष 2, संयुक्तांक 6-7
**************
धैर्य और परिश्रम से हम वह प्राप्त कर सकते हैं जो शक्ति और शीघ्रता से कभी नहीं।
- ला फान्टेन
**************
अनकही: रक्षक के वेश में भक्षक!
परंपरा : धरती की प्यास बुझाते हैं तालाब
- राहुल कुमार सिंह

संस्मरण : एक सच्चे संत की पुण्य स्मृति
- प्रताप सिंह राठौर

कविता: जिन्दगी की सुनहरी घड़ी
- बुधराम यादव

उत्सव : चली चली रे पतंग...- उदंती फीचर्स
अतिथि : जिनके लिए बस्तर के गांव स्वर्ग समान हैं
- हरिहर वैष्णव

प्रकृति : वसन्त बहार...- डॉ. गीता गुप्त
पर्यटन : बर्फीलीमेहमाननवाजी - बिमल श्रीवास्तव
स्वाद: भारतीय मसालों का जवाब नहीं/ जरा सोचें
धरोहर : बूंद नहीं तो समुद्र भी नहीं
जीवन शैली : जल बिच मीन पियासी रे
- अरुण कुमार शिवपुरी

वाह भई वाह
21वीं सदी के व्यंग्यकार / 10वीं कड़ी :
साहित्यकार के हसीन सपने - काशीपुरी कुंदन

कहानी: रामी - डॉ. दीप्ति गुप्ता
लघु कथाएं: कमल चोपड़ा
इस अंक के लेखक
आपके पत्र/ इन बाक्स

Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home