February 17, 2010

जीवन- शैली


जल बिच मीन पियासी रे...
- अरुण कुमार शिवपुरी
आजकल की जीवनशैली फ़ास्ट ट्रैक पर चलती है। हर कोई दौड़ता नजर आता है। वे होशियार भी हैं और अपने में केंद्रित भी। उसे अपनों से कम ही मतलब होता है। यही वजह है कि आज का आदमी जीवन की सुन्दरता व सुख शान्ति से काफी हद तक महरूम हो गया है। संबंध और रिश्ते ऊपरी हो गए हैं और मतलब पर टिके हैं। इंसान अब धन कमाने व बटोरने में उम्र भर लगा रहता है। इसके अलावा जीवन में होता ही क्या है? यह बात और है कि लक्ष्मी चलायमान होती है कहीं भी सदा टिकी नहीं रहती। सरस्वती का वास अलग होता है।
अब घर और समाज के वातावरण में नैतिक मूल्यों का शायद ही कोई स्थान हो। कोचिंग और गाइड बुक्स के सहारे बच्चे जीवन की सीढ़ी पर चढ़ते हैं। पं. बालकृष्ण भट्ट, पं. प्रताप नारायण मिश्र के निबंधों, लेखों और मुंशी प्रेमचंद की कहानियों व उपन्यासों को पढऩे की किसको जरूरत है। मीरा के पद, कबीर व रहीम के दोहे और रसखान का कृष्ण प्रेम उनसे कोसों दूर है।
चाल्र्स लैम्ब, रॉबर्ट लुई स्टीवेन्सन का लेखन, फैज़ अहमद 'फैज़' और रघुपति सहाय 'फिराक' गोरखपुरी की कविता, शायरी से भी वे शायद ही वाकिफ हों। आप टीवी चैनल्स व आजकल के गायकों को देख-सुनकर समझते होंगे कि उच्चारण को कितनी अहमियत दी जाती है। जूथिका राय के भजनों व जगमोहन (मित्रा) के गीतों को सुनने का अब किसके पास समय व रूझान है। गान्धार मूर्तिकला की क्या $खासियतें हैं और उस पर किस विदेशी कला का प्रभाव है, इसको जानकर आज की युवा पीढ़ी क्या करेगी।
स्कूलों में बच्चों को जो शिक्षक मिलते हैं, उनमें पहले जैसा समर्पण, सच्चाई व आदर्श व्यक्तित्व कम ही झलकता है। बाकी रही सही कसर टीवी, फिल्में, समाज और घर का वातावरण पूरी कर देते हैं।
युवा होते ही लोगों का जीवन उद्देश्य मात्र धन इकट्ठा करना रह जाता है, जो कि आजकल की कमरतोड़ महंगाई में सही माना जाता है। गाड़ी, बंगला, मोबाइल, इसप्लिट एसी, एलसीडी टीवी जुटाने व हांगकांग, बॉस्टन की यात्रा में उसका जीवन निकल जाता है। फिर भी मानव की स्थिति 'जल बिच मीन पियासी रे, मोहे देखत आवे हांसी' जैसी दिखती है। जीवन में सार्थकता की कमी खलती रहती है। जीवन- मूल्यों को छोडऩे पर आदमी जीवन की राह पर अकेला होता जाता है। सब कुछ हासिल करके भी उसके अन्दर खालीपन बना रहता है। तुलसीदास की 'ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां' की सुख सुन्दरता से वह वंचित रहता है।
महाराजा टीकमगढ़ ने अयोध्या में संगमरमर का कनक भवन बनवाया है, जहां रामजन्म स्तुति अति सुन्दर होती है। 'भये प्रकट कृपाला दीन दयाला कौशल्या हितकारी। हर्षित महतारी मुनि मन हारी अद्भुत रूप निहारी।' यह संस्कार बच्चों को अब कम ही सिखाये जाते हैं।
आजकल तरह- तरह के डे (दिन) मनाये जाते हैं
मदर्स डे, फादर्स डे, जाय ऑफ गिविंग वीक। पर इन अवसरों पर लोग तस्वीरें खिंचवाकर नुमाइश ज्यादा करते हैं। यह एक औपचारिकता है जो निभाई जाती है। माता-पिता और जरुरतमंदों की स्थिति जस की तस रहती है।
अब अब्दुर रहीम खाने खाना जैसे लोग आपको ढूंढे नहीं मिलेंगे। अकबर के नौ रतन, मनसबदार, विद्वान व दानी थे, तुलसीदास के पूछने पर उन्होंने जवाब दिया था 'देनहार कोई और है, भेजत है दिन रैन। लोग भरम हम पर करें, तासों नीचे नैन।' दान देते वक्त वो निगाहें नीचे कर लेते थे, ताकि दान लेने वाले के मन में हीन भावना न आए तथा उनके स्वयं के मन में दम्भ न आने पाए।
फै•ज ने जीवन का वर्णन कुछ यूं किया है-
'जिंदगी क्या किसी मु$फलिस की कबा है,
जिसमें हर घड़ी दर्द के पैबंद लगे जाते हैं।'

बढ़ती उम्र में हम इंतजार करते है कि कोई उसके पास आये, कोई पाती आये, लोगों में अपनेपन को तलाशते हैं। मिर्जा गालिब ने इस स्थिति को यूं दर्शाया है -
'शमा जलती है हर रंग में सहर होने तक।'
अब आपको बनावट नजर आयेगी, संबंधों में कोई गहरापन नहीं मिलेगा। अपनत्व, आदर भाव, लिहाज, समर्पण, नैतिक सत्मार्ग अतीत के हो गये हैं।
'झीनी-झीनी रे बीनी चदरिया
काहे का ताना काहे की भरनी...
दास कबीर जतन से ओढयो'
ज्यों कि त्यों धर दीनी चदरिया'

इसको समझने वाले आपको कम ही मिलेंगे।
संपर्क - ई-1 /172, अरेरा कॉलोनी, भोपाल - 462016, मोबाइल - 09425687444

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष