June 05, 2010

उदंती.com, जून 2010


उदंती.com,
वर्ष 2, अंक 11, जून 2010
**************
प्रकृति अपनी उन्नति और विकास में रुकना नहीं जानती और अपना अभिशाप प्रत्येक अकर्मण्यता पर लगाती है। - गेटे
**************

Labels:

2 Comments:

At 09 July , Blogger Devi Nangrani said...

Udanti hasil hui, samagri rochak evam pathneey aur jaankari ka bhandaar. shubhkamanon sahit..
Devi Nangrani

 
At 11 July , Blogger Dr.Manjari said...

पढने मे मन कही खो सा गया,बधाई हो

डॉ. मंजरी शुक्ल

manjarisblog.blogspot.com

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home