June 05, 2010

'लैला' ओ लैला कैसी तू लैला...

हिन्दी फिल्म का यह बहुचर्चित गीत लैला ओ लैला कैसी तू लैला हर कोई चाहे तुझसे मिलना अकेला... आज भी बड़े चाव से सुना जाता है। पर पिछले दिनों आने वाले लैला नाम के तूफान से तो चारो तरफ खौफ का वातावरण छा गया था, उससे मिलने की चाहत करना तो दूर की बात नाम सुनकर लोग खौफ खाने लगे थे।
भले ही पिछले दिनों आने वाले इस भयानक तूफान लैला के कमजोर पडऩे से सबकी सांस में सांस आ गई थी और एक भयानक तबाही से हम बच गए थे। पर एक सवाल तो आपके मन में भी आता होगा कि आने वाले इन तूफानों के इस तरह खूबसूरत नाम आखिर किस आधार पर रखे जाते हैं?
दरअसल 'तूफानों की आसानी से पहचान करने और इसके तंत्र का विश्लेषण करने के लिए मौसम वैज्ञानिकों ने उनके नाम रखने की परंपरा शुरू की है। अब तूफानों के नाम विश्व मौसम संगठन द्वारा तैयार प्रक्रिया के अनुसार रखे जाते हैं।' गौरतलब है कि बंगाल की खाड़ी और अरब सागर के ऊपर बनने वाले तूफानों के नाम 2004 से रखे जाने लगे हैं। विश्व मौसम संगठन ने आईएमडी को हिन्द महासागर में आने वाले तूफानों पर नजर रखने और उसका नाम रखने की जिम्मेदारी सौंपी है।'
इसी परंपरा के तहत लैला का भी नाम पड़ा। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार 'लैला का नाम पाकिस्तान ने भारतीय मौसम विभाग को सुझाया है। फारसी में लैला का मतलब काले बालों वाली सुंदरी या रात होता है।
क्षेत्रीय विशेषीकृत मौसम केंद्र होने की वजह से आईएमडी भारत के अलावा 7 अन्य देशों बांग्लादेश, मालदीव, म्यांमार, ओमान, पाकिस्तान, थाइलैंड तथा श्रीलंका को मौसम संबंधी परामर्श जारी करता है। 'आईएमडी ने इन देशों से साल दर साल हिंद महासागर और अरब सागर में आने वाले तूफानों के लिए नाम की लिस्ट मांगी थी। इन देशों ने अंग्रेजी वर्णमाला के क्रम के अनुसार नामों की एक लंबी लिस्ट आईएमडी को दी है। अब तक ये देश तूफानों की पहचान करने के लिए 64 नाम दे चुके हैं, जिसमें से 22 का उपयोग हो चुका है।' इसी लिस्ट के हिसाब से हिंद महासागर में आने वाले तूफान का नाम 'लैला' रखा गया । आपको यह भी बता दें कि अब जब अगला तूफान आएगा तो उसका नाम होगा- बांदू। यह नाम श्रीलंका ने सुझाया है।
गौरतलब है कि अमेरिका में तूफानों को नाम देने की प्रक्रिया 1953 में शुरू हुई थी।
मोरीस वेस्ट के जीवन का सार
संपूर्ण मानव बनने में सब कुछ लगा देना पड़ता है। इसलिए बहुत ही कम मनुष्य ऐसे होते हैं जिनमें इतना कुछ करने का प्रबोध या साहस हो?... सुरक्षा की तलाश को एकदम छोड़कर, मनुष्य को दोनों बाहें फैला कर जीवन के जोखिम को अपना लेना पड़ता है। मनुष्य को पीड़ा के अस्तित्व को अनिवार्य अंग के रूप में स्वीकार कर लेना होता है। शक और अंधकार को ज्ञान पाने का भुगतान मानना पड़ता है। संघर्ष में दृढ़ इच्छा शक्ति के साथ- साथ जिंदगी और मौत के हर नतीजे को भी बेहिचक तुरंत स्वीकार करने की क्षमता भी चाहिए होती है।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष