November 10, 2011

उदंती.com-नवम्बर 2011

उदंती.com-नवम्बर 2011




कला एक प्रकार का एक नशा है,
जिससे जीवन की 

कठोरताओं से
विश्राम मिलता है।
- फ्रायड 


**************


अनकही: नमन ... जो हमसे बिछड़ गए - डॉ. रत्ना वर्मा
श्रीलाल शुक्ल
जीवन वृत्त
राग दरबारी: एक गाँव की कथा -रवीन्द्रनाथ त्यागी
श्रीलाल शुक्ल की कहानी, उन्हीं की जुबानी
व्यंग्य: जीवन का एक सुखी दिन
कहानी: इस उम्र में - श्रीलाल शुक्ल
यादें: पहला पड़ाव और छत्तीसगढ़ -विनोद साव
भूपेन हजारिका
श्रद्धांजलि: दिल हूम हूम करे ... - सुप्रिया रॉय
कविता: सुर के पंछी, मेरी सांसों में संगीत है..., गीत- संगीत का जादूगर
जगजीत सिंह
मेरी आंखों ने चुना है तुझको...
स्मरण: अमर हो गई 'जग जीत' ने वाली आवाज़ - आलोक श्रीवास्तव

प्रेरक कथा: तीन छन्नियाँ
मनोज अबोध की ग़ज़लें
यात्रा वृतांत: टूटे पांव की पहाड़ी परीक्षा और ...- डॉ. परदेशीराम वर्मा
पिछले दिनों
पर्यावरण: दुनिया का कूड़ाघर बनता भारत - नरेन्द्र देवांगन
डॉ. शील कौशिक की लघुकथाएं
वाह भई वाह
नये युग में नया छत्तीसगढ़ - स्वराज्य कुमार
आपके पत्र
रंग बिरंगी दुनिया

Labels:

1 Comments:

At 04 December , Blogger Mahesh Dewedy said...

Vishayon ka ati sundar chayan- visheshtah Shreelal ji, Bhupen Ji, evam Jagjit Ji ka.
Samast aalekh stareey evam pathneey hain.
Badhai.

Mahesh Chandra Dewedy
1/137, Vivekkhand \, Gomtinagar
Lucknow

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home