November 10, 2011

नमन... जो हमसे बिछड़ गए

लगता है कला और साहित्य की इस दुनिया को किसी की नजर लग गई। पिछले दिनों हमारे देश को अपनी कला और रचनात्मकता से समृद्ध करने वाले तीन महान हस्तियाँ हमसे बिछड़ गईं। साहित्य की दुनिया में अपने शब्दों से समूचे तंत्र पर तीखी वार करने वाले श्रीलाल शुक्ल का लंबी बीमारी के बाद 28 अक्टूबर को निधन हो गया, वे 86 वर्ष के थे।
कुछ दिन पूर्व ही ब्रेन हेमरेज के इलाज के दौरान ग़ज़ल सम्राट जगजीत सिंह का निधन भी 10 अक्टूबर को हो गया था, वे 70 वर्ष के थे।
इसके बाद इसी माह 5 नवंबर को असमियालोकसंगीत के माध्यम से संगीत की दुनिया में जादुई असर करने वाले ब्रह्मपुत्र के महान कलाकार भूपेन हजारिका भी चले गए। वे 85 वर्ष के थे। तीनों अपने- अपने क्षेत्र के विलक्षण प्रतिभाशाली व्यक्तित्व के धनी कलाकार थे। तीनों को हमारी विनम्र श्रद्धांजलि।

श्रीलाल शुक्ल
हिंदी साहित्य में 'राग दरबारी' जैसी अनेक कालजयी रचनाएं लिखकर मशहूर होने वाले साहित्यकार श्रीलाल शुक्ल व्यक्ति, समाज और तंत्र की विकृतियों को व्यंग्य के मुहावरे के माध्यम से उद्घाटित करने में माहिर थे। राजनीतिक तंत्र की विकृति और भ्रष्टाचार के साथ आजाद भारत का निम्न मध्य वर्ग उनके लेखन का प्रमुख विषय रहा है, जिनकी जड़ें होती तो गांवों में हैं लेकिन जो परिस्थितियों की मार से पीडि़त हो खाने- कमाने के लिए छोटे- बड़े कस्बों अथवा शहरों में चला आता है। श्रीलाल जी ने अपनी रचनाओं में गाँवों की स्थिति का इतना यथार्थ चित्रण प्रस्तुत किया है कि पाठक पढ़ते हुए स्वयं को उस कथा का एक पात्र मानने लगता है।
आज जबकि भ्रष्टाचार को लेकर समूचे देश में आंदोलन और बहस का दौर जारी है, तो ऐसे में उनके उपन्यास 'राग दरबारीÓ का याद आना स्वाभाविक ही है। अन्ना हजारे जैसे समाज सेवी अपने भ्रष्टाचार विरोधी अंदोलन के जरिए जनजागरण का जैसा काम वर्तमान में कर रहे हैं, वैसा ही कुछ श्रीलाल शुक्ल ने 30- 40 साल पहले 'राग दरबारी' जैसी रचना के माध्यम से कर दिया था। श्रीलाल शुक्ल अपनी बात बिना लाग- लपेट के सीधी सच्ची भाषा में कहते थे। इसी ख़ूबी के चलते उन्होंने सरकारी सेवा में रहते हुए भी व्यवस्था पर करारी चोट करने वाली 'राग दरबारी' जैसी रचना हिंदी साहित्य को दी। यही कारण है कि गंभीर साहित्यिक कृतियों में श्रीलाल शुक्ल के उपन्यास 'राग दरबारी' को साठ के दशक से लेकर अब तक का एक रचनात्मक विस्फोट माना जाता है। इस उपन्यास ने पठनीयता के सभी कीर्तिमान तोड़ दिए हैं। तभी तो विलंब से ज्ञानपीठ का पुरस्कार दिए जाने पर साहित्य जगत में नाराजगी भी व्यक्त की गई, लेकिन यह भी सत्य है कि राग दरबारी भले ही कालजयी बन गया हो पर श्रीलाल जी ने विश्रामपुर का संत से लेकर मकान और राग विराग तक ऐसी अनेक रचनाएं समाज को दी हैं जो हिन्दी साहित्य की बहुमूल्य निधि हैं जिन्हें किसी भी तरह कमतर करके नहीं आंका जा सकता।
समाज के तिकड़म, संघर्ष और द्वंद्व का जीवंत चित्रण करने वाले श्रीलाल शुक्ल यदि बीमार न होते तो और भी बहुत कुछ लिखते ऐसे में उनका चले जाना साहित्य जगत में एक ऐसी क्षति है जिसे कभी नहीं भरा जा सकता।
जगजीत सिंह
कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनसे आप ता जिंदगी नहीं मिलते हैं लेकिन तब भी वे लोग आपकी रोजाना की जिंदगी का हिस्सा होते हैं। जगजीत सिंह भी ऐसे ही शख्सियत थे जिन्होंने ग़ज़ल को खास लोगों से निकालकर आम लोगों तक पहुंचाया। किसी नाजुक सी शायरी को जब वे अपने सुरीले गले से गाते थे तो लफ्क़ा मानों जिंदा हो उठते थे। उन्होंने गाया था- इश्क कीजिए फिर समझिये...। इन लाइनों को समझने के लिए आपके दिल में इश्क होना चाहिए। जगजीत सिंह को इश्क था ग़ज़लों से। उनकी ग़ज़लों में सुकून भरी रवानगी थी। जगजीत सिंह ने जिंदगी के गमों को झेला था। उन्होंने अपने इकलौते बेटे की मौत अपनी आंखों से देखा था, वह दर्द उनकी ग़ज़लों में झलकता था। भारत में ग़ज़ल की दुनिया में उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। उनका निधन गीत- संगीत की दुनिया के लिए बड़ी क्षति है।

भूपेन हजारिका
एक कवि, संगीतकार, गायक, अभिनेता, पत्रकार, लेखक, निर्माता और यायावर भूपेन हजारिका ने असम की समृद्ध लोक संस्कृति को गीतों के माध्यम से पूरी दुनिया में पहुंचाया। उनके निधन के साथ ही देश ने कला और संस्कृति के क्षेत्र की एक ऐसी शख्सियत खो दी है, जो ढाका से लेकर गुवाहाटी तक में एक समान लोकप्रिय थी।
भूपेन हजारिका ऐसी विलक्षण बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे, जिन्हें पुनर्जागरण का दूत कहा जा सकता है। ऐसे लोगों ने भारत में खासकर 19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध और 20वीं शताब्दी के पूर्वार्ध में भारत की राजनीति, दर्शन और संस्कृति को पुनर्परिभाषित करने और समृद्ध करने में बड़ा योगदान दिया। भारत में उत्तर- पूर्व के प्रति गहरी उपेक्षा और अज्ञान ने अलगाव को जन्म दिया है और इसकी वजह से भारत के लोग वहां की सांस्कृतिक समृद्धि के ज्ञान से वंचित रह गए हैं, ऐसे में भूपेन हजारिका ने जहां असमिया संस्कृति के संवर्धन में अमूल्य योगदान दिया, वहीं असमिया फिल्म उद्योग के आधारस्तंभ भी बनें। यह भी उल्लेखनीय है कि इतने गहरे रूप से असम से जुड़े होने के बावजूद हजारिका की अपनी पहचान एक महत्वपूर्ण अखिल भारतीय प्रतिभा की तरह थी, उन्हें सारे भारतवासी अपना मानते थे। इस मायने में उन्होंने उत्तर- पूर्व और शेष भारत के बीच अपरिचय की खाई को पाटने के काम में बहुत बड़ी भूमिका निभाई है। उनके निधन से हमने एक विचारवान और जनता से जुड़े कलाकार को खो दिया है।

उदंती का यह अंक देश के इन तीन महान रचनाकारों श्रीलाल शुक्ल, जगजीत सिंह तथा भूपेन हजारिका को श्रद्धांजलि स्वरूप समर्पित है। इन कालजयी रचनाकारों के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रबुद्ध लेखकों के सहयोग से कुछ विशेष सामग्री एकत्रित करने का प्रयास उदंती के सुधी पाठकों के लिए किया गया है।


-डॉ. रत्ना वर्मा

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष