November 10, 2011

आपके पत्र/ मेल बॉक्स

बेहतरीन अंक
अक्टूबर अंक की अनकही में 'विश्वसनीयता का अंधकार' पढ़कर यह कहना पड़ा कि सचमुच आज दुनिया से विश्वास लुप्त होता जा कहा है। विनोद साव का व्यंग्य 'गांधी, अंडा और मुर्गा' सुंदर व्यंग्य है। आज नाम के गाँधी तो बहुत हैं पर गाँधीवाद मर रहा है। 'ये चेहरा अपना सा लगता है' अच्छी सोच को दर्शाती कविता है लेकिन अफसोस अन्ना के साथी निजी कारणों के चलते अन्ना के साथ हैं न कि देश भक्ति के कारण, फिर अन्ना कोई विकल्प भी तो नहीं बता रहे, कहीं यह आंदोलन 1977 के आंदोलन जैसा न हो जाए। इसी अंक में प्रकाशित करमजीत सिंह की लघुकथाओं में पहली लघुकथा जहाँ इज्जत की रोटी खाने का संदेश देती है, वहीं दूसरी लघुकथा विदेशों में प्रवासियों की दशा का चित्रण करती है। हाइकु तो एक से बढ़कर एक हैं ही।
- दिलबाग विर्क, dilbagvirk23@gmail.com
सामाजिक सरोकार
उदंती पठनीय और अच्छी पत्रिका है। इसके सामाजिक सरोकारों से जुड़ी रचनाएं आकर्षण का केंन्द्र होती हंै। झारखंड के सामाजिक परिवेश से जुड़ा आर्टिकल मैं भी लिखना चाहूंगा। उदाहरण के लिए अपराध जगत को लें। सभी जानते हैं छत्तीसगढ़ की तरह झारखंड भी नक्सलियों के कब्जे में है। लेकिन यहां के ग्रामीण कितने सहृदय हैं इसका अनुमान शायद ही बाहरी दुनिया के लोग लगा पाते हैं। नक्सली घटनाओं को छोड़ दें तो कई ऐसे उदाहरण हैं जहां हत्या करके हत्यारा भागता नहीं, खुद पुलिस के पास जाता है और अपराध स्वीकार कर लेता है। यह अजूबा है। पिछले एक साल में मैंने सैंकड़ों ऐसी खबरें छापी हैं।
- संजय कुमार, sanjayjournalist@gmail.com
हाइकु: सर्दी की धूप जैसी जिंदगी
जीवन के विविध और गहन सन्दर्भों की बात की जाए तो मानवीय प्रेम सुख- दुख की गहनता को हाइकु जैसे छोटे छन्द में गम्भीरता और मार्मिकता से चित्रण करना कठिन है। भाषा की क्षमता की परख यहीं पर होती है। डॉ. हरदीप कौर सन्धु की भाषा, हृदय की धड़कनों से प्रकट होती है। अक्टूबर अंक में प्रकाशित उनके हाइकु इसका जीवन्त प्रमाण हैं।
- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु', rdkamboj@gmail.com
डॉ. हरदीप के हाइकु 'सर्दी की धूप जैसी जिंदगी' के बारे में कुछ लिखना सूरज को दिया दिखाना है। किस- किस के बारे में लिखूं शब्दों के बारे में या भावों के बारे में दोनों ही उत्तम हैं।
- रचना पाण्डेय, लखनऊ (यूपी)
सभी हाइकु एक से बढ़ कर एक हैं ....हरदीप हाइकु का नियमित और बहुत संतुलित लेखन करती हैं।
- डा.रमा द्विवेदी
हाइकु में प्यार, प्रकृति बहुत निखर कर आया है, उनके हाइकु की ये पंक्तियां पसंद आई - चप्पु न कोई
उमर की नदिया
बहती गई...
हार्दिक बधाई...
- डॉ. भावना कुंवर
bhawnak2002@gmail.com
यह जानकर प्रसन्नता हुई कि मेरे हाइकु आपको पसन्द आए और आपने प्रकाशित किया। आपके आत्मीय विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया। कोई भी कलम कुछ लिखने में तब सफल होती है जब उसकी बात पाठक के हृदय में प्रवेश करती है। मेरा प्रयास इसी दिशा में चलने का रहता है, जिसको समय- समय पर आप सभी के शब्दों से हुलारा मिलता रहता है। हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
- डॉ. हरदीप कौर सन्धु
shabdonkaujala@gmail.com
बार- बार पढऩे योग्य
रश्मि प्रभा की कविता 'विजयी मंत्र' बेहतर है, आशा भाटी का 'ये चेहरा अपना सा लगता है' उत्तम विचार है पर इसमें कविता कहाँ है? नडाला जी की पहली लघुकथा पूर्व में भी कहीं पढ़ी है ऐसा लगा, फिर भी उनकी दोनों ही लघुकथाएं बार- बार पढऩे योग्य हैं। बधाई..
- दीपक 'मशाल', mashal.com@gmail.com
विजयी मंत्र बहुत ही प्रेरक रचना है। काश हम सबको भी याद रहता है कि हम देश हैं, पार्टी या कोई जाति नहीं...।
- पूजा आर शर्मा, मध्यप्रदेश
नई उमंग
त्यौहार के रंगों से सजा महीना लेख में पल्लवीजी ने सच ही तो कहा है... हो सकता है कल की कोई घटना ऐसी रही हो जिसके कारण त्यौहार का उल्लास कम हो जाता हो। फिर भी त्यौहार जीवन में नई उमंग लाते हैं। बहुत ही सुंदर लेख है। उनके कुछ विचार अच्छे लगे-जैसे क्यों देवों को सुला दिया जाता रहा होगा। हम अभी भी कुछ बातों को बिना दिमाग लगाए मानते जा रहे हैं... पुराने जमाने में उन्हें करने के कारण रहे होंगे। पर अब ठोस कारण नहीं है तो भेड़ चाल चलना ठीक नहीं।
- कनुप्रिया गुप्ता, भोपाल kanubpl@gmail।com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष