June 05, 2010

आपके पत्र

मां और गौरैया के बहाने
हमेशा की तरह यह अंक भी बहुत ही मनभावन बन पड़ा है। मज़े की बात यह भी कि इस बार वेब से पहले छपी हुई प्रति हाथ में आ गई। गौरैया पर जानकारी और उसकी तस्वीरे बहुत सुंदर हैं।
लघुकथा आंदोलन के दौर में गंभीर जी का नाम लघुकथाकार के रूप में बहुत चर्चित था। बड़े दिनों के बाद उनकी लघुकथा पढ़कर अच्छा लगा। उनकी लघुकथा बड़ा होने पर बिना कुछ कहे ही बहुत सारी बातें कह गई है।
मां और गौरैया के बहाने कितनी सारी बाते रामेन्द्र जी इतनी सहजता से कह गए कि पता ही नहीं चला। बहुत सुंदर कविता। बधाई।
- राजेश उत्साही, बैंगलोर, utsahi@gmail.com
पर्यायवरण के लिए अलख
आपकी चिन्ता वाजिब है। उदन्ती के माध्यम से आप पानी और पर्यायवरण के लिए जो अलख जगा रही हैं , यह कार्य आपको अन्य सम्पादकों से अलग करता है। आपका कार्य पूरी तरह रचनात्मक है।
बड़ा होने पर और फ़ीस लघुकथाएं अपने अलग -अलग तेवर से प्रभावित करती हैं।
- रामेश्वर काम्बोज, सहज साहित्य, दिल्ली, rdkamboj@gmail.com
संरक्षण के लिए बहुत जरूरी
अपने नए- नए आयामों की ओर पाठकों का ध्यान खींचा है इसके लिए आपको जितना धन्यवाद दिया जाए कम है। आपने अनकही में जिन तीन विषयों को सहेजा है वे आज के परिवेश के संरक्षण के लिए बहुत जरूरी हैं । बधाई।
- डॉ. जयजयराम आनंद, अरेरा कालोनी, भोपाल
छत्तीसगढ़ की शान
उदंती में सामने जो चिडिय़ा बैठी है मानो छत्तीसगढ़ की शान में बैठी है इसे तो अभयारण्य में छोड़ देना चाहिए।
-देवेन्द्र तिवारी, रायपुर
मन को भा गयी
सुन्दर साज-सज्जा व बेहतर आलेखों के साथ उदंती तो मेरे मन को भा गयी!
- कृष्ण कुमार मिश्र, लखीमपुर, खीरी (उत्तर प्रदेश)
dudhwalive.com
दस्तावेजों में दर्ज
उदंती के मई अंक में गौरेया विशेषांक देखकर मुझे याद आया कि कभी छत्तीसगढ़ रायपुर के महंत घासीदास संग्रहालय में गौरेया की अधिकता दस्तावेजों में दर्ज हुई है।
- राहुल सिंह, रायपुर rahulsinghcg@gmail.com
काहे को ब्याही बिदेस
मनोज राठौर का लेख विदेशों में सुरक्षित नहीं है भारत की बेटियां पढ़कर मन खिन्न हो गया। हमारे देश में बेटियां आज भी पराई अमानत के तौर पर पाली जाती हैं तभी तो आजादी के इतने बरसो बाद भी न तो हम पूरी तरह से बाल विवाह रोक पाए न कन्या भ्रूण हत्या। और अब विदेशों में ब्याही जाने वाली बेटियों की समस्या पैदा हो गई है। लेकिन यह समस्या तो हमारे द्वारा ही पैदा की गई है जब हमें पता है कि एनआरआई शादी सिर्फ विदेशों में अपना पैर जमाने के लिए करते हंै और मकदस पूरा होते ही अपनी पत्नी को छोड़ देते हंै फिर भी क्यों हम ऐसे लड़कों को अपनी बेटियां सौंप देते हैं। बाल विवाह और भ्रूण हत्या तो हमारे देश में सामाजिक अंधविश्वासों और रूढ़ परंपराओं के चलते आज तक जिंदा है पर एनआरआई पतियों की चाहत कौन सी रूढि़ की देन है?
- पल्लवी, भिलाई

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष