June 05, 2010

क्या मनुष्य ईश्वर बनना चाहता है?

अमरीका में वैज्ञानिकों के एक दल ने प्रयोगशाला में कृत्रिम जिंदगी पैदा करके दुनिया के सामने एक हतप्रभ कर देने वाला करिश्मा पेश कर दिया है। ये वैज्ञानिक न सिर्फ जेनिटिक इंजीनियरिंग के जरिए जीवन की कृत्रिम नकल तैयार करने की कोशिश कर रहे हैं, बल्कि वह ईश्वर की भूमिका अदा करने की ओर भी बढ़ रहे हैं।
सिंथेटिक जीनोम से नियंत्रित होने वाली पहली बैक्टीरिया कोशिका तैयार करने वाले मैरीलैण्ड और कैलिफोर्निया के वैज्ञानिकों की टीम में तीन वैज्ञानिक भारतीय मूल के हैं। चौबीस सदस्यीय इस शोध दल के मुखिया डॉ. क्रेग वेन्टर हैं। भारतीय मूल के तीन वैज्ञानिक संजय वाशी, राधाकृष्ण कुमार और प्रशान्त पी. कुमार भी इस टीम के सदस्य हैं। ये वही वैज्ञानिक हैं, जिन्होंने इसके पहले मानव जीनों को श्रृंखलाबद्ध करके उन्हें डिकोड किया था।
शोध पर करीब 30 मिलियन डॉलर की लागत आई है और इस कृत्रिम कोशिका को बनाने में 15 साल लगे हैं। पूरी तरह सिंथेटिक क्रोमोसोम से तैयार की गई यह कोशिका चिकित्सा विज्ञान जगत में अद्भूत खोज साबित होगी।
वैज्ञानिकों ने एक बैक्टीरिया कोशिका के जीनोम का निर्माण किया है। इसके लिए उन्होंने 'माइक्रोप्लाज्मा माइकॉइड्स' नामक बैक्टीरिया के डीएनए को 'पढ़ा'। यह वह बैक्टीरिया है जो बकरियों को इन्फेक्ट करता है। वैज्ञानिकों ने डीएनए के एक-एक हिस्से को पुनर्निर्मित किया और फिर इन टुकड़ों को एक साथ जोड़कर उन्हें एक-दूसरी प्रजाति के बैक्टीरिया में प्रविष्ट कर दिया। वहां जाकर इस डीएनए में जीवन का अनुकरण शुरू हो गया, जिसकी बदौलत बैक्टीरिया ने मल्टीप्लाई करना शुरू कर दिया। इस प्रक्रिया में उस बैक्टीरिया की कई पीढिय़ां तैयार हो गईं, जो पूरी तरह कृत्रिम थीं। बैक्टीरिया में हस्तांतरित डीएनए में करीब 830 जीन थे, जबकि मनुष्य के जेनेटिक ब्लूप्रिंट में करीब 20000 जीन होते हैं।
वैज्ञानिकों ने प्रयोगशाला में उत्पन्न जीवन का नाम 'सिंथिया' रखा है। डॉ. वेंटर ने इस प्रक्रिया की तुलना कंप्यूटर की बूटिंग से की है। अब चूंकि डॉ. वेंटर ने अपने कॉन्सेप्ट को व्यावहारिक तौर पर सिद्ध कर दिया है, इसलिए वह जीवन के बेसिक ब्लूप्रिंट में रद्दोबदल करके अपनी मर्जी से किसी भी प्रकार के जीव रूप का निर्माण कर सकते हैं। जैसे कि घोड़े जैसी ताकत वाला मनुष्य या मनुष्य की तरह सोचने वाला चूहा या बीस पैरों वाला हाथी। डॉ. वेंटर का मानना है कि सिंथिया का निर्माण वैज्ञानिक और दार्शनिक दृष्टि से एक महत्वपूर्ण कदम है। इससे जीवन और उसकी कार्यपद्धति के बारे में हमारी सारी धारणाएं बदल गई हैं।
डॉ. वेंटर के अनुसार इससे नई औद्योगिक क्रांति आ सकती है अगर हम इन कोशिकाओं का इस्तेमाल कामकाज में कर पाएं तो उद्योगों में तेल पर निर्भरता कम हो जाएगी और वातावरण में कार्बन डाईआक्साईड भी कम हो सकती है। यह मानव और प्रकृति के बीच नया रिश्ता बनाने में महत्वपूर्ण कड़ी साबित होगी। इससे कैंसर सहित कई रोगों की दवाएं, ईधन बनाने और ग्रीन हाउस गैसों को रोकने में मदद मिलेगी। जैव ईधन तैयार करने में मददगार और पर्यावरण को दूषित करने वाले कारकों को समाप्त करने में सक्षम बैक्टीरिया भी बनाए जा सकते हैं।
प्रयोगशाला में विकसित इन शुक्राणुओं का गर्भ धारण कराने में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। क्योंकि ब्रिटेन में इसकी अनुमति नहीं है और इस पर कानूनन पाबंदी है। इन शुक्राणुओं का आगे कोई उपयोग हो सके, इसके लिए जरूरी है कि पहले उन भ्रूणों की गारंटी दी जाए जिनसे स्टेम कोशिकाएं लेकर शुक्राणु बनाए जाते हों। वैज्ञानिकों का कहना था कि ये चिंता करना कि हमारा मकसद इन शुक्राणुओं के इस्तेमाल से बच्चे पैदा करने का है, गलत है। हम जो कर रहे हैं वह पुरूषों में बंध्यता की समस्या को समझने की, शुक्राणुओं के विकास को समझने की कोशिश है।
लेकिन इस प्रयोग पर नैतिकता का सवाल उठाने वाले लोगों का कहना है कि इससे वैज्ञानिकों को 'भगवान की भूमिका' अदा करने की छूट मिल जाएगी। इस रिसर्च टेक्नॉलाजी के गलत हाथों में पडऩे का खतरा भी तो हो सकता है। मसलन नई तकनीक के जरिए जैविक हथियारों का निर्माण किया जा सकता है या जीवन के मौलिक स्वरूप से छेड़छाड़ की जा सकती है। संभव है कोई ऐसे जीवों का निर्माण होने लगे जो जुओं की तरह दुश्मन देश के नागरिकों के सिरों में डाल दिए जाएं और वे अपने जहरीले उत्सर्जन से दिमाग को नष्ट कर दें। वैज्ञानिकों ने कुछ समय पहले जब कृत्रिम मानव क्लोन बनाया था, तो उस समय भी उसके दुष्परिणामों को लेकर चिंता जताई गई थी। सुरक्षा कारणों को देखते हुए अमरीकी प्रशासन भी इसमें पूरी दखल दे रहा है। ओबामा ने राष्ट्रपति आयोग को इस विषय पर पूरी जानकारी रखने के निर्देश भी दिए हैं, ताकि इसके गलत इस्तेमाल को रोका जा सके।
(उदंती फीचर )

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष