April 27, 2009

लिंकन वर्सेस केनेडी

इतिहास कभी कभी कुछ ऐसी घटनाओं को एक दूसरे से जोड़ देता है कि हम दांतों तले उंगली दबाने को बाध्य हो जाते हैं। लिंकन और केनेडी के जीवन और मृत्यु से भी जुड़ी कुछ घटनाएं ऐसी हैं जो उन दोनों को एक दूसरे से कुछ इस तरह जोड़ देती हैं कि हम आश्चर्य से भर उठते हैं जैसे- दोनों की हत्या शुक्रवार को हुई और दोनों के सेक्रेटरी का नाम एक दूसरे के नाम पर था। इस तरह की कई घटनाएं हैं जो दोनों के जीवन में एक समान घटी और वह भी सौ साल का अंतर होने के बावजूद.....
- अब्राहम लिंकन कांग्रेस के लिए सन् 1846 में चुने गए।
- जॉन एफ केनेडी कांग्रेस के लिए सन् 1946 में चुने गए।
- अब्राहम लिंकन सन् 1860 में राष्ट्रपति बने।
- जॉन एफ केनेडी सन् 1960 में राष्ट्रपति बने।
- दोनों ही सामाजिक अधिकारों (सीविल राईट्स) के विषय में चिंतित थे।
- दोनों की पत्नियों ने व्हाईट हाऊस में अपने बच्चों को खो दिया।
- दोनों राष्ट्रपतियों की हत्या शुक्रवार को की गई।
- दोनों ही राष्ट्रपतियों को सिर पर गोली मारी गई।
अब कुछ अद्भूत...
- लिंकन के सेक्रेटरी का नाम केनेडी था
- केनेडी के सेक्रेटरी का नाम लिंकन था।
- दोनों राष्ट्रपतियों की हत्या साउथ अमेरीकनों ने की।
- दोनों की हत्या के बाद जॉनसन नाम के व्यक्ति राष्ट्रपति चुने गए।
- लिंकन के बाद राष्ट्रपति बने एन्ड़्र्यू जॉनसन का जन्म 1808 में हुआ था।
- केनेडी के बाद राष्ट्रपति बने लिंडन जॉनसन का जन्म 1908 में हुआ था।
- लिंकन के हत्यारे जॉन विल्क्स बूथ (John Wilkes Booth) का जन्म 1839 को हुआ था।
- केनेडी के हत्यारे ली हार्वे ऑस्वल्ड (Lee Harvey Oswald) का जन्म 1939 को हुआ था। इन दोनों के नाम में तीन- तीन शब्द थे और उनमें 15 वर्ण थे।
अब दिल थाम कर बैठिए!
- लिंकन की हत्या फोर्ड नाम के थियेटर में हुई थी और केनेडी की हत्या फोर्ड कंपनी की बनाई लिंकन कार में हुई थी।
- लिंकन के हत्यारे ने उनकी हत्या थियेटर में की और माल गोदाम में जाकर छिप गया, दूसरी ओर केनेडी के हत्यारे ने माल गोदाम से उनकी हत्या की और थियेटर में जाकर छिप गया।
-दोनों हत्यारे मुकदमें से पहले ही मारे गए।
कुछ और रोचक...
लिंकन की हत्या के एक सप्ताह पूर्व वे मोनरो मैरीलैंड में थे।
और मजेदार बात ये है कि केनेडी अपनी हत्या के एक सप्ताह पहले मैरीलीन मोनरो के साथ थे।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष