April 27, 2009

कांगड़ा सुगंधित ग्रीन टी

- प्रिया आनंद
नीलगिरि, दार्जिलिंग और कांगड़ा वैली की चाय के बीच कांगड़ा ग्रीन टी दार्जिलिंग चाय के बाद दूसरे नंबर पर आती है। यह स्वाद और सुगंध दोनों के आधार पर विशिष्ट है।
आप हिमाचल आएं तो यहां के चाय बगानों की खूबसूरती आपको मंत्रमुग्ध कर देगी। हिमाचल का प्रमुख उत्पाद कांगड़ा चाय है। जिसकी बात करते ही एक अलग तरह के फ्लेवर की याद आ जाती है। इसकी अनोखी सुगंध जो किसी दूसरी हरी चाय में नहीं है। हिमाचल के संसाधनों में कांगड़ा टी का स्थान प्रमुख है। यह एक आश्चर्यजनक सत्य है कि किसी समय कागड़ा चाय लंदन और एम्सटर्डम तक मशहूर थी।
इस चाय का इतिहास लगभग 160 साल पुराना है, जब अंग्रेज यहां आए तो यहां की जलवायु का अध्ययन करके उन्होंने पाया कि यह चाय के उत्पादन के बिल्कुल उपयुक्त है। उन्होंने यहां चाय के बागान लगवाने शुरु किए और उनके बेहतर प्रयासों से यह व्यवसाय फलने फूलने लगा। व्यवसाय नया था और फायदेमंद भी इसलिए स्थानीय लोगों ने भी इसमें रूचि ली। इस तरह कांगड़ा की हरी चाय का व्यापार लंदन और एम्सटर्डम तक पहुंच गया। अगर हम भारत की चाय का सम्मिलित आकलन करें तो नीलगिरि, दार्जिलिंग और कांगड़ा वैली की चाय के बीच कांगड़ा ग्रीन टी दार्जिलिंग चाय के बाद दूसरे नंबर पर आती है। यह स्वाद और सुगंध दोनों के आधार पर विशिष्ट है। अंग्रेजों के समय में इस चाय का उत्पादन जोरो पर था और इससे स्थानीय लोगों की भी अच्छी आय होने लगी थी। कांगड़ा में जब 1905 का भूकंप आया तो इसमें काफी जान-माल का नुकसान हुआ। बड़ी-बड़ी इमारतें किले और महल धाराशायी हो गए। अंग्रेज इस तबाही को देख कर डर गए तथा स्थानीय लोगों के हाथ औने-पौने दामों में चाय बागान बेच कर चले गए।
कहना न होगा कि यह हादसा कांगड़ा चाय पर काफी भारी पड़ा क्योंकि इसी के बाद कांगड़ा चाय के उत्पादन का ग्राफ गिरता चला गया। कांगड़ा चाय के व्यवसाय के पतन की रफ्तार अब भी जारी है तथा भरपूर प्रयासों के बाद भी इसे अब तक नहीं संभाला जा सका है। कारण कितने ही होंगे, पर उन्हें आसानी से विश्लेषित किया जा सकता है।
चाय की पत्तियां, बागानों से तोड़कर सीधी फैक्टरी में आ जाती हैं। इनके तोडऩे का समय अप्रैल से अक्टूबर तक है। फैक्टरी में लाने के बाद पत्तियों को रोलिंग प्रक्रिया में डाला जाता है, फिर आक्सीडेशन का काम शुरु होता है। इसके बाद इसकी ग्रेडिंग और पैकिंग होती है। वार्षिक, तैयार हरी चाय का उत्पादन पांच लाख किलोग्राम का ठहरता है, जो अब घट कर महज तीन लाख बीस हजार किलोग्राम रह गया है। यह आश्चर्य का विषय है कि इतनी बेहतर क्वालिटी की चाय होने पर भी कांगड़ा ग्रीन टी पूरे भारत में नहीं जाती। यही नहीं उत्पादन में कमी होने के कारण एक्सपोर्ट क्वालिटी की चाय भारत में ही रह जाती है। चाय की यह विशेष किस्म पर्यटकों के लिए ही रखी जाती है और वही इसे ले भी जाते हैं। गौरतलब है कि इसकी कुछ मात्रा अवश्य बाहर जाती है, पर यह एक दुखद सत्य है कि कांगड़ा चाय को थोक में खरीद कर उस पर मशहूर कंपनियों का लेबल लगाकर बाहर भेजा जाता है। यानि कि कांगड़ा चाय अगर अब बाहर जाती भी है तो कांगड़ा ग्रीन टी के नाम से नहीं, किसी और नाम से बिकती है।
कांगड़ा में चाय की पहली फैक्टरी 1980 में लगी। पहले कुटीर उद्योग के तहत ही काम चलता रहा। लोग तब भी निजी व्यवसाय के आधार पर इस उद्योग में शामिल थे। इसके बाद बीड़, बैजनाथ और सिद्धबाड़ी में फैक्टरिया खुलीं। तब कुल छह फैक्टरियां थीं जिनमें चार को-आपरेटिव थी और दो निजी हाथों में चल रही थी। ये दोनों ही निजी फैक्टरियां ग्रीन टी बना रही थीं। कुछ समय तक तो यह सिलसिला चला, पर ग्रीन टी का मार्केट डाउन होते ही इन दोनों फैक्टरियों में भी ब्लैक टी बनाना शुरू कर दिया।
एक अंतराल ले कर बीड़, बैजनाथ और सिद्ध बाड़ी की फैक्टरियां बंद हो गई, साथ ही चाय के उत्पादन भी ढीले पड़ गए। जाहिर है जब उन्हें अपने उत्पाद का पैसा ही नहीं मिलता था तो यह काम क्यों करते...? अगर वे चाय का उत्पादन करते भी तो उसकी खपत कहां होनी थी? इसलिए स्थानीय चाय उत्पादक चाय का काम छोड़, आजीविका के दूसरे संसाधन तलाशने में लग गए। यही इस व्यवसाय के पतन की शुरुआत थी। चाय उत्पादकों ने अपने पुश्तैनी व्यवसाय से मुंह मोड़ा और उधर चाय की झाडिय़ों का पूरा जंगल खड़ा हो गया। कहना न होगा कि इसमें बदलते हुए सामाजिक परिवेश ने भी भूमिका निभाई। धीरे-धीरे परिवार एकल व्यवस्था की ओर मुड़े, संयुक्त परिवारों का चलन खत्म होता गया और साथ मिलकर काम की परंपरा भी समाप्त हो गई। कुटीर उद्योग के आधार पर जो हरी चाय का व्यवसाय लोगों के लिए किसी खजाने से कम नहीं था वह अब विघटन की कगार पर आ गया है। कांगड़ा ग्रीन टी के इस गिरते ग्राफ की ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया। इसके बावजूद कांगड़ा चाय का अस्तित्व बाजारों में बना रहा, इसे पसंद करने वाले खरीदते भी रहे और इसे इस्तेमाल भी करते रहे। हाल में कुछ निजी व्यवसायियों ने सिद्धबाड़ी और बैजनाथ की फैक्टरियों को लीज पर लिया है और इनमें काम भी शुरू हो गया है। यही नहीं, यहां से चाय एक्सपोर्ट भी हो रही है। आमतौर पर कांगड़ा ग्रीन टी की कीमत 320 रुपए प्रति किलो है जबकि एक्सपोर्ट क्वालिटी की चाय 3000 रुपए किलो बिकती है। प्रदेश के इस हसीन और मजबूत आर्थिक उत्पादन का ग्राफ क्यों गिरा, इसका सबसे पहला जवाब तो यही है कि इसकी पैकिंग का स्वरूप ही निर्धारित नहीं है। हिमाचल की इस चाय की पैकिंग अलग-अलग तरह की है इसलिए यह निर्धारित करने में बेहद मुश्किल होती है कि हम किस क्वालिटी या ब्रांड की चाय खरीद रहे हैं। गौरतलब है कि एक्सपोर्ट क्वालिटी की चाय ज्यादातर पर्यटकों के द्वारा ही खरीदी जाती है। इससे पहले मोनाल चिडिय़ा वाले कार्टन के पैक में चाय अधिक पसंद की जाती थी, अब उसकी जगह साधारण पैकिंग्स ने ले ली है। आप इसे अनाकर्षक पैकिंग भी कह सकते हैं, देखकर यही अनुमान लगाना मुश्किल हो जाता है कि यह कांगड़ा चाय होगी। दरअसल सच तो यह है कि हम अपनी चीजों की कीमत ही नहीं जानते, फिर अगर बेहतरीन कांगड़ा टी सिर्फ देसी चाय बन कर रह जाए तो क्या आश्चर्य?
कारणों में नंबर दो पर आता है कि इस चाय को सही पब्लिसिटी नहीं मिली। सबसे पहले तो मार्केट के हिसाब से इस चाय की गुणवत्ता सुधारनी होगी, इसी के साथ अगर इसका डिमांस्टे्रशन विदेशों में किया जाय तो इस उत्पादन को जीवनदान मिल सकता है। मार्केट में आगे बढऩे के लिए जो प्रतिद्वंदिता चाहिए उसकी भी कमी है। इन सारी बातों पर जब तक पूरी तरह ध्यान नहीं दिया जाता तब तक इस व्यवसाय में सुधार की आशा बेमानी है। एक बात और भी ध्यान देने योग्य है कि जब तक टी प्लांटर्स को उनके माल की सही कीमत नहीं मिलती तब तक इसके विकास की बात नहीं सोची जा सकती। किसी समय यह व्यवसाय लघु कुटीर उद्योग का रूप ले चुका था जो अब समाप्त प्राय: है। इसके बावजूद ग्रीन टी बनाने वाली 80 के करीब छोटी यूनिटें अब भी काम कर रही हैं।
यह कांगड़ा चाय का दुर्भाग्य है कि दार्जिलिंग के बाद दूसरे नबंर होने के बावजूद इस चाय को वह अहमियत नहीं मिली जो इसे मिलनी चाहिए। इस उत्कृष्ट चाय का उत्पाद जो गिरा तो संभलने में ही नहीं आया। यहां की टी बोर्ड सभी सुविधाएं बागबानों को देने को तैयार है और देता भी है, पर उसका कोई सुखद परिणाम नजर नहीं आ रहा। टी प्लांटर्स के लिए 25 प्रतिशत सबसिडी का प्रावधान है, यह सबसिडी अलग-अलग कामों के लिए दी जाती है। हां यह जरुर है कि एक बार सबसिडी देने के बाद 20 सालों तक नहीं दी जाती। चाय के बागों की बात करें तो इस समय कुल 25 हेक्टेयर जमीन इस के लिए बची है जिसमें भी 53 प्रतिशत पर ही काम चल रहा है। गौरतलब है कि इसका हालिया सर्वे भी नहीं हुआ कि इसकी हालत सुधारने के बारे में कुछ सोचा जा सके।
बागबानों को यह सबसिडी रीजुविनिएशन और रीप्लाटेंशन के लिए दी जाती है। रीजुविनिएशन में चाय की झाड़ी की छंटाई जमीन से होती है और इसकी सबसिडी की राशि 16 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर है जबकि रीप्लाटेंशन में पूरी झाड़ी उखाड़कर नया पौधा लगाया जाता है। रीप्लाटेंशन के लिए मिलने वाली सबसिडी की राशि 62 हजार प्रति हेक्टेयर है।
मुश्किल यह है कि अच्छा उत्पाद पाने के लिए चाय बागबानों ने अब तक रीप्लाटेंशन ही नहीं किया है। पहले की ही चायना बुश लगी हुई है तथा उसी को मेंटेन कर के काम चलाया जा रहा है। ऐसी स्थिति में चाय के अधिक उत्पादन और बेहतरीन गुणवत्ता की आशा कैसे की जा सकती है....? दरअसल चाय की झाड़ी तैयार करने में कम से कम पांच साल का वक्त लगता है यही गैप बागबान लेना नहीं चाहते। ऐसे में कांगड़ा ग्रीन टी के जरिए सुधारने की बात बेमानी है। कांगड़ा टी का विकास तभी हो सकता है जब प्रशासन, बागबान और उपभोक्ता के बीच सही तारतम्य स्थापित हो वरना यह खजाना हमारे हाथ से निकल जाएगा।
इधर चाय उत्पादक संघ ने यह तय किया है कि कांगड़ा चाय का एक प्रतीक चिन्ह होना ही चाहिए, ताकि कांगड़ा वैली चाय को किसी और नाम से न बेचा जा सके। अगर ऐसा हो जाता है तो बागवान इस चाय की मांग को व्यवस्थित तरीके से तैयार कर सकेंगे और उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। ऐसा जी आई सी की मान्यता मिलने से हुआ है। संभवत: कांगड़ा चाय के संदर्भ में इसे सकारात्मक माना जाना चाहिए।
सुनने में यह भी आया है कि अमरटेक्स अपने सभी शोरुमों में यह चाय बेचने की योजना बना रहा है जहां इसे कांगड़ा चाय के नाम से ही बेचा जाएगा। कहना न होगा कि यह एक अच्छी खबर है और इससे इस चाय को नवजीवन मिलेगा। अगर हिमाचल सरकार सचमुच आर्थिकी का एक मजबूत संसाधन विकसित करना चाहती है तो उसे इस तरफ पूरा ध्यान देना होगा साथ ही बागबानों को भी उत्साहित करना होगा। कांगड़ा चाय, हिमाल की खूबसूरत पहचान है इस पहचान को बनाए रखना सरकार की जिम्मेदारी है।
संपर्क: दिव्य हिमाचल, पुराना मटौर कार्यालय, कांगड़ा पठानकोट मार्ग, कांगड़ा (हिमाचल प्रदेश)176001 फोन नं. 09816164058

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष