April 27, 2009

शिक्षण संस्थानों में रैगिंग का वाइरस

युवक युवतियों को शिक्षण संस्थानों में इसलिए भेजा जाता है कि वे समाज के लिए उपयोगी, शिष्ट एवं सुसंस्कृत सदस्य बनें, लेकिन पिछले कुछ दशकों से कॉलेज एवं विश्वविद्यालयों में नए छात्र- छात्राओं के साथ जो कुछ होता है उससे सिर शर्म से झुक जाता है। पिछले दिनों रैगिंग के नाम पर हिमाचल प्रदेश में अमन काचरु बलि चढ़ गया तथा आंध्र की एक लड़की ने रैगिंग के बाद मानसिक रुप से त्रस्त होकर अपनी जान गंवा देनी चाही। देश भर से आवाज उठी कि दोषियों को कड़ी सजा दी जाए। युवा वर्ग भी इस घटना के विरोध में सड़क पर उतर आए, लेकिन हर साल रैगिंग को लेकर इस तरह के मामले उजागर होते हैं और कुछ दिन के हो- हल्ला के बाद कहीं गुम हो जाते हैं। लेकिन जब तक इस जानलेवा बीमारी को जड़ से उखाड़ फेंकने हेतु सख्ती नहीं बरती जाएगी तब तक इस पर अंकुश लगाने के ऐसे प्रयास निरर्थक होंगे।

हिंसा का रुप अख्तियार करती जा रही रैगिंग युवाओं की विकृत होती मानसिकता का परिचायक है। आधुनिकता के नाम पर अश्लील शारीरिक हरकतें, पीडि़त को शारीरिक रुप से नुकसान तो पंहुचाती ही हैं उससे कहीं ज्यादा नुकसान मानसिक स्तर पर होता है। उच्च शिक्षा प्राप्त करने गए युवा ऐसी हरकतों के जरिए किस तरह से देश के विकास में भागीदार बनेंगे, यह सोचने वाली बात है। प्रश्न यह उठता है कि शिक्षण संस्थाएं इतने गंभीर मसले पर अंकुश क्यों नहीं लगा पा रहीं हैं? सरकारें भी इस मुद्दे को वैसी गंभीरता से नहीं लेती जैसा कि अन्य मामलों पर वह पहल करती हंै। शायद इसीलिए भारत सरकार के एडीशनल सॉलीसिटर जनरल गोपाल सुब्रह्मण्यम को कहना पड़ा कि अगर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन हो तो रैगिंग के राक्षस को रोका जा सकता है।
गोपाल सुब्रह्मण्यम का कहना बिल्कुल सही है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट का हर आदेश भी कानून होता है। रैगिंग को अपराध की श्रेणी में भी रखा जा चुका है अत: इस पर कोई बहस- या चर्चा की गुंजाइश ही नहीं बचती कि इसे लागू किया जाए या न किया जाए। हर हाल में इस कानून का पालन किया जाना ही चाहिए। लेकिन अफसोस की बात है कि मामला जब मौत पर आकर रुकता है तब कहीं जाकर लोगों की नींद खुलती है। इसका तो यही मतलब निकाला जाएगा कि डॉक्टर मरीज का इलाज तभी करेगा जब वह मरने की कगार पर होगा।
रैगिंग के ऐसे मामले ज्यादातर मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज में सुनाई देते हैं। जहां हर जुनियर छात्र एक वर्ष तक अपने सीनियर्स की ज्यादती झेलते हुए चुप रहने को बाध्य होता है क्योंकि उन्हें अपना पहला साल खराब होने का डर बना रहता है, कोई भी इसके विरोध में सामने आने को तैयार नहीं होता। लेकिन हर जुनियर सीनियर बनते ही रैगिंग लेने के लिए तैयार हो जाते हैं, यह कहते हुए कि हमने भी भुगता है, उसका बदला तो लेंगे ही। .... इस तरह यह सिलसिला कभी थमता ही नहीं। युवाओं का यह आचरण मानवीय सभ्यता के विपरीत है। मानवीयता के विपरीत जा रही इस सामाजिक विकृति को हर हाल में यहीं रोक देना होगा। कारण इस परंपरा ने वर्तमान में जो रुप अख्तियार कर लिया है वह अब सामाजिक जागरुकता और कम उम्र की गलती बता कर माफ कर देने से नहीं रुकने वाली। यह तभी संभव है जब रैगिंग के लिए बने कानून का पालन करते हुए रैगिंग के लिए जिम्मेदार युवक एवं युवतियों को ऐसी कठोर सजा दी जाए कि वह सजा समाज के लिए मिसाल बन कर सामने आए, ताकि कोई भी छात्र या छात्रा रैगिंग लेने की कल्पना मात्र से भय खाए।
फिलहाल तो रैगिंग की उपरोक्त दोनों घटनाओं के बाद सुप्रीम कोर्ट ने देश भर की शिक्षण संस्थानों के लिए जो नया आदेश जारी किया है, उसे देखते हुए एक उम्मीद की किरण जागी है। उन्होंने कहा है कि जो संस्थान रैगिंग रोकने में असमर्थ हैं उनकी मान्यता रद्द की जाए एवं उनको दी जाने वाली वित्तीय सहायता भी रोक दी जाए। राघवन समिति द्वारा सुझाए गए दिशा-निर्देशों पर अमल करने के साथ शिक्षण संस्थानों में प्रवेश के समय प्रॉस्पेक्टस में रैगिंग संबंधी नियमों को प्रकाशित करने भी कहा है। उनके इन आदेशों तथा रैगिंग के बाद हुई मौत का परिणाम यह हुआ है कि हिमाचल प्रदेश की सरकार ने रैंगिंग के खिलाफ अध्यादेश जारी कर दिया है, जो इसे रोकने की दिशा में उठा पहला वैधानिक कदम है।
इसके साथ- साथ अब समय आ गया है कि हमारे शिक्षण संस्थानों में नैतिकता की शिक्षा भी दी जाए खासकर मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज में इसे अनिवार्य विषय के रुप में शामिल किया जाए। इस संदर्भ में डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के जीवन की एक घटना का उल्लेख करना यहां सामयिक होगा- डॉ. कलाम जब इंजीनियरिंग पढऩे के लिए मद्रास गए तो उनके प्रोफेसर ने उनसे कहा कि तकनीकी शिक्षा प्राप्त करके तो तुम सिर्फ एक अच्छे तकनीशियन बनोगे पर यदि अच्छे इंसान भी बनना चाहते हो तो तुम्हें साहित्य भी पढऩा चाहिए। प्रोफेसर की इस बात को अब्दुल कलाम ने जीवन भर याद रखा और इंजीनियरिंग की पढ़ाई के साथ साहित्य को भी अपने जीवन में शामिल किया, जिसका असर हम उनके जीवन एवं उनके कार्यों में प्रत्यक्ष देख ही रहे हैं। अत: कॉलेजों में साहित्य, संस्कृति और कला जैसे मानवीय भावनाओं से जुड़े विषयों को भी पढ़ाया जाना चाहिए ताकि हमारी युवा पीढ़ी यह समझ सके कि आधुनिकता का अर्थ अनाचार नहीं होता।
श्रेष्ठ आचरण के बिना शिक्षा अधूरी है।

- रत्ना वर्मा

3 Comments:

राजेश उत्‍साही said...

रत्‍ना जी आपने सही समय पर सही मुदृदा उठाया है। पिछले दिनों एक पुराने मित्र लाल्‍टू से, जो जाने माने कवि भी हैं,मुलाकात हुई। वे हैदराबाद में ट्रिपल आई टी प्रोफसर हैं। मेरे छोटा बेटा आई आई टी की तैयारी कर रहा है। इस संदर्भ में बात निकली तो उन्‍होंने बताया कि उनके संस्‍थान में रेंगिग जैसा कुछ नहीं होता। बल्कि छात्रों को पहले ही साल जीवनविद्या नामक एक कोर्स करवाया जाता है। जिसमें जीवन के विभिन्‍न तत्वों तथा जीवन मूल्‍यों का परिचय करवाया जाता है। मुझे लगता है अन्‍य संस्‍थानों को इस संस्‍थान से कुछ सबक लेना चाहिए।

दीपक said...

एक विचारणीय सत्य है यह !!

श्याम कोरी 'उदय' said...

... सही मुद्दा, प्रभावशाली लेख ... यह आशा है कि आने वाले समय मे निश्चिततौर पर रैगिंग पर अंकुश लगेगा, यह एक तरह से घोर निन्दनीय कृत्य है, अमानवीय हरकत करने वाले छात्रों को कठोर दण्ड मिलना चाहिये ।

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष