March 21, 2009

इस अंक के रचनाकार



आचार्य रमेन्द्रनाथ मिश्र



44 वर्षों से अध्यापन से सम्बद्ध रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर। पूर्व विभागाध्यक्ष इतिहास, प्राचीन भारतीय, संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग व संकाय। पूर्व अध्यक्ष मध्यप्रदेश इतिहास परिषद, भोपाल। साहित्य, इतिहास, संस्कृति आदि पर लेखन, संपादन एवं प्रकाशन। संप्रति - अध्यक्ष, महाकौशल, मध्यप्रदेश इतिहास परिषद (1920), सदस्य छत्तीसगढ़ी राज्यभाषा आयोग छत्तीसगढ़ शासन, रायपुर पता : विश्वविद्यालय परिसर रायपुर। फोन : 0771-2262636, मो. 98271 79479

रमेश शर्मा



शिक्षा - बीए, बीजे, 1983 से सक्रिय पत्रकारिता, युगधर्म रायपुर से शुरुआत, 1985 में दिल्ली प्रस्थान, वहां 1986-88 तक सुमन सौरभ पत्रिका का प्रभार, फिर दो वर्षों तक जमकर फ्रीलासिंग और नगण्य नौकरियां करते हुए 1991 में राष्ट्रीय सहारा में ठहराव मिला, राज्य बनते ही 2003 में छत्तीसगढ़ वापसी, खबरों और विश्लेषण में खास दिलचस्पी संप्रति - ब्यूरो प्रमुख, राष्ट्रीय सहारा दैनिक, छत्तीसगढ़। ईमेल : sharmarameshcg@gmail.com
अंजीव पांडे



जन्म तिथि - 01.01.1968, कार्य - अमृत संदेश में बतौर संवाददाता पत्रकारिता के कैरियर में कदम रखा। पत्रकारिता को तकनीकी रूप में समझने का मौका नवभारत, नागपुर से मिला। यहां लगभग 10 वर्ष तक संपादकीय विभाग के विभिन्न डेस्क पर कार्य किया। सकारात्मक और रचनात्मक पत्रकार के रूप में पहचान। युगधर्म, नागपुर तथा दैनिक भास्कर नागपुर से भी अल्प समयावधि के लिए संलग्न रहा। संप्रति- जनसत्ता, रायपुर में सिटी चीफ के पद पर कार्यरत। पता - जनसत्ता, आदर्श नगर, विधानसभा मार्ग, मोवा, रायपुर (छ.ग.) फोन (का.) 0771-2284929
ईमेल : anjeevpandey@yahoo.com

शैफाली

शिक्षा- माइक्रोबायोलॉजी में स्नातक कार्य- वेबदुनिया डॉट कॉम में तीन वर्षों तक उप-सम्पादक, आकाशवाणी एवं दूरदर्शन कार्यक्रमों में संचालन, स्वतंत्र लेखन। रूचि- काव्य सृजन, काव्य पठन, अमृता प्रीतम, ओशो साहित्य एवं आध्यात्म का अध्ययन करना पता- शैफाली (नायिका), c/o विनय नायक, 22, संगम कॉलोनी, बलदेव बाग, जबलपुर (म.प्र.)।

जया जादवानी


जया जादवानी हिन्दी की उन विरल लेखिकाओं में से है जिनकी रचनाएं मनुष्य के अंतर्मन की यात्राएं करती हैं। अनुभूतियों के कोमल संपदनों को बुनने वाली जया का जन्म 1 मई 1959 कोतमा में हुआ। जीवन की रागात्मकता का उत्सव रचने वाली, उसे आध्यात्म प्रत्ययों की रोशनी में देखने वाली जया को तत्वमसि उपन्यास से लोकप्रियता मिली। उनके कथा संग्रह अन्दर के पानियों ने कोई सपना बहता है, मुझे होना है बार-बार, उससे पूछो, मैं अपनी मिट्टी में खड़ी हूं कांधे पे अपना हल लिए, की कहानियों ने प्रतिभूत कर देनेवाली संवेदना अर्पित की है। उनके कविता संग्रह मैं शब्द हूं, अनंत संभावनाओं के बाद भी और उठाता है कोई एक मुट्ठी ऐश्वर्य इसका परिचायक है। उनकी कई कहानियों पर वृत्तचित्र बने हैं, वे कई संस्थानों से पुरस्कृत हुई हैं । उन्होंने हिमालय के अत्यंत बीहड़ व मनोरम स्थल की यात्राएं की हैं। उनके भीतर एक ऐसी आतुरता और भावाकुलता सांस लेती है जो सदैव किसी अच्छी रचना के लिए प्रतिश्रुत रहती है। इन दिनों वे बी-1/36 वीआईपी स्टेट, विधानसभा मार्ग रायपुर छत्तीसगढ़ में रहती हैं।

संजय तिवारी


संजय तिवारी के अनुसार अभी तक मानव सभ्यता ने जितने भी मीडिया माध्यमों का उपयोग किया है उनमें से अनूठा, प्रभावी और सर्वगुण संपन्न है इंटरनेट। विस्फोट.कॉम के माध्यम से वे जनहित के मुद्दों को उठाने का कार्य कर रहे हैं। पठन के लिये वे पसंद करते है रामचरित मानस, श्रीमद्भगवतगीता, योग वशिष्ठ, कर्म संन्यास, भारत की आत्मा, राग दरबारी, मुंशी प्रेमचंद, कबीर, एक वायलिन समंदर के किनारे एवं भक्ति योग सागर।
ईमेल : sanjaytiwari07@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष