February 23, 2012

लघुकथाएं - रचना गौड़ 'भारती'

1. चाहत

मांझी काकी की फरमाबदार बेटियों के सागर से वो प्यास सारी जिन्दगी नहीं बुझी जो बेटे नाम की एक बूंद के अमृत से बुझती। हर पल उसकी जबान पर यही रहता बेटा होता तो और बात होती। शांति आंटी के दोनों बेटों की आज्ञाकारिता के बचपन से उनकी लड़कियों ने ऐसे किस्से सुने, पर आखिर में क्या हुआ कि श्रवण कुमार मां- बाप को अग्नि तक देने नहीं आ पाए। और उधर जमनाबाई का लड़का बहू उसे धक्के देकर हरिद्वार के आश्रम में छोड़ आए।
हालांकि मांझी काकी की पड़ोसन रुकमणी अपने बेटों के पास रह रही थी। क्योंकि जायदाद अभी उसके ही नाम थी, इतनी सी सच्चाई मांझी काकी नहीं समझना चाहती थी। किसी के भी बच्चा होने वाला होता उनकी आंखें मोतियों सी चमकने लगती यह कहते हुए देख लेना- बड़ी भागवान है, बेटा ही होगा। मांझी की देवरानी के दो लड़के थे, लेकिन समय की मांग के कारण आज$ादी से अलग रह रहे थे, पर मांझी की तो एक ही रट- भई उन्हें क्या कमी उनके तो दो- दो बेटे हैं। एक दिन मांझी काकी बीमार हो गईं, दोनों बेटियां उनके पास आ गईं, सेवा-सुश्रुसा करके उन्हें खड़ा किया। ऐसे में मोहल्ले से एक पड़ोसन आई- 'लो काकी मुंह मीठा कर लो राधव बाप बन गया है।' मांझी काकी ने लड्डू मुंह तक ले जाते हुए पूछा- 'क्या लड़का हुआ है।' पड़ोसन-'नहीं, काकी लक्ष्मी आई है घर में।' काकी के हाथ से लड्डू छूट गया।

2. पराया सम्मोहन

हिन्दी भाषा पर शोध कर रहे प्रो. माणक अभी बिस्तर पर लेटे ही थे कि पास के घर से दो नारियों की व्यथा उनके कान में पड़ी। एक कह रही थी -'नारी होने का दुख उठा रही हूं , जिसे देखो पीछे पड़ जाता है जैसे उसकी अपनी जागीर हो'।
दूसरी- 'हां यह सच है अपनी पत्नी में चाहे सब गुण मौजूद हों मगर भाती दूसरी ही है।'
पहली-'ये लोग यह नहीं समझते पराई स्त्री पराई ही रहेगी कभी इनकी हो नहीं पाएगी फिर भी मन- संतोष के लिए सिर मारते रहते है।'
दूसरी- 'कुछ लोगों की आदत होती है झूठन खाने की वह छूटती ही नहीं। दूसरे की थाली का व्यंजन सभी को अच्छा लगता है।'
यह बात प्रो. माणक का दिमाग मथ गई, उन्हें क्लू मिल गया था, तुरंत लिखने बैठ गए। उन्हें सब जगह अपना ही विषय नजर आता और हर बात विषयान्तर्गत। अत: उन्होंने हिन्दी भाषा व अंग्रेजी भाषा को घरवाली व बाहरवाली के रुप में ढाल लिया। अपने लेख में इन पंक्तियों पे जोर देकर लिखा 'हिन्दी (घरवाली) में स्फूर्ति है, तेजी है, लचक है और फिर भी लोग अंग्रेजी (बाहरवाली) के दीवाने हैं। अंग्रेजी पराई है कभी अपनी नहीं हो सकती फिर भी माथा मारे जा रहे है।'

संपर्क: ए -178, रिद्घि सिद्घि नगर ,कुन्हाड़ी, कोटा (राज.) 324008
मो. 94147 46668, Email: racchu68@yahoo.com

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष