उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Dec 6, 2020

उदंती.com, दिसम्बर-2020

चित्र- सुधा भार्गव
वर्ष- 13, अंक- 4

अगर आप आपदाओं के बारे में सोचेंगे, तो वह आ ही जाएगी, अगर आप मृत्यु के बारे में गंभीरता से सोचते हैं, तो आप अपनी मौत की ओर बढ़ने लगते हैं, जब आप सकारात्मक और स्वेच्छा से सोचेंगे, तब  विश्वास और निष्ठा के साथ आपका जीवन सुरक्षित हो जाएगा।    

-स्वामी विवेकानंद 


 अनकहीः जाते हुए साल में... - डॉ. रत्ना वर्मा

आलेखः घृणा का स्थान - प्रेमचंद

स्मरणः साहित्य  के मूक साधक- पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी - विनोद साव

आलेखः छत्तीसगढ़ और उड़ीसा की साझी संस्कृति - प्रो. अश्विनी केशरवानी

जयंतीः डॉ. राजेन्द्र प्रसाद - शुचिता का सफ़रनामा - विजय जोशी 

किताबेंः जाबाज़ वीरों की सत्य कहानियाँ - स्वराज सिंह

कहानीः  पूरा चाँद अधूरी बातें -भावना सक्सैना

ग़ज़लः अधूरा रह गया - रमेशराज

लघुकथा ः 1- प्रहरी, 2मतदान से पहले - श्याम सुन्दर अग्रवाल

नवगीतः जागो! गाँव बहुत पिछड़े हैं  - शिवानन्द सिंह सहयोगी

क्षणिकाएँः  वक्त की रेत पर, छोड़ने  हैं निशाँ...! - प्रीति अग्रवाल

लघुकथाः अंतिम अहसास -पूनम सिंह

कविताः आखिरी पन्ना -रमेश कुमार सोनी 

क्षणिकाएँः  स्मृतियाँ रश्मि शर्मा

व्यंग्यः दया के पात्र -विनय कुमार पाठक

कविताः हाँ मैं नारी हूँ! -डॉ. सुरंगमा  यादव 

पर्यावरणः  हरित पटाखेपर्यावरण और स्वास्थ्य - सुदर्शन सोलंकी

कोविड-19ः   इस महामारी का अंत कैसे होगा?

प्रेरकः ज़िंदगी की शाम -निशांत


आवरण- सुधा भार्गव की पेंटिंग -  विभिन्न विधाओं पर लेखन-  कहानी, लोककथा, लघुकथा, बालसाहित्य, निबंध,  संस्मरण तथा कविताएँ। २१ वर्षों तक बिरला हाई स्कूल कलकत्ता में शिक्षण कार्य। किताबें सभी विधाओं में प्रकाशित। समय- समय पर संकलनों व अन्तर्जाल पत्रिका में  रचनाएँ प्रकाशित। कोरोना के बाद  kindle ebook पब्लिशिंग से जुड़ीं । बालसाहित्य से सम्बंधित उनकी 6 किताबों को kindle. amajon पर देखा जा सकता है। अपनी चित्रकला के बारे में सुधा जी कहती हैं - क्लांति से छुटकारा पाने के लिए उँगलियों ने तूलिका पकड़ी और रंगों में खो गई।  उपर्युक्त पेंटिंग भी कोरोना काल की उपज है। जिसका शीर्षक दिया है -सतरंगी सपने। इसको बनाने के बाद मुझे वैसा ही सुकून मिला जैसे प्यासे को पानी पीने के बाद।

7 comments:

Unknown said...

Its beautifully painted n written.

poonam chandralekha said...

बहुत सुंदर आवरण और सम्पूर्ण रचनाएं

bhawna said...

बहुत सुंदर आवरण।

प्रगति गुप्ता said...

बढ़िया संपादकीय,आवरण व सामग्री। पढ़ते हुए अपनी सी पत्रिका का अहसास होता है।

Unknown said...

Beautiful painting which describing the quote very well. You have a very good writing sense. I m a great fan of yours

रत्ना वर्मा said...

आप सबका बहुत- बहुत आभार और धन्यवाद... आप सबकी प्रतिक्रियाओं से हमें प्रोत्साहन मिलता है और पत्रिका के लिए रचनाओं के चयन में सहायता मिलती है... आभार।

नीलाम्बरा.com said...

बहुत ही सुन्दर अंक, आपको कोटिशः बधाई , हार्दिक शुभकामनाएँ

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।