उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Dec 5, 2020

कविता- हाँ मैं नारी हूँ!

-डॉ. सुरंगमा  यादव 

हाँ मैं नारी हूँ!
सजाऊँगी सँवारूँगी
तेरा घर
बंदिनी होकर
नहीं पर
संगिनी बन
चाहती हूँ प्यार की छत
पर सदियों से
जिस आसमां पर
तू काबिज है 
उस पर भी हिस्सेदारी 
चाहती हूँ। 
बरसों  से तुझे मैं
सुनती आ हूँ 
अब मगर 
कुछ मैं भी कहना  चाहती हूँ 
तेरी तरक्की पर
मन प्राण वारूँगी!
हाँ मगर कुछ मैं भी 
करना चाहती हूँ 
इससे पहले
हसरतें उन्माद बन जायें 
खुद को मौका देना चाहती हूँ।


सम्पर्कः
1-surangmayadav (dr)

1 comment:

Unknown said...

Why casinos are rigged - Hertzaman - The Herald
In the UK, casino games are rigged 출장안마 and 바카라 사이트 there febcasino.com is evidence of fraud, crime or disorder or an individual's involvement. There https://jancasino.com/review/merit-casino/ are also https://septcasino.com/review/merit-casino/ many