October 03, 2018

संस्मरण

कौन थी वो ?
डॉ.सुषमा गुप्ता
हालाँकि अब बाहर चटक कँटीली धूप है पर सुबह ऐसा नहीं था।
सुबह 5:30 जब उठी तब भी आकाश कालिमा की चादर उतारने को तैयार न था । मैं मुस्कुराई कि आज ये जनाब भी मुझ-सा आलसी हो रहे हैं। समय सरकता रहा और कालिमा कम होने की बजाय बढ़ने लगी। मंदिर जाने के समय तक बादल छमाछम बरसने लगा। चूँकि आज ऑफिस में भी जरूरी काम था और किन्हीं से मिलने का समय भी तय था, सो देर नहीं कर सकती थी। अतुल बोले -आओ बेलपत्र बाहर से मैं तोड़ देता हूँ और मंदिर भी ले चलता हूँ। अब सुबह-सुबह इतनी मदद मिल जाएतो और क्या चाहिए।
यूँ तो घर के बाहर बेलपत्र का पेड़ बहुत श्रद्धा से लगवाया थापर अब आलस है या जाने क्याचढ़ाती बस सावन-सावन ही हूँ।
सावन में रोज़ ग्यारह बेलपत्र ले जाती हूँहर पत्ते पर अँगुली से ॐ उकेरती हूँ और शिवलिंग पर चढ़ा देती हूँ। सालों से यही नियम है
आज एक आंटीजी (जाने कौन थी) मुझे देखकर बोली -"ये क्या लिख रही हो इन पर ?"
मैंने कहा-"ॐ"
"जो कर रही हो बहुत अच्छा है,पर ये आलस क्यों?"
"आलस?"
"हाँ या तो रोली से लिखो या चंदन से ।"
"प्रभु को भाव से मतलब है,पेंसिल ट्रांसपेरेंट है या कलरफुलउससे क्या फ़र्क पड़ता है ?"
आंटी जी चिढ़ गईं। बोली-"आजकल की छोरियों से तो बहस करा लो बस।"
अब मैं चुप ।
एक और नियम भी है पर इसका श्रेय सासू माँ को जाता है। शादी के बाद जब मंदिर साथ गईं‌ तो उन्होंने ताकीद की कि जो भी बड़े बुजुर्ग मंदिर में होंपूजा खत्म करके सबके पैर छुआ करो। मुझे उस वक्त वो तुग़लक़ी फरमान बहुत बुरा लगा। जान न पहचान सबके पैर छूते फिरोपर इतनी हिम्मत न थी कि उनका कहा दरकिनार करती। खैर फिर इतने स्नेहिल आशीर्वाद मिलते कि मुझे खुद ही बहुत अच्छा लगने लगा।सासूमाँ को दिल से धन्यवाद।
आज जब जल चढ़ाकर उन आंटी जी के पैर छुए (जो कुछ पल पहले चिढ़ गई थी)तो वो अचकचा गई-"अरे मेरे पैर क्यों छूए ?"
रोज़ मिलने वाली एक आंटी बोली-
"रोज़ का नियम है इसकासबके छूती है,मना करो तो भी नही मानती।"
अब ये सुनना था नई आंटी जी ने तो गले ही लगा लिया और आशीर्वाद की झड़ी लगा दी।
अपनी मुस्कान भी ये कान तक थी कि चलो आंटी जी गुस्सा नहीं गईं।
जल चढ़ाने का शिवलिंग मंदिर के आँगन में है और बाकी विग्रह अंदर।
जैसे ही अंदर गई कुछ ठिठक गई।
एक औरत माता की प्रतिमा के आगे नतमस्तक लेटी थी। बिल्कुल साष्टांग प्रणाम की मुद्रा में ।
पास खड़े मैं दुर्गा चालीसा का पाठ करने लगी पर जाने क्यों, कुछ परेशान कर रहा था।
चालीसा में मन‌ न रमा। सारा ध्यान उसी में जो था। उसके शरीर में हल्का कंपन साफ ज़ाहिर कर रहा था कि वो रो रही है। चेहरा भी इस कदर दोनों तरफ की बाजुओं में छिपा था कि कौन है किस उम्र की है कुछ न दिखा। जब तक मैं मंदिर में थी,वो वैसे ही रही।
एक पल लगा पूछूँ क्या हुआ,फिर लगा वो माँ से बात कर रही है उसकी ध्यान तोड़ना ठीक नहीं।
वैसे भी प्रभु से ऐसे संवाद कोई तब ही करता हैजब इंसानों से हार चुका होता है
मन बुझ गया। थकान ने घेर लिया। उदास कदमों से बाहर आ कार में बैठ गई। अतुल के फोन सुबह नौ से रात नौ तक बंद ही नही होतेवो फोन में व्यस्त थेफिर कहती भी क्या ।
आधा दिन गुज़र गया, न वो औरत ज़हन से उतरी न मन ठीक हुआ।
उसके शरीर की कंपन .....
मुस्कान बहुत महँगी नहीं है ज़हान में,पर बात ये है कि वो बस अपनी खुशियों तक सीमित रहे ।
जो ऐसा नही कर पाते,वो शापित होते हैं
वो हँसते तो खूब हैं,मुस्कराते नहीं हैं
काश कि सब मुस्कुरा सकें मीठा-मीठा
कौन थी वो पर...
उसको दुआ दो दोस्तों कि उसके सब दर्द फना हो जाएँ।
सम्पर्क327/सेक्टर 16A, फरीदाबाद-121002 (हरियाणा)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष