February 12, 2020

अनकही

परहित सरिस धरम नहिं भाई
परपीड़ा सम नहिं अधमाई।।
 - डॉ. रत्ना वर्मा
हमारी धरती बहुत खूबसूरत है। इस मौसम में तो प्रकृति अपने पूरे शबाब पर होती है। चारो तरफ बिखरी हरियाली, रंग-बिरंगे असंख्य फूल, तितलियाँ, भौरों का गुंजन, पंछियों का चहकना, ये सब मिलकर धरती को और निखार देती है। आप सुंदरता देखेंगे तो चारो ओर आपको सुंदरता ही नजऱ आएगी, अच्छाई देखेंगे, तो आपके आस-पास अच्छे और भले लोग नजर आएँगे। ...तो बात नज़रिये की है। दुनिया में एक ओर जहाँ अच्छाई है, भलाई है; तो दूसरी ओर बुराई भी भरी पड़ी है। परंतु गुणिजन कहते हैं- दुनिया कायम है इसका मतलब अच्छे लोग मौज़ूद हैं।  
धामिर्क आस्था वाले देश में आज देश में बहुत बड़े- बड़े भव्य मंदिर स्थापित हो गए हैं, जहाँ भक्तगण अपनी इच्छा से भरपूर दान देते हैं। जब तब समाचार भी मिलते रहते हैं कि अमुख मंदिर में इतने किलो सोना चढ़ावे में दिया गया या हीरे- मोती जड़ित करोड़ों रुपये के हार या मुकुट भगवान को चढ़ाया गया आदि आदि... इनके ट्रस्टी दान में मिले अरबों खरबों रुपयों के अलावा चढ़ावे में चढ़े सोना- चाँदी, हीरे मोती का कैसे हिसाब रखते हैं , यह सब धन कहाँ खर्च होता है ? जैसे अनेकों प्रश्न उठते रहे हैं और कई मामले समय- समय पर उजागर भी होते रहे हैं ; पर यह बहस का अलग ही मुद्दा है ।
 इस बार जो एक अच्छी बात, एक अच्छे परोपकारी काम के बारे में आप सबसे साझा करना है वह है-  पूणे का दगड़ू सेठ हलवाई गणपति मंदिर इस मंदिर की खास बात है कि यहाँ चढ़ने वाले चढ़ावे से कोई भंड़ारा या महाप्रसाद नहीं खिलाया जाता; बल्कि पूणे के ही एक सरकारी अस्पताल में प्रति दिन 1200 मरीजों को चाय, नाश्ता और खाना खिलाया जाता है। इतना ही नहीं उसी अस्पताल के गर्भवती महिला वार्ड का नवीनीकरण करवाने के साथ 70 शिशुओं की क्षमता वाला आईसीयू भी बनवाया है। इन सबके साथ- साथ मंदिर कई अन्य सामाजिक कार्यों से भी जुड़ा हुआ है। इन सबको मिलाकर मंदिर प्रति वर्ष लगभग 15 करोड़ रुपये के सामाजिक कार्य करता है।  इस मंदिर को दगड़ू सेठ हलवाई ने लगभग सवा सौ साल पहले बनवाया था। संभवतः देश में यह पहला एक ऐसा मंदिर है, जिसे इसके बनवाने वाले के नाम से जाना जाता है।
बिना लाभ- हानि के जनहित में,  सेवा के इस प्रकार के कई कार्य देश के अनेक व्यक्ति और अनेक संस्थाएँ करती हैं। जिनके बारे में कभी- कभी मीडिया खबरें दे देती हैं , कई लोगों को सरकार भी सम्मानित कर देती है। जैसे इस वर्ष पद्मश्री पुरस्कार पाने वालों में एक नाम है ओडिसा के डी प्रकाश राव का। झुग्गी बस्ती में चाय बेचकर गुजारा करने वाले प्रकाश राव को यह सम्मान शिक्षा के क्षेत्र सेवा करने के कारण मिला है। राव पिछले कई सालों से कटक शहर में झुग्गी बस्ती में रहने वाले बच्चों के लिए एक स्कूल चला रहे हैं। राव का बचपन काफी गरीबी में गुजरा है। पढ़ाई में अच्छे होने के बावजूद गरीबी की वजह से उन्हें 5 साल की उम्र में स्कूल छोड़ना पड़ा था। बड़े होने के बाद उन्हें लगा कि जिस तरह गरीबी की वजह से उन्हें पढ़ाई छोड़ना पड़ी ,ऐसा किसी और बच्चे के साथ ना हो, यही कारण है कि राव को  चाय बेचकर जो भी कमाई होती है, उसका एक बहुत बड़ा हिस्सा वे गरीब बच्चों की पढ़ाई में लगा देते हैं। सन् 2000 में उन्होंने गरीब बच्चो के  लिए स्कूल बनवाया। शुरू में स्कूल का सारा खर्च वे स्वयं ही उठाते थे फिर बाद में जैसे जैसे लोगों को उनके नेक काम के बारे में पता चलता गया लोग उनके साथ जुड़ते चले गए।
देश और दुनिया में ऐसे अनगिनत लोग हैं जो अपने- अपने क्षेत्र में देश की भलाई का काम बिना किसी उम्मीद के बस करते चले जा रहे हैं। उन सबको तहेदिल से सलाम।
देश की समस्याओं का रोना तो हम हमेशा रोते हैं जीवन में हम सब अनगिनत परेशानियों से भी जब- तब रूबरू भी होते रहते हैं ; परंतु जीवन तब भी चलते रहता है। इन सबसे जूझते हुए, लड़ते हुए हम आगे बढ़ने का रास्ता तलाशते रहते हैं । आगे बढ़ने के लिए  सकारात्मक ऊर्जा मिलती रहे इसके लिए ज़रूरत है, ऐसे काम करने वालों के कामों की सराहना करने की,  इस तरह के कामों को बढ़ावा देने की है; ताकि अच्छे -अच्छे काम होते रहें और हम अपनी धरती की खूबसूरती का, यहाँ के लोगों के परोपकार का गुणगान दुनिया भर में गर्व से कर सकें।
नकारात्मक सोच भीड़ को भेड़चाल की तरफ़ मोड़ता है, जिससे समाज का अहित ही होता है। यदि हम टी वी पर होने वाली परिचर्चाओं को ध्यान से सुनें, तो लोग दिनभर चीख-चीखकर फेफड़े कमज़ोर करते रहते हैं । उससे किसी का रत्तीभर भी भला नहीं होता। ठीक इसके विपरीत परोपकार का कार्य करने वाले ,  बातों के वितण्डे में न पड़कर, सामाजिक हित के कार्य चुपचाप करते रहते हैं। इस धरती को सुखमय बनाने का यही एकमात्र उपाय है। तुलसीदास जी ने भी कहा है-
‘परहित सरिस धरम नहिं भाईपरपीड़ा सम नहिं अधमाई’।। 

1 Comment:

Vibha Rashmi said...

फरवरी 12का उदंती आज फ़ुरसत में पढ़ने बैठी ।सारी सामग्री पठनीय व स्तरीय है , हमेशा की तरह कुशल संपादन । आपके आलेख 'अनकही'बेहद पसंद आया । पूरा के "दगडू सेठ हवाई के मंदिर के विषय में जानकारी महत्वपूर्ण है । सहमत हूँ " सामाजिक कार्य का दिखावा " बहुत लोग करते हैं । चैनलों पर भी एंकर्स चीख़ कर अपने फेफड़े ख़राब करते हैं ।सनसनी और उत्तेजना फैलाकर उकसाते भी हैं ।
एक सुन्दर संपादकीय । मेरी बधाई ।

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष