April 16, 2019

व्यंग्य

किसे वोट देंगी आप ?
डॉ. रत्ना वर्मा
अब चुनाव प्रचार दरवाजे पर है। प्रत्याशी हाथ जोड़ रहे हैं और अखबार वाले मतदाताओं को टटोल रहे हैं।
जहाँ ब्यूटीपार्लर का विज्ञापन दीवार पर हैठीक उसके नीचे हाथी छाप को प्रचंड बहुमत से विजयी बनाने का चुनावी विज्ञापन अपना दावा ठोक रहा है। व्हील छाप साबुन के व्हील का उपयोग कार्यकर्ताओं ने जिस सूझबूझ के साथ किया हैउससे तबियत प्रसन्न हो रही है। व्हील तो जहाँ था वहीं है, लेकिन साबुन पर सफेदा पोत कर कार्यकर्ताओं ने प्रत्याशी का नाम लिख दिया है और पढ़ने से लगता है सफेदी और चमक के लिये व्हील छाप साबुन ही उपयोग करें। महिलाओं में अत्यंत लोकप्रिय साबुन “व्हील छाप साबुन।
मतदाताओं को टटोलने का सीजन शुरु हो गया है। मैंने भी सोचा कि इसी बहाने कुछ महिलाओं को टटोल लूँ।
एक बड़ा -सा मकानगेट पर लिखा था-कुत्तों से सावधान। चुनाव चल रहा है। इसलिए मुझे इस तरह का नया विज्ञापन अच्छा लगा। मैं ठिठक गई। कोई बाहर दिखे तो मैं किसी महिला को टटोलूँ। मैं सोच ही रही थी कि एक आदमी दिखा। मुझे असमंजस में खड़ा देख कर बोलाआइए... अंदर आ जाइए। बोर्ड देखकर डर रही है आपअभी इस बंगले में कुत्ता नहीं है। मेम साहब ने अलशेसियन पिल्ले का आर्डर बुक कर रखा है।
मेरी इच्छा हुई कि उससे कहूँ कि जब इस घर में स्वागत के लिए आपके अलावा और कोई नहीं है तो फिर इस बोर्ड की क्या जरूरत हैलेकिन उसने बीच में ही कहाबोर्ड लगा देने से चोर और भिखारियों का डर नहीं रहता.... वे इस दरवाजे पर नहीं आते। आप तो अंदर आ जाइए।
गेट के बंगले की दूरी पार करते हुए मैं चुपचाप चल रही थी। थोड़ी दूर वह आदमी मेरे साथ चला। फिर बोलाआप मेम साहब से मिल लीजिए... मुझे गमलों में पानी डालना है।
मेरे कालबेल दबाते ही पक्षियों के चहचहाने की आवाज गूँज उठी। घरेलू- सी दिखने वाली एक महिला ने दरवाजा खोला और बोलीक्या है?
मैंने कहा- मेम साहब से कह देना टीवी वाली आई है।
टीवी की बात मैंने इसलिए की कि अपनी तस्वीर टीवी पर दिखाए जाने के लालच में मेरा आदर सत्कार सही होगा। मैं बैठक में आ गई। थोड़ी देर बाद नौकरानी नाश्ते की प्लेट और चाय ले आई तभी मेरी समझ में आ गया कि अपना इम्प्रेशन ठीक जम गया है। वह बोलीमेम साहब तैयार हो रही है... आप तब तक चाय लीजिए।
मैं जानती हूँ कि बिना सजे धजे वे बाहर नहीं आएँगी। महिलाओं के साथ यही प्राब्लम है। चाहे उन्हें मतदान में जाना हो या किसी शोकसभा मेंवे बिना मेकअप किए नहीं जाती। टीवी सीरियलों ने महिलाओं को कम से कम इतना जागरूक तो किया ही है।
मेम साहब आधे घंटे के बाद चेहरे पर मुस्कान बिखेरती हुई बैठक में आ गईं। मैंने औपचारिकता और शिष्टाचार के बाद सीधा सवाल कियाआप किस पार्टी को वोट देंगी?
मेरे इस प्रश्न से वो बौखला गई। इस प्रश्न के बदले मुझे उनकी साड़ी की तारीफ करनी थी और कहना था कि आप कितनी स्मार्ट लग रही है। ऐसे प्रश्न महिलाओं को हर मौसम में प्रसन्न रखते हैं।
वह बोली- क्या पार्टीकिटी मैंने कहा लगता है आप किसी पार्टी में जा रही हैं?
इस बार मेरा प्रश्न सुनकर वे खुश हुई। बोली- ये पार्टियाँ न हो तो हम जैसी महिलाओं का टाइम पास ही न हो।
मैंने फिर पूछा- इस बार चुनाव में वोट आप किसे देंगी?
वह बोली- अभी कुछ सोचा नहीं है...मिसेज भटनागर और मिसेज़चंद्रा से डिसकस करेंगे आज की किटी पार्टी में। मूड हुआ तो चले जाएँगे वोट देने...
मैंने सोचा ऐसी जागरुक महिला मतदाता के पीछे समय बर्बाद करना ठीक नहीं। यही सोच कर मैंने कहा- अच्छाआप पार्टी में जाइएमैं चलती हूँ।
वह बोलीलेकिन टीवी... बात पूरी होने के पहले ही मैं बंगले से बाहर आ गई।
थोड़ी दूर पैदल चलने के बाद एक महिला अपने घर के दरवाजे पर खड़ी बार-बार सड़क की ओर देख रही थी। मैंने सोचा उन्हें भी टटोल लूँ।
मैंने पूछा- किसी का इंतजार कर रही हैं आप?
वह बोलीजी हाँ... बच्चों का स्कूल से आने का समय हो गया है और ‘वे’ भी आते ही होंगे। जैसे ही उनकी गाड़ी और बच्चों का रिक्शा दिखेगामैं दूध और चाय गैस पर रख देती हूँ; क्योंकि इसमें यदि थोड़ी भी देर भी हुई तो वे पूरा घर सिर पर उठा लेते हैं।
मैं महिलाओं से इसी गृहस्थी के किस्से से डरती हूँ। कहीं यह किस्सा आगे चला तो मेरा पूरा समय बर्बाद हो जाएगा। यही सोचकर मैंने उनसे सीधा सवाल कियाइस बार आप चुनाव में किसे वोट देंगी?
तभी बच्चों का रिक्शा आता दिखाई दिया। वह बोली- बच्चे आ गएआप अंदर आकर बैठिए मैं चाय चढ़ा देती हूँ।
मैंने कहा- लेकिन मुझे यह तो बताइए कि आप वोट किसे देंगी?
वह बोली- वे जिसे कहेंगे उसे ही दे दूँगी... हम औरतों को तो जिंदगी भर किचन में रहना है। शादी के इतने साल बाद भी मैं आज तक उनका ही कहना मानती हूँ। फिर वोट से हमें क्या करना हैकिसी को भी देंमहँगाई कम होने वाली नहीं है।
मैं सोच रही थी कि महिलाओं को लेकर लंबे- लंबे सर्वेक्षण होते हैं और आज भी महिलाएँ सोचती हैं कि उनकी जिम्मेदारी किचन तक ही सीमित है। बच्चों को दूध गरम कर देने और पतियों के ऑफिस से लौटने के बाद गरम चाय पिलाने तक ही।
थोड़ी दूर जाने के बाद झुग्गी झोपडियों वाला मुहल्ला शुरु हो गया। मैंने सोचा इन गरीब महिलाओं को भी टटोल लूँ। एक झोपड़ी के सामने तीन चार धूल से सने गंदे बच्चे खेल रहे थे। एक महिला उन्हें गालियाँ दे रही थी। थोड़ी देर बाद उसका पति झोपड़ी से बाहर आया ,तो महिला उसे भी कोसने लगी। गुस्से में बोली- जब बच्चों का पेट नहीं भर सकते थे ,तो इतने बच्चे क्यों पैदा करवा दियेमैं दिन भर काम करते मर रही हूँ और तुम दिन भर घूमते हो और रात को पीकर पड़े रहते हो... तुम्हें ना मेरी फिकर है और ना बच्चों की।
पति मुँह झुकाए चुपचाप चला गया।
मैंने सोचा देश के सही और निर्णायक मतदाता तो यही हैं। जिसे वोट दे देंगेवे ही सरकार बना लेंगे और पाँच साल तक मौज करेंगे। मैं उसकी झोपड़ी के सामने रुक गई। मुझे देखकर वह बोली-क्या हैकौन सी पार्टी वाली होजल्दी बोलो... मुझे बहुत काम है।
मैंने पूछा- तुम्हारा पति कुछ काम नहीं करता है?
वह बोली- तुमको क्या करने कामेरा पति है... काम करे कि नई करे। तुम जल्दी बोलो- क्या तुम्हारी पार्टी काम दे देगीकोई काम देगी तो बोलो... अभीचपइसा दे दो तभीच वोट देंगेतुम्हारी पार्टी को।
मैं समझ नहीं पा रही थी कि उसे किस तरह टटोलूँ। मैंने कहा– मैं तो पूछने आई थी कि तुम किसको वोट दोगी।
वह गुस्से में बोली- तुमको पहलेच बोला ना कि जो पईसा देगा उसीच को वोट देने का... बोलदिलाती क्या पईसाअभी रोज पार्टी वाला आता है लेकिन पईसा कोई नहीं देता। जो पहले देगाउसी को वोट दे दूंगी... इस चुनाव में बच्चों का कपड़ा सिलवाना है। जल्दी बोलकित्तापईसा देती है?
मैं उसकी बात का जवाब दिये बिना ही आगे बढ़ गई। समय कम हैमुझे अभी भी महिलाओं की मानसिकता को टटोलना है। अखबार के लिये महिलाओं की जागरूकता पर रपट तैयार करनी है।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष