October 03, 2018

सात समंदर पार

कांचीपुरम मठ में विजयेन्द्र सरस्वती के साथ लेखिका
सात समंदर पार
शशि पाधा

^खुला झरोखा आई धूप
‘बदल गया जीवन स्वरूप,
मरुथल में भी छाँव मिली
प्यासे को जल पूरित कूप’
बचपन में सुना था कि जो व्यक्ति सात समन्दर पार जाता हैउसे ऐसी विदाई दी जाती है ,मानों उसके लौट आने की कोई आशा ही न हो। जाने वाला भी भारी मन से केवल कुछ नया देखने/पाने के उद्देश्य से ही अदृश्य की ओर प्रस्थान करता था।
किन्तु मेरी परिस्थितियाँ भिन्न थीं। मुझे विदेश में कुछ ढूँढने/ पाने के लिए नहीं जाना था। केवल संतान का मोह मुझे अपने देश से हजारों मील दूर सात समन्दर पार बुला रहा था।
बात वर्ष 2002 की है। पति ने सेवा निवृत्ति पाते ही निर्णय ले लिया- चलो बच्चों के पास अमेरिका में। यहाँ अकेले क्यों रहें,वहाँ जाकर कुछ उनके काम में हाथ बटायेंगे। चूँकि मैं पहले भी अमेरिका में वर्ष भर रह चुकी थी और यहाँ के वैभवकी चकाचौंध के साथ-साथ प्रियजनों से दूर होने का दुःख भोग चुकी थी; अत:  मैंने अनेकों बार यहाँ आने के लिए ‘न’ ही की। मुझे संतान का मोह तो था ;किन्तु विदेश की धरती के प्रति आकर्षण कतई नहीं था। मैं साहित्य जगत से जुड़ी थी, और जानती थी कि अमेरिका में मुझे हिन्दी की पुस्तकों, पत्रिकाओंतथा साहित्यिक गोष्ठियों की कमी खलेगी। इसी उधेड़बुन में निर्णय लेने से पहले हमने दक्षिण भारत की यात्रा की।यही सोचकर कि अपने को थोड़ा समय दे सकें और इस विषय पर कुछ और विचार कर सकें।

एक कार्यक्रम में कविता पाठ
करते हुए लेखिका
कन्या कुमारी, त्रिवेंद्रम, रामेश्वरम, महाबलीपुरम और पांडेचेरी होते हुए हम काँचीपुरम में शंकराचार्य मठ के दर्शन करने गए। वहाँ के पवित्र वातावरण में बहुत शान्ति का अनुभव हुआ।  सुबह की पूजा-अर्चना के बाद हमने मठ के अध्यक्ष शंकराचार्य से मिलने की इच्छा जताई। अधिकारियों ने हमें बताया कि प्रात:काल की पूजा अर्चना के बाद ही हम उनसे मिल सकते हैं। हमारे पास समय ही समय था। हमउनसे मिले बिना जाना नहीं चाहते थे। सौभाग्यवश वहाँ के अधिकारियों ने हमें उनके अतिथिकक्ष में आने का निमंत्रण दिया।
बातचीत करते हुए उन्हें मैंने अपने मन की दुविधा बताई और परामर्श लेना चाहा। मैंने उनसे कहा, “आदरणीय, मेरे पति विदेश में हमारे पुत्रों के परिवारों के साथ अपना बाकी जीवन बिताना चाहते हैं। मेरे मन में कई संशय हैं। क्या वहाँ के वातावरण में हम अपने आप को ढाल पाएँगे? क्या संयुक्त परिवार में रहना संभव हो सकेगा? मेरे लेखन को क्या वहाँ खाद –पानी मिलेगा? मेरे मन में इतने संशय हैं कि मन सदैव अशांत रहता है। कृपया कोई समाधान बताइए।
शंकराचार्य जी बड़े धैर्य से मेरी बात सुनते रहे। कुछ देर बाद बड़े शांत स्वर में जो उन्होंने मुझसे कहा उससे मेरे जीवन को सही दिशा मिली। उन्होंने कहा, “माँ!
तुम कहाँ जा रही हो, तुम्हारा कर्म और धर्म तुम्हें वहाँ ले जा रहा है। तुम अपनी भाषा, संस्कृति और जीवन मूल्यों को अपने गठरी में बाँधकर ले जाओ और भावी  पीढ़ी को उनसे अवगत / परिचित कराओ । तुम मातृशक्ति हो, तुम पर बहुत बड़ी जिम्मेवारी है। तुम भारतीय संस्कृति की दूत बनकर उसके प्रचार–प्रसार के लिए जा रही हो। अब यही तुम्हारे जीवन का उद्देश्य है और यही कर्तव्य। निश्चिन्त होकर जाओ, ईश्वर सदा तुम्हारे साथ रहेगा।
बहुत सरल भाषा में कहे गए उनके शब्दों को सुनते ही संशय के बादल मानों छँट गये। अब अमेरिका जाने के लिए मन और लालायित हो गया।
ठाकुर द्वारे में करवाचौथ की पूजा
लोहरी उत्सव पर दोस्तों के साथ
यहाँ आते ही सौभाग्य से हम नार्थकेरोलाइना के राली –डरहम शहर में आ गए। इस क्षेत्र में रहने वाले भारतीय लोग भारतीय कला, संस्कृति और साहित्य के विकास और प्रचार में दिन रात कुछ न कुछ आयोजन करते रहते हैं ।मुझे स्वयं नार्थ केरोलाइना के चैपल हिल विश्वविद्यालय में हिन्दी भाषा के अध्यापन का सुअवसर प्राप्त हुआ। विभिन्न कवि-गोष्ठियों में भाग लेने से यहाँ के साहित्यकारों से मित्रता हुई और लेखन को एक नई दिशा मिली।
इन सब से बढ़कर जो मेरे लिए बहुत आनन्द, गर्व और संतोष  की बात हुई,वह यह कि हमारे यहाँ परिवार में संग रहने से मेरे पोते और पोतियाँ हिन्दी भाषा में बात करते हैं, घर में पूरी भारतीय विधि से पूजा- अर्चना के साथ त्योहार मनाए जाते हैं, भारतीय  भोजन बनता है। मुझे समय-समय पर बहुत से आयोजनों में भारतीय संस्कृति के विभिन्न विषयों पर अपने विचार बाँटने का अवसर मिलता है। अत: भारत से सैंकड़ों मील दूर सात समंदर पार भी हम अपने घर में तथा सभी भारतीय मित्रों के साथ मिल कर अमेरिका में पैदा हुई नई पीढ़ी के जीवन में भारतीय संस्कृति,भाषा और जीवन मूल्यों को वही विशेष स्थान देने में सफल हुए हैं ,जो आज भारत में रहते हुए परिवार कर रहे हैं। अंतर केवल इतना है कि यहाँ के पश्चिमी वातावरण में इन सब के लिए परिश्रम अधिक करना पड़ता है।
अब रही लेखन की बात तो आज अंतरजाल ने विश्व को एक सूत्र में बाँध दिया है। अंतरजाल पर ही हम इतना साहित्य पढ़ लेते हैं कि लगता नहीं कि हम साहित्य जगत से दूर हैं। स्वयं मैं अपनी रचनाओं को अंतर्जाल की विभिन्न पत्रिकाओं में प्रकाशनार्थ भेजती रहती हूँ जिससे मेरे लेखन को विकास और विस्तार मिलता है।
अब सोचती हूँ शंकराचार्य जी ने ठीक ही तो कहा था, “माँ! तुम कहाँ जा रही हो, तुम्हारा भाग्य और कर्तव्य तुम्हें वहाँ ले जा रहा है।

shashipadha@gmail.com

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष