October 02, 2018

कविता

मेरे सामने वाली गली
-मंजूषा मन
सुबह सबेरे मुँह अँधेरे
सुनाई देने लगती हैं पदचाप..
बुजुर्ग स्त्रियों की...
जो चुन रहीं होती हैं पूजा के फूल
साथ में करतीं बातें 
किसी धार्मिक कहानी
बाबा के प्रवचन पर,
कुछ बुजुर्ग पुरुष
हाथों में छड़ी थामे
साझा कर रहे थे अपने सुख दुख

याद कर रहे हैं गुजरे दिन
टहलते हुए
मेरे घर के सामने वाली गली में,
इसी गली में 
गूँजती है –‘’आलू, टमाटर, भटा ले लो....’’-की आवाज,
अलसुबह ही 
सिर पर सब्जी की टोकरी लिये
निकल पड़ती है घर से
मेरी गली में टेर लगाती...
इसकी आवाज का इंतज़ार रहता है
कई घरों की रसोई को...
इसी गली में 
बच्चे खेलते हैं क्रिकेट
तीन लकड़ियाँगाड़कर
हाँ... 
कुछ बच्चों के स्कूल का ऑटो भी आता है
हॉर्न बजाते,
माँओं की टाटा... बाय बाय
सुनाई देती है... 
और दिखाई देते हैं आंखों में तैरते
जाने कितने सपने,
यहीं सुनाई देती है.... एक पुकार
ओ सुनीता... हो गया तेरा काम
और बस....
इकट्ठी हो जातीं हैं स्त्रियाँ
अपने अपने काम का हाल लेकर,
सुख-दुख की बातें करतीं
चूड़ियाँ खनकतीं
टी. वी. सीरियल की बातें करतीं
बच्चों के ऊधम का बखान करतीं,
पति का प्यार और डाँट सुनातीं
नई साड़ी... नए गहने दिखातीं,
हँसी ठिठोली भी...
ये मिलकर करतीं हैं मोल-भाव

फेरीवालों से 
दुआ सलाम कर
घुस जातीं हैं घर में 
बचे काम निपटाने।
शाम ढले लौटने लगते हैं 
काम पर गए पुरुष
गली में शोर मचाते बच्चे
भागने लगते हैं पापा... पापा-कहते
अपना खेल छोड़...
रात ढले
मुन्नू, चुन्नू के पापा.. और दूसरे पुरुष
देश -दुनिया की करते हैं चर्चा
सुनते हैं बढ़ रहे परिवार का खर्चा,
होतीं हैं समाचार की बातें...
और फिर शुभरात्रि...
जाने क्या क्या घटता है
मेरे घर के सामने वाली गली में
कितनी जिंदा है 
मेरे घर के सामने वाली गली,
यहाँ जी रहा है अब भी
अपनापन... और प्रेम।

सम्पर्कः अम्बुजा सीमेंट फाउंडेशन- भाटापारा,ग्राम- रवान (Rawan)
जिला- बलौदा बाजार (Baloda Bazar) छत्तीसगढ़ - 493331 , मोबाइल 09826812299

2 Comments:

Dileep Verma said...

बहुँत ही बारीक नजर जैसे बैठे बैठे प्रत्येक घटना को देखा गया हो।सुंदर चित्रण। बधाई मंजूषा जी।आपने जो जिया है वही लिखा है।

Unknown said...

बचपन की यादें ताजा हो गईं बढ़िया भावपूर्ण रचना सै पकिचय कराने का सादर धन्यवाद लेखनी यूं ही शब्दों को सार्थक बनाती रहे...बधाई शुभेच्छा
राजेश शुक्ल,जामुल ए सी सी सीमेंट.

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष