December 18, 2017

व्यंग्य

बाबा के कटोरे में 
-जवाहर चौधरी

लोगों! ... मुझे सन् 2029 का समय दिख रहा है ....बाबा ने अपने कटोरे में झाँकते हुए कहा।
उपस्थित जन चौंक पड़े. एक बोला,- ‘बाबा सरकार किसकी है!!
सरकार देसी है। मंत्री घोड़ों पर चल रहे हैं। प्रधान मंत्री हाथी पर बैठ कर नगर भ्रमण को जा रहे हैं। सैनिकों के हाथ में बंदूकें नहीं भाले-बरछी हैं। जनता प्रजा में बदल चुकी है और महाराज की जेजेकार कर रही है...
ओ बाबा, ... मोबाइल पर बाजीराव मस्तानी देख रहे हो क्या!?’
मोबाइल नहीं है बच्चे, ये करिश्माई कटोरा है, इसमें अतीत नहीं भविष्य दीखता है। मुझे वही भविष्य दिख रहा हैं जैसा कि आप लोग बना रहे हो। आप लोग बोलो तो आगे की बात कहूँ, ना बोलो तो नहीं कहूँ...। बाबा ने पंचधातु की बनी अपनी थाली जिसमें पंचतैल यानी पाँच तरह का तैल भरा है, में झाँक कर देखते हुए कहना शुरू किया। आसपास इकट्ठा लोग चमत्कार की उम्मीद से ही खड़े थे ना कैसे बोलते। 
बाबा बोलते रहे,- ‘पर्दा प्रथा है, औरतें बाहर नहीं निकलती हैं, सड़कों पर पीली धूल फैलाई गई है, इससे गन्दगी हो रही है लेकिन परम्परा का पालन करते हुए सब प्रसन्न हैं। जो प्रसन्न नहीं हैं वे डर के मारे प्रसन्नता व्यक्त कर रहे हैं। पूजा स्थलों पर रजिस्टर रखे हैं जिस पर भक्तों की उपस्थिति लगायी जाती है। सबके माथे पर शिखा यानी चोटी है, जिनके नहीं है और वे भी जो गंजे हैं उन्हें दण्डित किये जाने का प्रावधान है। बाल विवाहों का चलन शुरू हो गया है.....’  बाबा ने बताया।

आप लोग भी मेरी तरह समझदार हैं सो यह बताने की कतई ज़रूरत नहीं है कि बाबा पँहुचे हुए हैं। मुझे भी किसी ने नहीं बताया था कि वे पहुँचे हुए हैं लेकिन मैंने एक झटके में मान लिया कि वे पहुँचे हुए हैं। एक बार आदमी बाबा बन जाए तो उसे पहुँचा हुआहोने से कोई रोक नहीं सकता है, कानून भी नहीं और जमाना तो मानने के लिए उधार ही बैठा रहता है। जब सब किसी को पहुँचा हुआ मान लें तो आपको भी मान लेना चाहिए, इसी को परंपरा का पालन करना कहते हैं। सीधे सरल यानी गऊ टाइप आदमी की यही पहचान होती है कि जब भी कोई पहुँचा हुआ दिखे वह सीधे उसके चरणों में पहुँच जाए। इधर बाबा आए हैं तभी से आसपास वाले घेरे खड़े हैं। चुनाव दूर हैं इसलिए पानी की समस्या इधर रोजी-रोटी की समस्या से भी बड़ी हो गई है। नल आते हैं और चिरंजीव भवकह कर फौरन चले जाते हैं। जैसे नारद नारायण-नारायण कहते आते हैं और वैसे ही नारायण-नारायण कहते चले जाते हैं। टेंकर वाला पानी ले कर आता है तो रिश्ते-नाते, मित्र-मोहब्बत, पास-पड़ौस सब मिथ्या हो जाता है। गीता में लिखा है कि इस संसार में कोई किसी का सम्बन्धी नहीं, कोई सगा नहीं, सब प्यासी आत्माएँ हैं और टेंकर के आते ही पहले अपना बरतन भरने में लग जाती हैं। वृद्धजन कभी भगवान से साँसें माँगा करते थे अब पानी माँगते हैं। न ढंग की साँसे मिलती हैं न पीने लायक पानी ।
बादल आते हैं भरे-भरे से, लेकिन डाकिये की तरह हमारा घर (क्षेत्र) छोड़ कर आगे निकल जाते हैं। एक बार अधीर हो मैंने डाकिये से पूछा भइया सबके यहाँ चि_ी देते हो लेकिन मेरे यहाँ से ऐसे ही निकल जाते हो!!उसने टका सा जवाब दिया-तुम्हारे नाम की आएगी तो दूँगा नहीं क्या!!मैं बादलों से अगर ये सवाल पूछूँ तो वे शायद यही जवाब देगें। इसलिए हिम्मत नहीं होती है।
अखबारों में रोज छप रहा है कि पानी बचाओ। लोगों को समझ में नहीं आ रहा है कि जब है ही नहीं तो  बचाएँ क्या और कैसे। सारे लोग चर्चा में पानी-पानी कर रहे हैं। मेहमान आए तो पानी-चाय, नेता आए तो पानी-हाय, लड़का आए उछल के नहाय, लड़की आए तो गगरी उठा के जाय। कवि रहीम होते तो लिखते कि- रहिमन पानी प्रेम का, मत ढोलो छलकाए, ढोले से न मिले, मिले मैला पड़  जाय।नलों, टँकियों, बाल्टियों के अलावा सब तरफ पानी- पानी की पुकार। ऐसे में बाबा आ गए पहुँचे हुए तो उनसे पानी के अलावा कुछ और तो पूछा नहीं जा सकता था।
बाबा ये बताइए कि आगे पानी का कैसा क्या रहेगा?’ एक मुरझाये मनी प्लांट ने पूछा।
बाबा अभी भी पँचतैल में झाँक रहे हैं। ऐसे जैसे कि आजकल हर कोई अपने स्मार्ट फोन में झाँकता रहता है। बोले- अभी का तो नहीं पंद्रह साल बाद का दिख रहा है ‘..... कहो तो बताऊँ ?’ जवाब में एक साथ कई आवाजें आई- बताओ बाबा।
बाबा ने सुट्टे की तरह सन्नाटे का आनंद लिया और बोले- मुझे दिख रहा है, साफ साफ दिख रहा है। शनिवार का दिन है, माँगने वाले घूम रहे हैं कि चढ़ाओ शनि महाराज को पानी। .... लोग कटोरी में दो चम्मच पानी ला कर चढ़ा रहे हैं। डिस्पोजेबल कपड़ों का प्रचलन हो गया है। नहाने की परंपरा समाप्त हो गई है। जिस तरह आम आदमी शादी के एक मात्र अवसर पर सूट पहन लेता है उसी तरह घुड़चढ़ी से पहले दूल्हे को ढ़ाई लीटर पानी से स्नान कराने विधान बन गया है। फिल्मों से नायिकाओं के स्नान दृष्य बंद हो गए हैं, क्योंकि इससे फिल्म का बजट बढ़ जाता है। लोग बाथरूम सीन वाली पुरानी फिल्मों पर टूटे पड़ रहे हैं। टायलेट में फ्लश सिस्टन की जगह पोटली सिस्टम प्रचलित हो गया है। मंजन-कुल्ले के लिए भी नया ड्राय सिस्टम है जो प्रचलन में आ गया है। देश के सबसे अमीर खंबानी बंधु रोजाना दो-तीन बार नहा कर ब्रेकिंग न्यूज में छा जाते हैं। मेहमानों का सत्कार काफी बाइट से हो रहा है। केवल अमीर घरों में बर्तन-पोछा होता है। जिनके पास आधार कार्ड हैं उन्हें प्रति दिन एक-दो लीटर पानी मिल रहा है। विज्ञापन छप रहे हैं कि पाँच हजार की खरीदी पर एक लीटर पानी मुफ्त दिया जायेगा. ......
बस करो बाबा, अब रुलाओगे क्या?!’ एक आवाज आई ।
कुछ अच्छा नहीं देख सकते क्या बाबा ...!!दूसरी आवाज आई।
बाबा बोले- मैं वही देख रहा हूँ जो तुम बना रहे हो।  कुछ अच्छा देखना चाहते हो तो उसके लिए अभी से कुछ अच्छा करना शुरू करो..... पानी और वोट को बहुत सावधानी से खर्च करना सीखो लोगों।

लेखक परिचय- जवाहर चौधरी- जन्म -11 फरवरी 1952 / इन्दौर - म.प्र., शिक्षा - एम.ए., पी-एच.डी., ; समाजशास्त्र , लेखन- मुख्य रूप से व्यंग्य लेखन, कहानियां व लेख, कार्टूनकारी भी, प्रकाशन- प्राय: सभी हिन्दी पत्र-पत्रिकाओं में लेख व रचनाओं  का  सतत् प्रकाशन, रेडियो-दूरदर्शन पर पाठ , पुस्तकें- आठ व्यंग्य संग्रह, एक कहानी संग्रह, एक लघुकथा संग्रह, एक नाटक, दो उपन्यास। प्रमुख पुरस्कार एवं सम्मान -1- म.प्र. साहित्य परिषद् का पहला शरद जोशी पुरस्कारकृति सूखे का मंगलगानके लिये- 1993, 2- कादम्बिनी द्वारा आयोजित अखिल भारतीय प्रतियोगिता में व्यंग्य रचना  उच्चशिक्षा का अंडरवर्ड को द्वितीय पुरस्कार - 1992, 3- माणिक वर्मा व्यंग्य सम्मान- 2011 भोपाल, 4- एक लाख ग्यारह हजार रु. राशि के साथ गोपालप्रसाद व्यास व्यंग्यश्री सम्मान-2014- हिन्दी भवन, दिल्ली, सम्पर्क: 16 कौशल्यापुरी, चितावद रोड, इन्दौर- 452001, फोन-09826361533, 0731-2401670, ब्लाग- jawaharchoudhary.blogspot.com, Email- jc.indore@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष