October 24, 2017

सेहतः

  संगीत मस्तिष्क को तंदुरुस्त रखता है
           - डॉ. डी. बालसुब्रमण्यन
पिछले दशकों की तुलना में अब लोग ज़्यादा लंबा जीवन जीते हैं। स्वास्थ्य देखभाल के विभिन्न प्रयासों के चलते पूरे विश्व में लोग दीर्घायु हुए हैं। संयोगवश इसके चलते उम्र-सम्बंधी विकारों जैसे मनो-भ्रंश (डिमेंशिया) में भी वृद्धि हुई है। आज पूरे विश्व में 4.7 करोड़ से ज़्यादा लोग संज्ञान विकारों जैसे पॉर्किंसन, अल्ज़ाइमर और अन्य विकारों से पीड़ित हैं। भारत में 41 लाख लोग डिमेंशिया से पीड़ित हैं। चीन में तो स्थिति और भी खराब है, जहां 92 लाख लोग इससे पीड़ित हैं।
डिमेंशिया की वजह से व्यक्ति अल्पावधि याददाश्त क्षति, अंगों के हिलने-डुलने में परेशानी, बोलने में समस्या और अन्य सम्बंधित परेशानियों से पीड़ित रहता है। यह एक संज्ञानात्मक विकार है जिसमें मस्तिष्क में सामान्य तंत्रिका सर्किट विकृत हो जाते हैं। तंत्रिकाएं उलझ जाती हैं (शार्ट सर्किट या क्रॉस कनेक्शन की तरह), कोशिकाओं के प्रोटीन अणु घोल में से अवक्षेपित हो जाते हैं और प्लाक बना लेते हैं जिससे तंत्रिका में संकेतों की आवाजाही प्रभावित होती है। इसके कारण मस्तिष्क का वह हिस्सा बेकार हो जाता है। आज तक पार्किंसन, अल्ज़ाइमर और अन्य सम्बंधित विकारों के इलाज के लिए कोई प्रभावी दवा उपलब्ध नहीं है, हालांकि एक अणु एल-डोपा अल्पावधि के लिए मददगार साबित हुआ है। किंतु यह मस्तिष्क में हुई क्षति को ठीक करने और उसकी मरम्मत करने में सक्षम नहीं है। मस्तिष्क को बाहर निकालकर उसकी मरम्मत करना तो असंभव है और मस्तिष्क का प्रत्यारोपण निश्चय ही अकल्पनीय है, क्योंकि प्रभावी तौर पर इसका मतलब होगा कि पूरे व्यक्ति का प्रत्यारोपण कर दिया जाए।

आशा की किरण
इस निराशाजनक तस्वीर के पीछे आशा की किरण भी है। सही है कि हम क्षति को ठीक नहीं कर सकते हैं मगर क्या भविष्य में होने वाली क्षति को रोका नहीं जा सकता? क्या पड़ोसी तंत्रिका कोशिकाओं को दोहरी ड्यूटी की इज़ाजत देकर जो हिस्सा क्षतिग्रस्त हुआ था उसकी क्षतिपूर्ति नहीं करवाई जा सकती? अब हम यह जानते हैं कि यह संभव हो सकता है। उदाहरण के लिए, जब एक उंगली कट जाती है तो मस्तिष्क के आसपास के हिस्से उस क्षेत्र के कार्य को करने लगते हैं जो पहले उस कटे अंग को संभालता था। दूसरे शब्दों में मस्तिष्क स्थिर, पत्थर की तरह जड़ नहीं है, बल्कि लचीला है जिसे नए सांचे में ढाला जा सकता है। यदि हम इस तरह के तंत्रिका लचीलेपन को ट्रिगर करने के तरीके खोज सकें तो हम क्षतिग्रस्त कार्य को बहाल कर सकते हैं और उम्मीद है कि तंत्रिका सर्किट में आगे क्षति को टाला जा सकता है।
उल्लेखनीय और सुखद रूप से संगीत ऐसा करने में सक्षम है। अब हम यह समझ चुके हैं कि संगीत न केवल मस्तिष्क को शांत और सहज महसूस कराता है बल्कि उपचारात्मक भूमिका भी निभा सकता है। डॉ. डेविड कैलिमैग और उनके साथियों ने अपने पर्चे संगीत चिकित्सा अल्ज़ाइमर रोग की अनुभूति के लिए संभावित हस्तक्षेप: एक संक्षिप्त समीक्षामें लिखा है, “संगीत एक गैर-औषधीय तरीका है, इसके इस्तेमाल का इतिहास काफी लंबा रहा है, साथ ही डिमेंशिया रोगियों के लिए उपयोगी भी है।यह पर्चा ट्रांसलेशनल न्यूरोडिजनरेशन में प्रकाशित हुआ है।
लंबे समय से यह ज्ञात है कि संगीत संज्ञानात्मक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हम मस्तिष्क के लगभग हर हिस्से में संगीत को प्रोसेस करते हैं। गर्भ में बच्चा अपनी मां की नब्ज़ महसूस करता है और यहां तक कि मां का गुनगुनाना भी। लोरियां बच्चे को शांत और सहज रहना सिखाती हैं। हालांकि बारंबार दोहराए जाने वाले इस दावे के लिए बेहतर वैज्ञानिक प्रमाण की आवश्यकता है कि मोज़ार्ट का संगीत सुनने से बच्चे के आईक्यू में इज़ाफा होता है, किंतु ऐसा लगता है कि सिर्फ सुनना नहीं बल्कि संगीत में प्रशिक्षण संज्ञानात्मक विकास को बढ़ाता है। प्रसिद्ध तंत्रिका वैज्ञानिक लेखक डॉ. ओलिवर सैक्स ने अपनी किताब म्यूज़िकोफिलिया: टेल्स ऑफ म्यूज़िक एंड दी ब्रेनमें बताया है कि संगीत मनुष्य होने का हिस्सा है। दिमागी क्षति वाले कई लोग संगीत सुनकर और बजाकर ज़्यादा बेहतर तरीके से चलते-फिरते हैं, ज़्यादा याद रख पाते हैं और यहां तक कि बोलने में भी सक्षम हुए हैं।
अल्ज़ाइमर के लिए थेरेपी
यही संगीत उपचार का आधार है। एक संगीत चिकित्सक डॉ. कॉनसेटा तोमाएनो ने अल्ज़ाइमर की अंतिम अवस्था से पीड़ित एक बुज़ुर्ग को लगातार एक माह तक एक पुराना गाना बार-बार सुनाया। एक माह बाद उस पीड़ित व्यक्ति ने बोलने और गाने की कोशिश की। सिकंदराबाद की प्रसिद्ध संगीत चिकित्सक राजम शंकर ने बताया कि राग कल्याणी जैसे संगीत को सुनकर एक महिला रोगी न केवल सक्रिय हो गईं थीं बल्कि उन्होंने खुद से गाना भी शु डिग्री कर दिया था और धीरे-धीरे स्वस्थ होने लगी थीं। पाठक एक प्रसिद्ध पुरस्कृत फिल्म एलाइव इनसाइड को देख कर डिमेंशिया रोगियों और संगीत के बीच के रिश्ते को समझ सकते हैं जिसमें कई डिमेंशिया पीड़ित मरीज़ों की कहानियां शामिल हैं www.youtube.com/watch?v=6FwfV9pnj8o)
संगीत चिकित्सा एक बढ़ता हुआ क्षेत्र है जिसे भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में अपनाया जा रहा है। लेकिन यह ज़रूरी है कि इसके लिए उचित और कठोर दिशानिर्देश तय किए जाएं ताकि सही प्रथाएं अपनाई जा सकें। यह भी महत्वपूर्ण और उपयोगी होगा कि प्रत्येक व्यक्ति के केस का विश्लेषण किया जाए। तर्कसंगत और व्यावहारिक दिशानिर्देश बनाए जाएं, खासकर इसलिए क्योंकि इसमें इंसान शामिल हैं।
इस क्रम में कुछ चेतावनियां हैं। वेब पर इस तरह के कई दावे हैं कि अमुक राग लीवर (यकृत) के कामकाज में मदद करता है, दमुक राग डायबिटीज़ में, वगैरह। ये अतिशयोक्तियां हैं क्योंकि संगीत मस्तिष्क को प्रभावित करता है और संज्ञान में मददगार है, न कि मेटाबॉलिक विकारों को ठीक करने में। कुछ लोग यह दावा करते हैं कि डिमेंशिया में कुछ राग अन्य से बेहतर हैं। ये ऐसे दावे हैं जैसे सभी के लिए एक आकार फिट बैठेगा। संगीत चिकित्सा व्यक्ति-आधारित है और यह व्यक्ति-विशिष्ट के लिए उसकी मानसिक स्थिति वगैरह पर निर्भर करती है। यह सवाल भी है कि क्या पूरा गाना या केवल एक स्वर का उच्चारण पर्याप्त है या दोनों का मिला-जुला रूप? चिकित्सक के लिए सही यही होगा कि वह प्रत्येक रोगी की स्थिति को देखते हुए फैसला ले। (स्रोत फीचर्स) 

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष