January 20, 2016

संस्मरण विशेष

एक स्वाभिमानी व्यक्तिः
जवाहर चौधरी

- रूप सिंह चन्देल

मेरा परिचय उनके बड़े पुत्र से था।  बड़े पुत्र यानी आलोक चौधरी से। आलोक से परिचय पुस्तकों के संदर्भ में हुआ था। शब्दकार प्रकाशनजिसे उन्होंने 1967 में स्थापित किया थाउनकी अस्वस्थता के कारण आलोक ही संभाल रहे थे। जहाँ तक याद पड़ता है आलोक से मेरी पहली मुलाकात  हिन्दुस्तान टाइम्स बिल्डिंग में हुई थी- शायद दैनिक हिन्दुस्तान में- बात 1990 के बाद लेकिन 1993 से पहले की है। दैनिक हिन्दुस्तान के रविवासरीय में उसके सहायक सम्पादक आनन्द दीक्षित समीक्षाएँ देखते थे। दीक्षित जी बहुत ही आत्मीय व्यक्ति थे। उनसे मिलने जाने में जब भी मुझे लंबा समय बीत जातावह मुझे फोन करके शिकायत करते हुए कहतेआपके लिए कब से बहुत-सी अच्छी पुस्तकें संभालकर रखी हुई हैंकृ पुस्तकें संभालकर रखने से आभिप्राय समीक्षार्थ पुस्तकों से था। उन दिनों वहाँ और जनसत्ता में मैं नियमित समीक्षाएँ लिख रहा था। यह एक बीमारी की भाँति मेरे साथ जुड़ गया था। छपास और मुद्रालाभ की बीमारी कह सकते हैं। पाठकों की नजरों में बने रहने की लालसा भी उसके साथ जुड़ी हुई थी। परिणाम यह था कि कितने ही लोग मेरा पता जानकर अपनी पुस्तकें सीधे घर भेजने लगे थे इस अनुरोध के साथ कि मैं उन पर लिख दूँ उन दिनों कुछ प्रकाशकों का भी मैं चहेता बन गया था। उन्हीं दिनों आलोक चौधरी से मेरी मुलाकात हुई थी। कन्नड़ के मूर्धन्य लेखक एस.एल. भैरप्पा के हिन्दी में अनूदित उपन्यासों के अनुवाद शब्दकार ने प्रकाशित किए थे और आलोक से परिचय होने से पूर्व उनके कुछ उपन्यासों पर मैं समीक्षाएँ लिख चुका था। शब्दकार प्रकाशन के संस्थापक आलोक के पिता थेलेकिन वह जवाहर चौधरी थे यह मैं नहीं जानता था।
उस दिन मुलाकात के दौरान आलोक ने अपने पिता के विषय में बताया। जवाहर चौधरी जी से मिलने जाने की इच्छा प्रबल हो उठी। लेकिन समय दौड़ता रहा और मैं जा नहीं पाया। मैं मिलने जा तो नहीं पायालेकिन शब्दकार का जब भी नया सेट प्रकाशित होता आलोक कुछ खास पुस्तकों की दो प्रतियाँ मुझे भेज देते। बाद में फोन करके कहते कि पिता जी ने अर्थात जवाहर चौधरी ने उन पुस्तकों को मुझे भेजने के लिए कहा है। मुझे यह पता चल चुका था कि दैनिक हिन्दुस्तान या जनसत्ता में प्रकाशित मेरी हर समीक्षा ही नहीं मेरी कहानियाँ भी जवाहर चौधरी मनोयोग से पढ़ते थे।
जवाहर चौधरी से मिलने जाने का कार्यक्रम टलता रहा और तीन वर्ष निकल गए। मार्च 1993 में मैं अपने परिवार और अशोक आंद्रे और बीना आंद्रे के साथ मैसूरऊटी और बंगलुरू (तब बंगलौर) की यात्रा पर गया। हम सीधे मैसूर गए और वहाँ डी.आर.डी.ओ. गेस्ट हाउस में ठहरे। गेस्टहाउस चामुण्डा हिल्स के ठीक सामने बहुत रमणीय स्थल पर है। चामुण्डा हिल्स देखकर मुझे भैरप्पा के उपन्यास साक्षी की याद हो आयी।  कुछ दिनों पहले ही यह उपन्यास शब्दकार से प्रकाशित हुआ था। दिल्ली से ही मैंने भैरप्पा जी से मिलने के लिए दिन और समय तय कर लिया था। अगले दिन हमने सबसे पहला काम उनसे मिलने जाने का किया था। बातचीत में भैरप्पा जी ने जवाहर चौधरी की जो प्रशंसा की उसने मुझे दिल्ली लौटकर उनसे मिलने के लिए और प्रेरित किया था। भैरप्पा के हिन्दी में अनूदित सभी उपन्यास शब्दकार से ही क्यों प्रकाशित हुएमेरे इस प्रश्न के उत्तर में भैरप्पा जी ने कहा थाजवाहर चौधरी मेरे मित्र हैं। जब तक वह उपन्यास प्रकाशित करने से इंकार नहीं करेंगे- मैं उन्हें ही देता रहूँगा। वह रॉयल्टी दें या नहीं।
जवाहर चौधरी के प्रति भैरप्पा जी के ये उद्गार उनकी मित्रता की प्रगाढ़ता को  उद्घाटित कर रहे थे। मुझे बाद में मालूम हुआ  कि कमलेश्वर की कई पुस्तकें शब्दकार से प्रकाशित हुई थीं और कमलेश्वर ने भी उनसे रॉयल्टी लेने से इंकार कर दिया था। इससे इन लोगों के साथ जवाहर चौधरी की मित्रता की प्रगाढ़ता का अनुमान लगाया जा सकता है। भैरप्पा  जी के कथन ने मुझे इतना उत्साहित किया कि यात्रा से लौटकर मैं अपने को रोक नहीं पाया। एक दिन मैं गुरु अंगद नगर (जो दिल्ली के प्रसिद्ध लक्ष्मीनगर के निकट है) आलोक के घर जा पहुँचा। चौधरी परिवार उस मकान में भूतल में रहता था। दरवाजे के सामने छोटा-सा आंगन था। आंगन के पूरब की ओर दो कमरे थे। पहले कमरे में चारपाई पर उम्रदराज एक व्यक्ति लेटा हुआ था। वही जवाहर चौधरी थे। वह पक्षाघात का शिकार होकर शैय्यासीन थे। कृशकायलेकिन चेहरे पर ओज और चौतन्यता। मध्यम कदचकमती हुई आँखें और गोरा-चिट्टा चेहरा। मैंने सोचाअपनी जवानी में वह निश्चित ही बहुत ही सुन्दर और आकर्षक रहे होंगे।
जवाहर चौधरी का जन्म 7 मार्च1926 को हुआ था। गुरुअंगदनगर के जिस मकान में मैं उनसे मिला वह किराए पर था और वहाँ वह 1985 में शिफ्ट हुए थे। शिफ्ट होने के कुछ दिनों बाद ही 1986 के प्रारंभ  में उन्हें पक्षाघात का अटैक हुआ और वह एक प्रकार से शैय्यासीन हो गए थेलेकिन उस स्थिति में भी वह प्रकाशन के काम में रुचि लेते थे। वास्तव में वह बहुत ही कर्मठविद्वानसाहित्य प्रेमीमित्रजीवी और जीवन्त व्यक्ति थे।  उनके परिचितों और मित्रों से सुनी उनकी इन विशेषताओं ने भी मुझे उस नेक इंसान से मिलने के लिए प्रेरित किया था और एक मुलाकात ने ही मुझ पर उनकी जो अमिट छाप छोड़ी वह आज तक अक्षुण है।     
मुझे आया देख चौधरी साहब ने  उठने का प्रयास कियालेकिन उठ नहीं पाए। मैं उनके निकट बैठ गया। लम्बी बातें हुईकृमेरे लेखनपरिवार से लेकर नौकरीदेशसमाज और राजनीति की। उन्होंने शब्दकार  को लेकर चिन्ता व्यक्त की। चिन्ता व्यवस्था में व्याप्त भ्रष्टाचार को लेकर थी। पुस्तक खरीद में भारी रिश्वतखोरी को लेकर थी। उन्होंने तब कहा था कि स्थिति यदि यही रही तो अच्छा साहित्य छपना बंद हो जाएगा। स्पष्ट है कि उनकी यह चिन्ता अपने प्रकाशन की पुस्तकों की बेच से सम्बन्धित भी थी। बहुत ही उल्लेखनीय साहित्य उन्होंने प्रकाशित किया था। शब्दकार की सूची में महत्तवपूर्ण  लेखक थेलेकिन खरीद अधिकारियों को रिश्वत दे पाने की अक्षमता के कारण प्रकाशन की स्थिति अच्छी न थी। जब तक वह स्वस्थ रहे अपने प्रभाव से ठीक-ठाक काम कियालेकिन अस्वस्थ होते ही शब्दकार लडख़ाने लगा था।
यद्यपि जवाहर चौधरी लेखक नहीं थेलेकिन अच्छे साहित्य और अच्छे साहित्यकारों की उन्हें पहचान थी। उनके दौर के अनेक हिन्दी और गैर हिन्दी लेखक उनके अभिन्न मित्र थे। अक्षर प्रकाशन प्रारंभ करने से पूर्व वह कई प्रकाशकों के लिए काम कर चुके थे। कहते हैं कि भारतीय ज्ञानपीठ को बनारस से दिल्ली लाने का श्रेय उन्हें ही था। ज्ञानपीठ के दिल्ली स्थानांतरित होने पर वह उसके पहले प्रबन्धक नियुक्त हुए थेलेकिन चूंकि वह बेहद स्वाभिमानी व्यक्ति थे इसलिए लम्बे समय तक भारतीय ज्ञानपीठ को उनकी सेवाएँ नहीं प्राप्त हो सकी थीं। उन्होंने रंगभूमि पत्रिका में भी कुछ दिनों तक काम किया था और 28 दिन राजकमल प्रकाशन में भी रहे थे। कुछ दिन आत्माराम एण्ड संस में भी कार्य कियालेकिन वह कहीं भी अधिक दिनों तक नहीं टिके। व्यक्ति का व्यावहारिक होना और मृदुभाषी होना अलग बात है लेकिन इन गुणों के बावजूद स्वाभिमानी व्यक्ति समझौते नहीं कर पाते. जवाहर चौधरी भी नहीं कर पाते रहे।
जवाहर चौधरी प्रगतिशील लेखक संघ के सचिव भी रहे थे। अक्षर प्रकाशनजहाँ आज हंस पत्रिका का कार्यालय हैके  वह संस्थापक सदस्यों में से एक और उसके प्रथम मैनेजिंग डायरेक्टर थे.. यह बात उस दिन जवाहर चौधरी ने ही मुझे बतायी थी कि अक्षर प्रकाशन में पूंजी लगाने के लिए उन्होंने अपना 208 वर्ग गज का ग्रेटर कैलाश का प्लॉट बेच दिया था. ग्रेटर कैलाश नई दिल्ली के उन इलाकों में है जहाँ आज उस प्लॉट की कीमत करोड़ों में होती।
मैं जब जवाहर चौधरी  से मिलकर वापस लौट रहा था तब मन में एक ही बात उमड़- घुमड़ रही थी कि सहज और सरल व्यक्ति जीवन में असफल क्यों रहते हैं! जवाहर चौधरी  बहुत ही सरल व्यक्ति थे। उन्होंने मित्र बहुत बनाए लेकिन लाभ किसी से भी नहीं उठाया. परिणामतरू स्थितियाँ खराब होती गयीं और एक दिन प्रकाशन ठप होने के कगार पर पहुँच गया।
और 20 नवम्बर1999 को उनकी मृत्यु के पश्चात शब्दकार बंद हो गया। बाद में आलोक को उसे बेचना पड़ा। लेकिन अक्षर प्रकाशन हो या शब्दकारनाम लेते ही जानकार लोगों के जेहन में जवाहर चौधरी का नाम घूमने लगता है।

लेखक परिचय: 12 मार्च, 1951 को कानपुर (उ.प्र.) के गाँव नौगवां (गौतम) में जन्म, कानपुर विश्वविद्यालय से हिन्दी में पी- एच.डी.। अब तक 47 पुस्तकें, जिनमें 8 उपन्यास, 12 कहानी संग्रह, तीन किशोर उपन्यास, आलोचना, यात्रा संस्मरण, बाल साहित्य, लघुकथा, संस्मरण आदि सम्मिलित।  महान रूसी लेखक लियो तोल्स्तोय के अंतिम उपन्यास 'हाजी मुरादका अनुवाद और 'दॉस्तोएव्स्की के प्रेमपुस्तकें संवाद प्रकाशन से प्रकाशित 'लियो तोल्स्तोय का अंतरंग संसार (तोल्स्तोय पर संस्मरण), गलियारे (उपन्यास) और 'यादों की लकीरें (संस्मरण- भाग एक) प्रकाश्य। अनेक रचनाओं के अंग्रेजी, पंजाबी, बांग्ला, गुजराती और असमिया भाषाओं में अनुवाद। सम्पर्क: बी-3/230, सादतपुर विस्तार, दिल्ली- 110 094, मो. 09811365809, 08285575255, Email- roopchandel@gmail.com, rupchandel@gmail.com

1 Comment:

सुधाकल्प said...

यह संस्मरण पढ़ने योग्य है। जवाहर चौधरी जैसे जीवंत व्यक्तित्व से परिचय हुआ। रूपसिंह जी आपने ठीक ही कहा कि सरल और सहज व्यक्ति जीवन में सफल नहीं हो पाते । इसका कारण है। वे आड़े-तिरछे दाव पेंचों के साथ समझौता नहीं कर सकते हैं।

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष