August 15, 2014

यात्रा-वृतांत

   
    यात्रा एक लैण्ड लॉक प्रदेश की

                                  - विनोद साव

सामने हरियाली थी। हरियाली निकलती जा रही थी। पता नहीं यह हरियाली कब से थी। न जाने रात भर में यह हरा भरा संसार कितना निकल गया होगा.. और हम बस सोते रहे होंगे। इन प्राकृतिक छटाओं को देखते हुए तो आँखें वैसे भी नहीं अघाती हैं और अगर ऐसी ही छटाएँ रही होंगी जैसी मेरी आँखों के सामने घंटे भर से है तब तो इन छटाओं के एक वृहत्तर क्षेत्र के निकल जाने का मलाल रहेगा।
रात बारह बजे बिलासपुर छोड़ा था तब तक तो कोई खास बात नहीं थी। वैसे ही मामूली शहर और कस्बे थे जो कहीं भी दिख जाते हैं- हर आते स्टेशन की एक चिरपरिचित बू, चढ़ते-उतरते मुसाफिरों की धकमपेल, मिनरल वाटर की अविश्वसनीय बोतलें, डडै़ल तेलों से गंधाते भजिये, पटरी के किनारे गजब ढाती जिन्दगी! पर यहाँ नजारा बिलकुल भिन्न था। मौसम में जुलाई महीने की खुशबू थी। फुहारों की तरह हो रही थी बारिश। मझोले पहाड़ों पर थे झूमते पेड़ों के झुण्ड। हसदो और रिहन्द जैसी सुन्दर नामों वाली नदियाँ मचलती हुई चली जा रहीं थीं कहीं।
 सन्नाटे के साथ आ जाने वाले एकदम साफ सुथरे स्टेशन थे ,जिनमें उतरते हुए साफ सुथरे लोग थे। न लोगों को उतरने की कोई जल्दी थी न ट्रेन को उतारने की।  स्टेशन का एक नाम बैकुण्ठपुर रोड है। एक दिन जाना तो सबको बैकुण्ठ ही है। पर क्या यही वह रोड है जो बैकुण्ठ धाम को जाता है। मानों उपवनों और सुरम्य स्थलों पर बने स्टेशन थे। आसपास कोई गाँव या कस्बा तो है नहीं पर इन सेनीटोरियम की तरह बने खूबसूरत स्टेशनों में उतरकर लोग जाते कहाँ हैं? हर स्टेशन के बाहर एक टैक्सी स्टैंड है ,जिसमें कारें हैं, जीप हैं और ऑटोरिक्शा हैं। जिनमें बैठकर लोग चुपचाप निकल जाते हैं अपने-अपने ठीहों की ओर जो इन्हीं सुरम्य पहाडिय़ों के बीच कहीं बसे होंगे।
एकबार ऐसा लगा था जैसे हम हिमाचल प्रदेश में चले जा रहे हों। वैसे इस नए  राज्य के गौरवगानों में से एक गान यह भी है कि यहाँ का मैनपाट छत्तीसगढ़ का शिमला है। यह छत्तीसगढ़ का एक हिल स्टेशन है जो सापूतारा पर्वत-शृंखला में बसा है। समुद्र तल से लगभग बारह सौ मीटर की ऊँचाई पर एक आयताकार पहाड़ी पर बसा है। झरने और हरियाली से भरपूर है। यहाँ तिब्बती शरणार्थियों को बसाया गया है, यहाँ शरणार्थी कैम्प और बौद्ध मंदिर हैं । तिब्बत पर चीन के आक्रमण के बाद ये शरणार्थी 1965 में यहाँ बसाए  गए  थे। यहाँ के कालीन और पॉमेरियल नस्ल के कुत्ते प्रसिद्ध हैं। यह हिमाचल प्रदेश के शिमला से कहीं ज्यादा यह धर्मशाला जैसा कुछ लगता है। हिमाचल का शिमला अगर अपने सेब फलों के प्रसिद्ध है तो सरगुजा का जशपुर अपने नाशपाती के लिए जाना जाता है। हिमाचल में धर्मशाला के पास बिलासपुर है और यहाँ मैनपाट जाने के लिए भी बिलासपुर है जो छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा जंक्शन है और आठ सौ करोड़ की आय वाला देश का सबसे बड़ा रेलवे जोन है। यहाँ से अम्बिकापुर होकर सड़क से मैनपाट जाया जा सकता है।
ऐसे कितने ही पाट हैं यहाँ - मैनपाट, जारंगपाट, सामरीपाट, जशपुरपाट - पाट का अर्थ उच्च समतल व पठारी स्थल है जो अपने शीर्ष में सपाट और पार्श्व में सोपान सदृश्य तीव्र ढालदार होता है.. भूगोल की भाषा में इसे अंतर-पर्वतीय पठार भी कहते हैं जिसमें पहाड़ों के पर समतल जमीन होती है... और बस ऐसा ही मनभावन दृश्य था जिसे तीन घंटों से हम देख रहे थे। यह छत्तीसगढ़ का उत्तरी क्षेत्र है जहाँ छुरी-उदयपुर, चांगभखार देवगढ़ और रामगढ़ की पहाडिय़ाँ हैं। यह पूरा अंचल सरगुजा कहलाता है जिसमें अब अम्बिकापुर, जशपुर, कोरिया, सूरजपुर और बलरामपुर नाम से और भी जिला मुख्यालय बन गए हैं। सरगुजा की अपनी अलग बोली है सरगुजिया जो छत्तीसगढ़ी से काफी-कुछ मिलती है। इसे भी अलगाने की कोशिश की जाती है, पर इसमें हिन्दी उर्दू की तरह साम्य है- जो बोली पाकिस्तान में बोलते हैं, वही हिन्दुस्तान में बोलते हैं।
यह पहली ही बार था जब हम किसी ट्रेन में रात आठ बजे छत्तीसगढ़ के एक शहर से निकले थे और रात भर ट्रेन में यात्रा करने के बाद भी दूसरे दिन सबेरे आठ बजे हम छत्तीसगढ़ के ही किसी शहर में उतरने वाले थे। वाह! विभाजन के बाद भी छत्तीसगढ़ कितना बड़ा है। क्षेत्रफल के हिसाब से यह देश का नवाँ बड़ा राज्य है और अब भी यह देश के सत्रह राज्यों से बड़ा है। मतलब साफ है कि अलग राज्य बनाना कोई गलत नहीं हुआ.. और अब पहले से बेहतर जा रहा है नहीं तो इसका सारा रेवेन्यू मध्यप्रदेश को जा रहा था, फिर भी न मध्यप्रदेश मोटाहो रहा था और न छत्तीसगढ़ फल- फूल रहा था। अब पानी, बिजली, सड़क और माइन्स के मामलों में यह अग्रिम पंक्ति पर है। इसके विकास के चरणों में एक चरण यही है कि इस लाइन पर दुर्ग-अम्बिकापुर एक्सप्रेस की शुरुआत हुई- जिस पर हम सवार थे।
इस ट्रेन के सहारे पहली बार हम छत्तीसगढ़ के पहाड़ों को ट्रेन में बैठकर देख रहे थे। जैसे कालका से शिमला जाते हुए हिमाचल प्रदेश को देखते हैं। इस तरह की एक रेल लाइन और है जो बस्तर के वनप्रांतर में चलती है कोट्टाविलासा से जगदलपुर-किरन्दुल रेल लाइन। अरकू घाटी उसी रेल लाइन पर स्थित है। उस लाइन के कई सुरम्य स्थल छत्तीसगढ़ क्षेत्र में आते हैं। यह भी माना जाता है कि दुनिया में ब्रॉडगेज रेल लाइन का सबसे ऊँचा स्थान भी उसी लाइन पर स्थित है ,बशर्ते रेल विकास के इन प्रतिमानों को वहाँ नक्सलाट्स से बचाया जा सके। छत्तीसगढ़ के सबसे सुरम्य अंचल बस्तर का पिछले तीन दशकों से वही हाल है, जो हाल देश में कश्मीर का है। नक्सलियों की आक्रामकता और सरकार की अक्षमता के कारण भय और आतंक के साये में कश्मीर की तरह बस्तर की घाटियाँ भी सिहर उठती हैं।
बस्तर और सरगुजा इन दोनों से छत्तीसगढ़ का मान है। सरगुजा इसके उत्तर में है तो बस्तर दक्षिण में। उत्तर से दक्षिण तक लगभग एक हजार किलोमीटर का लम्बा भू-भाग फैला हुआ है छत्तीसगढ़ में।  इस राज्य का पुराना बस्तर जिला ही केरल राज्य से बड़ा माना जाता था। विभाजन के बाद छत्तीसगढ़ के नक्शे को सीधे से आड़ा कर दिया जा तो यह हूबहू अमेरिका के नक्शे सा नजर आता है। इसकी सीमा न तो समुद्र को स्पर्श करती है न ही किसी विदेशी राष्ट्र को इसलिए यह एक लैण्ड लॉक प्रदेश कहलाता है।
ट्रेन के मुसाफिरों में आदिवासियों की संख्या भी कम नहीं है। यह सुखद है कि इस इलाके की अब वन्य जातियाँ भी आवागमन के सबसे सुगम और आधुनिक माध्यम रेलगाड़ी को पसंद कर रही हैं। वे भी अब रिजर्वेशन बोगियों में दिखने लगे हैं सबेरे-सबेरे बोगी में लगे वाशबेसिन में टूथब्रश करते हुए और दाढ़ी बनाते हुए। उनके पहनाव-ओढ़ाव में आधुनिकता आ गई है। शारीरिक सौष्ठव उन्हें नैसर्गिक रुप से मिला है उस पर जीन्स और टी-शर्ट में उनकी सुगठित देह खिल उठती है वेस्टइंडीज के खिलाडिय़ों की तरह। संभव है उनकी जीवनशैली में यह तामझाम उनके मसीहीकरण के बाद आई हो। सरगुजा में जशपुर नगर है, जिसके पास स्थित 'कुनकुरीमें एशिया का दूसरा सबसे बड़ा कैथोलिक चर्च है ,जिनके पीछे धनुषबाण लेकर मूँछ ऐंठते हुए लोग पड़े है। घर वापसी कार्यक्रम के बहाने। पर जो हिन्दू किन्हीं परिस्थितियों में ईसाई बन गए हैं , वे फिर से हिन्दू अगर बन भी जाते हैं, तब क्या शेष हिन्दू समाज उन्हें स्वीकारेगा? उनसे रोटी-बेटी का रिश्ता जोड़ेगा?
बिश्रामपुर स्टेशन आ गया था किसी चर्च का घण्टा गूंजा था और गूंजे थे जीसस के वचन 'हे सब बोझ से थके और दबे हुए लोगों मेरे पास आओ.. मैं तुम्हें विश्राम दूँगा।
स्टेशनों के नामों से भी कुछ-कुछ कौधता है। सवेरे के आठ बजने जा रहे हैं। सूरजपुर स्टेशन के पार हो जाने के बाद भी सूरज का अता पता नहीं है। एक स्टेशन का नाम 'कटोराथा और समूचा छत्तीसगढ़ 'धान का कटोराकहलाता है। सरगुजा में भी कुछ धान होते हैं ,जिनमें सबसे स्वादिष्ट चावल होता है जीराफूल चावल। यह बासमती की तरह लम्बा और उससे अधिक स्वादिष्ट है।
स्टेशन बेहद साफ सुथरा था और इसका भवन बिलकुल नया और चमचमाता हुआ सा। आजकल साहित्यकारों में स्थानीयता को लेकर बड़ा हल्ला होता है। हर लेखक में उसकी स्थानीयता खोजी जा रही है। यह स्थानीयता बोध भारतीय रेलवे में भरपूर विद्यमान है जो स्थानीयता को चिह्नित करने के अपने प्रयासों में लगा ही रहता है। इसे उनके स्टेशन भवन के वास्तुशिल्प और उसके रखरखाव में कहीं भी देखा जा सकता है। इसका उदाहरण अम्बिकापुर में भी है। यह एक पुराना रजवाड़ा है ,जहाँ आज भी एक विशाल महल है। संभवत: इस कारण ही अम्बिकापुर रेलवे स्टेशन की नई इमारत को महलनुमा बनाया गया है। कहा जा सकता है कि अब इस नए  राज्य का यह सबसे नया और भव्य स्टेशन है।  बाहर से यह हवामहल की तरह दिखता है।
बीस साल पहले आया था इस शहर में ,तब यह मध्यप्रदेश में था और बिहार सीमा पर होने के कारण यह इलाका पूरा बिहारीमय दिखता था। नए  राज्यों के गठन के बाद अब यहाँ छत्तीसगढ़ और झारखण्ड राज्यों की सीमा मिलती है। इन राज्यों के अपने स्थानीय प्रभाव बढ़े हैं और बिहारी प्रभाव धूमिल हुआ है।
पहली बार दीदी के घर यहाँ आया था तब जीजाजी पोस्ट मास्टर थे अम्बिकापुर में। कुछ दिनों बाद ही वे अवकाश ग्रहण कर चले गए थे। रायपुर में बस गए थे। अब जीजाजी रहे नहीं। यहाँ पोस्ट आफिस भवन के ऊपर जिस मकान में थे उस मकान को खोजा, मिल जाने के बाद दीदी को मोबाइल लगाया 'दीदी! मैं उस मकान के सामने खड़ा हूँ जहाँ बीस साल पहले आप जीजाजी के साथ थीं।तब दीदी की सिसकारी भरी आवाज सुनाई दी थी।
यह पहली बार देखा जब किसी साहित्य सम्मेलन का आयोजन केमिस्ट व ड्रगिस्ट भवन में रखा गया है। शायद इसका कारण यह हो कि यहाँ के कुछ लेखक बन्धु इस व्यवसाय से जुड़े हुए हैं। वैसे भी इलेक्ट्रानिक मीडिया की मार ने साहित्य को कुछ बीमार व शिथिल-सा कर दिया है। तब ऐसे में इस तरह के आयोजन स्थल हो भी सकते हैं। कविता के ग्लूकोस और विचारों के टॉनिक से शायद रुग्ण होती साहित्य की दुनिया को कुछ आसरा मिले।  इस बार यह आसरा मिला था केमिस्ट व ड्रगिस्ट भवन में।
मुझे सरगुजा की सरजमीं पुकार रही थी। मैं बाहर चला आया महल की ओर। शाम के धुन्धले में जो सफेदी उभर रही थी वह महल की प्राचीर थीं। चारों तरफ ऊँची-ऊँची प्राचीरें। कहीं मजबूत और कहीं धसकती हुई। खण्डहर होते महल को देखना अपने में एक विलक्षण अनुभूति है। अपने समृद्ध अतीत और विखण्डित वर्तमान के साथ उपस्थित इन महलों में एक किस्म का तिलस्म होता है। कोई रहस्यमय स्वर लहरी तैर रही होती है इनकी चहारदीवारी में। उन बूढ़े दरख्तों को देखना जो कभी साक्षी थे इस महल के वैभव और उसकी मायावी दुनिया के, अब जहाँ मकडज़ालों के भीतर चमगादड़ों का बसेरा है।  महल परिसर के जिन मन्दिरों में कभी घण्टियों के साथ आराधना के स्वर गूँजा करते थे वहाँ अब निस्तब्धता है। जहाँ राग रंग थे वहाँ अब सन्नाटे का शोर है। महल का मुख्य प्रवेश द्वार बन्द है। द्वार के बाहर बैठा हुआ है कोई बूढ़ा चौकीदार अपनी जर्मन की पतीली में भात और साग खाते हुए। सरगुजिया बोली में बोल पड़ता है 'राजा महराजा अब इहाँ नाई रहे।
ज्यादातर महलों की अब यही नियति है कि उसके सामन्त कहीं पलायन कर जाते हैं और सेवक रह जाते हैं। उनके टूटे- फूटे घर रह जाते हैं और उनमें रह जाती है फटेहाली और बदहाली की जिन्दगी। एक ऐसी जिन्दगी जो सामन्तों की देन होती है। यहाँ भी वैसी ही जिन्दगी थी। जहाँ हाड़ मांस के बने इन्सान थे ,काठ के पुतलों की तरह। मुक्तिबोध की कहानी की तरह उनके 'काठ के सपनेथे। ऐसे ही किसी महल के अँधेरे में मुक्तिबोध ने गुजारी थी अपनी बेहाल जिन्दगी और सामन्तों द्वारा छोड़ गए सेवकों को शायद धीरज बँधाते हुए कहा होगा कि-
'झील के उस पार हमारा साथी लश्कर मुहैया कर रहा होगा
वह हमारी हार का बदला लेगा और हम जीतेंगे!
भीतर बेचैनी थी... अच्छा तब लगा जब रामगढ़ की पहाडिय़ों में जाने का कार्यक्रम बना। यहाँ के लेखक मित्रगण अपने परिजनों को लेकर बस में आ गए थे। जिसमें दोपहर के भोजन की व्यवस्था कर ली गई थी।  साहित्य की गंभीरता हटा दी गई थी और पारिवारिक वातावरण से बस चहचहा उठीथी। मंच की एक भारी-भरकम कवयित्री के बैठते ही खिड़की का एक शीशा चकनाचूर हो गया जिससे हास-परिहास की स्थिति बनी। मैं भी मंचीय अन्दाज में उनसे कह उठा  'मोहतरमा..जरा सम्हल के बैठिएगा.. मेरा दिल भी शीशे जैसा है।यह सुनकर महिलाओं की रुमानी हँसी गूंज उठी। सावन का महीना था बस के हिचकोले से बस में बैठी भद्र महिलाएँ सावन के झूले को याद कर मंद-मंद मुस्कुरा रहीं थीं। उनकी गोद में किलकते हुए बच्चे थे ,जिन्हें माँ की गोद के सामने आकाश तुच्छ नजर आ रहा था।
कहते हैं कि कालीदास के 'मेघदूतमें कुछ ऐसी पहाडिय़ों की चर्चा है जो रामगढ़ से मिलती हैं जिससे इस स्थान को मेघूदत के रचनाकाल से भी जोड़कर देखा जाता है। पहाडिय़ों में इसकी एक खोह को विश्व की सबसे प्राचीन नाट्यशाला के रुप में भी प्रचारित किया गया है। प्राकृतिक खोह आकर्षक बन पड़ी है।  खोह के सामने का विशाल प्रस्तर चौरस है जिससे देखने में लगता है कि वह दर्शक दीर्घा के बैठने की जगह रही होगी। खोह के भीतर दाँये- बाँये और भी खोह बने हैं जिस तरह मंचों के अगल बगल में ग्रीन रुम होते हैं। सुतानुका नामक किसी देवदासी और मूर्तिकार देवदत्ता की प्रणय गाथा भी यहाँ प्रचलित है। किवदंतियां चाहे जो भी हों पर यह जगह बड़ी रुमानी और रमणीय जान पड़ती है और इसलिए अब यहाँ सरकारी महोत्सव होने लगे हैं। 'हिन्दुस्तान की खोजमें नेहरू ने इस स्थान का जिक्र छोटा नागपुर के पठार के करीब बताते हुए किया है।
पहाड़ी के नीचे हाथी खोह है जहाँ से सरगुजा के स्वच्छंद हाथी गुजरते है। इनमें कितने ही हाथियों के पागल हो जाने की खबर भी इस इलाके के मुख्य समाचार होते हैं। तब जंगल के नन्हें गाँवों में होती है बड़ी तबाही इन पगला गए हाथियों से। इन हाथियों को केले के गुच्छे का लोभ दिखाकर अपने अपने गाँवों से बाहर करते हैं कुछ अनुभवी लोग...पर रात में ऐसे पागल हाथियों की चिंघाड़ सुनाई दे, तब कोई क्या करे!
सरगुजा, बस्तर की तरह का प्राकृतिक सौन्दर्य लिये हुए है, बावजूद इसके यह छत्तीसगढ़ की मुख्यधारा में बस्तर की तरह शामिल नहीं हो पाया है। पर्यटन के नाम पर पूरा छत्तीसगढ़ और शेष भारत बस्तर की तरफ भागते हुए दिखते हैं पर सरगुजा की ओर बिरले ही पहुँच पाते हैं। पर्यटन की कुछ सुविधाएँ बस्तर में हैं। औद्योगीकरण का फैलाव बस्तर की ओर ज्यादा है। केन्द्र व राज्य सरकारों के भारी भरकम प्रशासनिक अमले बस्तर में भरे पड़े है। इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेज बस्तर में खोले जा रहे हैं पर सरगुजा की नयी पीढ़ी के लिए उच्च शिक्षा एक समस्या है। इन इलाकों में प्रगति की आकुलता मुखरित नहीं हुई होगी ,तो एक कारण यह भी रहा होगा कि सरगुजा की सीमा में एम.पी, यू.पी और बिहार जैसे बीमार पड़ोसी राज्य रहे हैं। जबकि बस्तर की सीमा में महाराष्ट्र, आन्ध्र और उत्कल प्रदेश रहे हैं, जो अपेक्षाकृत ज्यादा जाग्रत और कलाबोध से भरे पड़ोसी राज्य रहे हैं। यद्यपि नक्सलवाद की समस्या बस्तर और सरगुजा दोनों में रही है - एक तरफ आन्ध्र-तेलंगाना के कारण और दूसरी ओर बिहार-झारखण्ड के कारण पर इनमें बस्तर का नक्सलवाद ज्यादा अनियंत्रित और भयावह हो गया है। यह सवाल उठता है कि देश के आदिम जन-जातियों वाले जितने राज्य हैं ,वे सब के सब आतंकवाद के साये में कैसे आ गए हैं? चाहे उत्तरांचल हो या पूर्वांचल, बस्तर हो या सरगुजा! जवाब केवल एक है- जनजातियों के अनुकुल विकास की अनदेखी। इन पर विचार कौन करे? क्योंकि नियामक शक्तियाँ तो धर्म और राजनीति हैं। कभी अपने अंतिम समय से कुछ पहले रायपुर पहुँचे यायावर कथाकार निर्मल वर्मा ने अपनी स्वप्निल आँखों से झरते उद्बोधन में कहा था कि 'जब धर्म और राजनीति अपने रचनात्मक अभिप्राय से चूक जाते हैं, तब साहित्य की अकेली आवाज होती हैशोर मचाता इलेक्ट्रानिक मीडिया तथाकथित धर्म गुरुओं और राजनेताओं का प्रचारक बन रहा है, जबकि यह साहित्य ही है जो मनुष्य को जोड़ने और देश के हर अलगाव वाद के खिलाफ आवाज उठाने में निरन्तर जुटा हुआ है।
सरगुजा की सरजमीं भौगोलिक दृष्टि से लैण्ड लॉक प्रदेश भले ही हो पर विकास की दृष्टि से लैण्ड लॉक प्रदेश न हो।  अवरुद्धता का ताला टूटे और कोई रास्ता खुले.. ऐसी कामना तो है।

सम्पर्क: मुक्तनगर, दुर्ग 491001, मो. 9407984014
Email- vinod.sao1955@gmail.com

1 Comment:

विनोद साव said...

शुक्रिया रत्ना जी .. आपने अच्छा डिस्प्ले किया है.

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष