October 22, 2013

आपके पत्र/ मेल बॉक्स

अज्ञानता का बोझ ढोती जनता
आपकी मासिक पत्रिका 'उदंती´  के सितंबर,  2013  अंक में आपका संपादकीय 'बाबाओं का गोरखधंधा´  के लिए साधुवाद! हमारी आस्था अंधविश्वास में कैसे और क्यों तब्दील होती है? इस सवाल के जवाब को आपने जिस तरह से बताया है, वह हम सबको इस अँधेरे से लडऩे के लिए प्रेरित करता है। यूँ सदैव की भाँति उदंती के सितम्बर 2013  अंक में प्रकाशित सभी रचनाएँ सामायिक और प्रभावी हैं। सभी लेखकों को बधाई!
  अपने देश में सत्संग के बहाने बोलने में माहिर कुछ तथाकथित बाबा अथवा प्रवचनकर्ता आम जनता को वर्षों से लूट रहे हैं।  इनमें से कुछ तो करोड़ों की संपदा के मालिक हैं ; क्योंकि इनके तथाकथित भक्तों की संख्या लाखों में है, इन पर कार्रवाई करने में पुलिस मजबूर दिखती है और नेता मेहरबान।  ताज्जुब होता है कि ये देश को किसी भी आफत से बचाने में आज तक कोई चमत्कार नहीं कर पाए हैं।  इनमें से कुछ तो गृहस्थ हैं और इनके बच्चे भी इनके सहारे ऐश कर रहे हैं।
समाज के प्रत्येक जागरूक व्यक्ति का कर्तव्य है कि वह समाज को लूटने वालों का विरोध करे। सबसे बड़ा सत्संग है अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन ईमानदारी से करना।  जो लोग अपने पारिवारिक, सामाजिक, और कार्य से जुड़ी जिम्मेदारियों को निष्ठा और लगन से निभाते हैं और सत्य का साथ देने के लिए प्रयत्नशील रहते हैं, उन्हें किसी सत्संग में जाने की जरूरत नहीं है। अगर समय नहीं बीत रहा हो तो अपने आसपास ऐसे सामाजिक कार्यों से जुड़ें जिनसे आम लोगों और जरूरतमंदों को  लाभ होता हो; राहत मिलती हो। 
याद रखिये कबीर दास जी अपने परिवार को अपने परिश्रम से पालते थे, दान पात्र के चंदे से नहीं! बहरहाल, टीवी  चैनलों पर जब आम जनता  ऐसे  'ढोंगी बाबाओं´  के विज्ञापनों को देखती है तो वह यह नहीं जान पाती कि  इन प्रसारणों के लिए ये पाखंडी भारी रकम अदा करते हैं।  देश की जनता यह मानती है कि  टीवी चैनलों में आने वाला व्यक्ति कोई साधारण व्यक्ति नहीं होता है। फलस्वरूप, भेड़  चाल का मुहावरा  चरितार्थ हो उठता है और लोग अधिकाधिक संख्या में इनके जाल में फँसने के लिए बेताब हो उठते हैं। दरअसल, टीवी चैनलों को पहले तो इस तरह के विज्ञापनों से बचना चाहिए अन्यथा उन्हें जनता को यह जरूर बताना चाहिए कि जो कुछ  दिखाया जा रहा है, वह एक विज्ञापन है और उन्हें उसके लिए पैसे मिलते हैं। यूँ भारतीय दंड सहिंता के अनुसार ठगी में सहयोग देना भी एक अपराध है।  काश, हमारा मीडिया अपने  सामाजिक उत्तरदायित्व को निभाने  में सक्षम होता और धन अर्जित करने के लिए इस तरह  के विज्ञापनों को  नकार पाता।
 उत्तर प्रदेश  में  इस वर्ष  तीन जनवरी की रात को जिस तरह लोग जलजले और पत्थरों में तब्दील होने के ख़ौफ़ से घरों से बाहर टहलते रहे, वह इस बात का स्पष्ट प्रमाण था कि अभी भी हमारी जनता अज्ञानता का बोझ  ढो रही  है।  हमारे टीवी चैनल दिन भर ऐसी खबरों पर अपनी रोटियाँ सेंकते रहते हैं।  यदि  समाज में  गुंडागर्दी पर अंकुश नहीं लगता तो हम पुलिस को कोसते हैं।  हमारा मीडिया यदि यूँ ही निष्क्रिय बना  रहेगा तो हमारी जनता का एक बहुत बड़ा हिस्सा अज्ञानता से उपजे और नकली बाबाओं द्वारा टीवी के निजी चैनलों के माध्यम से फैलाये जा रहे अंधविश्वासों का बोझ ढ़ोती रहेगी।
               -सुभाष लखेड़ा, नई दिल्ली


 सटीक संपादकीय
उदंती के सितम्बर अंक में अनकही से सम-सामयिक विषय पर सटीक संपादकीय तथा अभयारण्य में उदंती पर अच्छी जानकारी  देने के लिए आपको बधाई।                                                                           - देवेन्द्र प्रकाश मिश्र             dpmishra7@gmail.com


बाल संसद - अद्भुत प्रयास
सितम्बर अंक में प्रकाशति आलेख बाल संसद- प्राथमिक शिक्षा से लोकतंत्र का प्रशिक्षण बहुत ही अद्भुत प्रयास है। सराहना के लिए शब्दों की कमी महसूस हो रही है। इन्ही तरह के प्रयास बालकों के भविष्य को उज्ज्वल बनाने मैं सहायक होंगे। इसी तरह प्रेरक के अंतर्गत क्षमादान का मूल्य - यह विषय मन के कष्ट पूर्ण किंतु फिर भी मीठे अनुभवों की याद दिलाते हुए मन में उदारता का भाव को प्रगाढ़ करता है।                                                                                                                                                                         -माधवी 

 बाबाओं के कच्चे चिट्ठे
उदंती के सितम्बर अंक में पुण्य स्मरण लाला जी के चले जाने का अर्थ -बहुत मार्मिक बन गया है। हिन्दी दिवस युवा वर्ग की चेतना बनाने का संघर्ष-सुधा ओम ढींगरा ने विदेशी में हिन्दी के लिए किए जा रहे प्रयासों की सार्थक जानकारी दी है। डॉ. ढींगरा स्वयं भी इस पावन यज्ञ को आगे बढ़ा रहीं हैं। परदेशी राम वर्मा का यात्रा-संस्मरण बहुत रोचक है। अनकही में सम्पादक जी हर बार की तरह बहुत गहरी बातें कह गईं। बाबाओं पर भरोसा करना खुद को ठगे जाने के लिए प्रस्तुत करना है। चेलों और बाबाओं के कच्चे-चिट्ठे हर रोज एक नया शिगूफ़ा लेकर आ रहे हैं। पत्रिका की साज-सज्जा नयनाभिराम है।                                                                                        -रामेश्वर काम्बोज हिमांशु ; दिल्ली           rdkamboj@gmail.com                                                                                          
पाँच वर्ष की यात्रा पर बधाई 
उदंती की पाँच वर्षों की निरंतर यात्रा सफलता पूर्वक पूरी हो गई है।यह प्रसन्नता की बात है। मेरी हार्दिक बधाई स्वीकारें। इससे साबित होता है कि कुशल नेतृत्व और सहयोगियों कि मिल जुलकर काम करने की भावना अगर आपके पास है, तो सफलता के लिए कोई सीमा नहीं है। खासतौर से पत्रकारिता में हो रही गलाकाट प्रतियोगिता के इस युग में आप जिस गंभीरता और धैर्य के साथ सधे कदमों से चुपचाप आगे बढ़ते रहे उसके लिए आप बधाई की पात्र हैं। टीम उदंती को भी इस अवसर पर मैं बधाई देता हूँ साथ ही उदंती के उज्ज्वल भविष्य की कामना करता हूँ ।                                                                                             -ललित कुमार वर्मा, भिलाई
                            lalit.mex@gmail.com

 सफर अनवरत चलता रहे
सर्वप्रथम तो उदंती के नियमित रूप से 5 वर्षों तक प्रकाशन होने के लिए आपको और आपकी पूरी टीम को तहे-दिल से मुबारकबाद पेश करता हूँ। मैं उदंती पत्रिका का प्रशंसक हूँ और पिछले कई महीने से मैं उसे इंटरनेट संस्करण को देख रहा हूँ, पढ़ रहा हूँ। इसकी सामग्री काफी ज्ञानवर्धक है और इससे आपके सफल संपादन का पता साफ तौर पर चलता है। वर्तमान अंक में बाबाओं का गोरख धंधा के बारे में काफी जानकारी मिली कि किस प्रकार समाज के जागरूकता की कमी के कारण लोग आजकल बाबाओं के चंगुल में फंसते जा रहे हैं। प्राथमिक शिक्षा से लोकतंत्र का प्रशिक्षण, 1300 साल पुराना रायपुर शहर, विलुप्त प्रजातियों की शरण स्थली, विनोद साव की कहानी- सिन्टी, आदि सहित अनेक सामग्री पठनीय है। यह उदंती दिनों दिन तरक्की करे और पत्रिका का सफर अनवरत चलता रहे, इन्हीं शुभकामनाओं के साथ।
         -आफताब आलम, (संपादक-पत्रकारिता कोश                             aaftaby2k@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष