May 30, 2012

13 मई मातृत्व दिवस

माँ वह लफ्ज वह पुकार, जहाँ से रुदन को मुस्कान मिलती है। रिश्तों की पहचान मिलती है, जिन्दगी क्या है, प्रकृति क्या है, सहनशीलता क्या है, अँधेरे में भी धुंधली किरण क्या है- माँ सब कुछ एक धरोहर की तरह जोड़ती जाती है। जब सारी दुनिया सो रही होती है, माँ उस रुदन उस मुस्कान से बातें करती है। माँ जादुई स्पर्श- बिल्कुल अलादीन के चिराग की तरह। माँ एक लोरी, माँ एक कहानी, माँ एक फिरकिनी... माँ सरस्वती, माँ अन्नपूर्णा,... पर विपरीत परिस्थितियों में माँ दुर्गा से चंडिका, रक्तदंतिका, महिषासुरमर्दिनी .... पूरे नौ रूप की यात्रा करती है। इस माँ को कवि विष्णु नागर ने जिस तरह शब्दों में पिरोया है, उसको आप तक पहुँचाने से मैं खुद को रोक नहीं सकी...                     - रश्मि प्रभा

सर्वगुण संपन्न माँ 

मां सब कुछ कर सकती है
रात- रात भर बिना पलक झपकाए जाग सकती है
पूरा- पूरा दिन घर में खट सकती है
धरती से ज्यादा धैर्य रख सकती है
बर्फ से तेजी से पिघल सकती है
हिरणी से ज्यादा तेज दौड़कर
खुद को भी चकित कर सकती है
आग में कूद सकती है
तैरती रह सकती है समुद्रों में
देश- परदेश शहर- गांव
झुग्गी- झोंपड़ी सड़क पर भी रह सकती है
वह शेरनी से ज्यादा खतरनाक
लोहे से ज्यादा कठोर सिद्ध हो सकती है
वह उत्तरी ध्रुव से ज्यादा ठंडी और
रोटी से ज्यादा मुलायम साबित हो सकती है
वह तेल से भी ज्यादा देर तक खौलती रह सकती है
चट्टान से भी ज्यादा मजबूत साबित हो सकती है
वह फांद सकती है ऊंची-से-ऊंची दीवारें
बिल्ली की तरह झपट्टा मार सकती है
वह फूस पर लेटकर महलों में रहने का सुख भोग सकती है
वह फुदक सकती है चिडिय़ा की मानिंद
जीवन बचाने के लिए वह कहीं से कुछ भी चुरा सकती है
किसी के भी पास जाकर वह गिड़गिड़ा सकती है
तलवार की धार पर दौड़ सकती है वह लहुलुहान हुए बिना
वह देर तक जल सकती है राख हुए बगैर
वह बुझ सकती है पानी के बिना
वह सब कुछ कर सकती है इसका यह मतलब नहीं
कि उससे सब कुछ करवा लेना चाहिए
उसे इस्तेमाल करने वालों को गच्चा देना भी खूब आता है
और यह काम वह चेहरे से बिना
कुछ कहे कर सकती है।...
            - कवि विष्णु नागर
फिर स्वत: मेरी कलम ने कवि के साथ अपना रिश्ता कायम करते हुए खुद को शब्दों में ढाला-

माँ जो हूँ

प्यार करनेवाली माँ जब नीम सी लगने लगे तो समझो
उसने तुम्हारी नब्ज पकड़ ली है और तीखी दवा बन गई है!
याद रखो जो माँ नौ महीने तुम्हें साँसें देती है
पल- पल बनती काया का आधार बनी रहती है
तुम्हारी नींद के लिए पलछिन जागती है
वह तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती है
तब तक जब तक नीम का असर
फिर से जीवन न दे जाए!
माँ प्यार करती है, दुआ बनती है, ढाल बनती है
तो समय की माँग पर वह नट की तरह रस्सी पर
बिना किसी शिक्षा के अपने जाये के लिए
द्रुत गति से चल सकती है
अंगारों पर बिना जले खड़ी रह सकती है
वह इलाइची दाने से कड़वी गोली बन सकती है
जिन हथेलियों से वह तुम्हें दुलराती है
समय की माँग पर
वह कठोरता से तुम्हें मार सकती है ...
तुम्हें लगेगा माँ को क्या हुआ!
क्योंकि तुम्हें माँ से सिर्फ पाना अच्छा लगता है
यह तुम बाद में समझोगे
कि माँ उन चीजों को बेरहमी से छीन लेती है
जो तुम्हारे लिए सही नहीं
और सही मायनों में
ऐसी माँ ही ईश्वर होती है!

3 Comments:

प्रतिभा सक्सेना said...

विश्व का कोई भाव व्यर्थ नहीं है -सही समय पर उचित उपयोग उसे कल्याणकारी बना कर सार्थक कर देता है -माँ से बढ़ कर हितचिन्तक और कौन हो सकता है !

सुशील कुमार जोशी said...

बहुत सुंदर वाह ।

आशा जोगळेकर said...

माँ का यह नीम सा लगना भी कितना जरूरी था इसका अहसास बहुत बाद में होता है।

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष