June 06, 2020

क्या दुनिया खत्म होने वाली है...

क्या दुनिया खत्म होने वाली है... 
-डॉ रत्ना वर्मा
क्या दुनिया 2020 में खत्म हो जाएगी? क्या कोरोना वायरस ही दुनिया को खत्म करने का कारण बनेगा? पिछले कई सालों से अलग- अलग लोगों द्वारा दुनिया के समाप्त हो जाने की भविष्यवाणी की जाती रही है; पर दुनिया है कि हर मुसीबत को पार करके चलते जा रही है। हाँ, ये जरूर है कि पिछले कुछ दशकों से दुनिया भर में आने वाले भूकंप, बाढ़- तूफान, गर्मी और प्रदूषण के लगातार बढ़ते कारणों पर नज़र डालकर हमारे पर्यावरणविद् दुनिया को यह चेताते आए हैं कि यदि हमने प्रकृति का दोहन करना बंद नहीं किया, अपने जीवन जीने के तरीकों में बदलाव नहीं लाए,  तो दुनिया जीने लायक नहीं रहेगी और एक दिन खत्म हो जाएगी। यही सच्चाई भी है।
 इस समय हमारे सामने कोरोना वायरस को हराने की एक बड़ी चुनौती है। इस चुनौती ने हमें सिखाया है कि दुनिया को समाप्ति की ओर ले जाने वाले हम इंसान ही हैं , जो अपनी ही बर्बादी का कारण बन रहे हैं। कोरोना वायरस चाहे जिस कारण से भी आया हो; पर इस वायरस ने हम सबको यह तो बता ही दिया कि हम जीने का तरीका भूल गए हैं। हमने सुख और शांति की परिभाषा बदलकर उसे पैसे और अति -महत्त्वाकांक्षाओं में तब्दील कर दिया है।
कोरोना वायरस के हमले के बाद से पूरी दुनिया ने अपने- अपने देश में तालाबंदी करके इस वायरस को रोकने का भरसक प्रयास  किया है। हवाईयात्रा, रेलयात्रा से लेकर सड़क पर चलने वाले सभी परिवहन के साधन सब बंद कर दिए गए। स्कूल कॉलेज, ऑफिस, बाजार, मॉल, दुकानें, थियेटर, धुँआ उगलते, गंदगी फैलाते छोटे बड़े कल- कारखाने सब कुछ बंद करना पड़ा। कुल मिलाकर इंसान अपने- अपने घरों में कैद हो गए। दुनिया एक तरह से थम गई।
दुनिया की पूरी अर्थव्यवस्था भी चरमरा गई , लोग बेरोजगार हो गए हैं। प्रवासी मज़दूरों की वापसी के सिलसिले के बाद तो भारत ने मार्च में तालाबंदी का जो कदम उठाकर दुनिया भर की वाहवाही बटोरी थी, उसपर पानी फिर गया। घर लौटना सबसे ज़रूरी है; परंतु वायरस को फैलने से रोकना उससे भी ज्यादा जरूरी है। थोड़ा और धैर्य रखते, तो शायद आज भारत के हालात कुछ और होते। कोरोना के खतरे कम होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। मरने वालों का आँकड़ा बढ़ता ही जा रहा है।
इस महामारी का सामना करने के लिए केन्द्र से लेकर प्रदेश की सभी सरकारें अपने-अपने स्तर पर प्रयास कर रही हैं सोनू सूद जैसे कई हाथ भी सहायता के लिए आगे आ रहे हैं; पर देश के जो हालात हैं, उसमें एक सोनू सूद नहीं,कई सोनू सूद को आगे आना होगा। देर-वेर हम इस कोरोना रूपी राक्षस को मार गिराने में सफल तो होंगे;  लेकिन जब तक इस राक्षस को मारने के लिए कारगर औजार यानी दवाई नहीं मिल जाती, तब तक तो सबको इसके साथ ही जीना सीखना होगा ना। इसके लिए जरूरी है- हम अपनी जीवन शैली में बदलाव लाएँ और प्रकृति की आबोहवा को शुद्ध करते हुए अपने शरीर को इस कोरोना संक्रमण से मुकाबला करने लायक बनाएँ ।
जब बात जीने की हो रही हो, तो इस महामारी में तालाबंदी के बाद हमें अपनी प्रकृति में कुछ बहुत ही खूबसूरत नजारें भी दिखाई दे रहे हैं, जैसे- देश के कई महानगरों में जहाँ के लोग नीले आसमान का रंग भी भूल चुके थे, वहाँ के लोग अब सफेद बादलों को नीले आसमान पर उड़ते हुए देख पा रहे हैं। प्रदूषण रहित आसमान में सूर्योदय और सूर्यास्त की लालिमा देखने के लिए लोग अपने अपने घरों की छत पर कैमरा लेकर जाने लगे हैं। जिनकी नींद कभी मोटर- गाड़ियों के शोर और हार्न के बजने पर खुलती थी, उनकी नींद अब चिड़ियों की चहचहाहट को सुनकर खुलती है। वायु प्रदूषण के कारण जिन शहरों में बाहर निकलते ही  साँस लेना दूभर हो गया था, वहाँ लोग अब स्वच्छ हवा में साँस ले रहे हैं,  यही नहीं पंजाब के जालंधर शहरवासियों के लोगों को खुली आँखों से  हिमाचल की बर्फीली चोटियाँ नजर आने लगी हैं।  और सबसे बड़ी खबर गंगा और यमुना के पानी के स्वच्छ हो जाने की है। जो काम इतने बरसों में अरबों- खरबों रुपये खर्च करके भी पूरा नहीं किया जा सका ,वह काम इस तालाबंदी ने बिना एक पैसा खर्च किए कर दिया। गंगा जमुना का जल न केवल साफ हुआ है; बल्कि वह पीने लायक भी हो गया है।
उपर्युक्त खबरें इसलिए भी चौकाने वाली हैं; क्योंकि इन नदियों के पानी को इससे पहले नहाने लायक भी नहीं समझा जाता था। शहरवासियों के लिए नीला आसमान देखना स्वप्न के समान था, ऐसे में सरकार और कुछ सीखे या न सीखे; परंतु उसे इतनी सीख तो मिलनी ही चाहिए कि प्रदूषण कम करना हो, नदियों का पानी स्वच्छ करना हो, सड़कों पर गाड़ियों से उगलते धुएँ को कम करना हो, तो बड़े- बड़े प्रोजेक्ट बनाने की जरूरत नहीं, बस उन्हें कुछ समय के लिए पूर्ण तालाबंदी करने की जरूरत होगी।  आसमान क्यों स्वच्छ हुआ, गंगा का पानी इस तालाबंदी के दौरान क्यों पीने लायक बना, इन सबके पीछे के कारण को समझने की जरूरत है। देश की नदियों में कल-कारखानों से निकलने वाले गंदे और प्रदूषित पानी को नदियों में बहाने से जिस दिन हमारी सरकार रोक लेगी, उस दिन हमारी नदियाँ स्वच्छ हो जाएँगी। पर क्या हम ऐसी योजना बना पाएँगे जिससे कल कारखानों से निकलने वाला काला धुँआ वातावरण में न घुलने पाए और गंदा पानी नदियों में प्रवाहित न हो? क्या ऐसा सोचना दिवास्वप्न  के समान है?
हाँ सपने देखना जरूरी है, तभी हम उसे पूरा करने के बारे में सोच पाएँगे। कोरोना की महामारी ने ना जाने कितनों को आपनों से जुदा कर दिया है। लोगों की जीविका के साधन छीन लिये। लोग मानसिक और शारीरिक रूप से टूट गए। लेकिन जब जीवन दाँव पर लगा हो, तो इंसान सबकुछ करने को तैयार हो जाता है, करोना ने कम से कम हम इंसानों को यह जरूर सिखा दिया है कि जब बड़ी मुसीबत आती है, तो पूरी दुनिया एक दूसरे का साथ देने के लिए साथ खड़ी हो जाती है। जब ऐसा है, तो क्यों न यही इच्छा शक्ति यही जोश हम सब मिलकर अपने बिगड़ते पर्यावरण को बचाने के लिए भी दिखाएँ और दिन--दिन प्रदूषित होते जा रहे वातावरण को शुद्ध करने की दिशा में भी गंभीरता से काम करें। उम्मीद है कोरोना का यह संकट हमें अपने पर्यावरण को बचाने के लिए भी प्रेरित करेगा। 

9 Comments:

शिवजी श्रीवास्तव said...

कोरोना महामारी को जहाँ दुनिया ने बड़े संकट के रूप में देखा,आशंकाओं को जन्म दिया,वहीं अनेक सकारात्मक परिवर्तन भी देखने को मिलें,इन आशंकाओं और परिवर्तनों पर दृष्टिपात करता सुंदर आलेख।बधाई डॉ. रत्ना वर्मा जी।

bhawna said...

वर्तमान परिदृश्य का आकलन करता सार्थक आलेख। बधाई रत्ना जी।

विजय जोशी said...

अद्भुत आकलन आ. रत्नाजी. कृपया मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिये.🌹🙏🏽
ये दौर भी गुजर जाएगा. कुल मिलाकर :
- वो जो मुश्किलों का अंबार है
- वही तो मेरे हौसलों की मीनार है
पर अब भी न चेते तो खड़ा है द्वार पर महाकाल, ले जाने को तत्काल. सो यह अवसर है प्राण दायिनी प्रकृति का उपकार चुकाने का, पापों के प्रायश्चित का :
🌳 पीपल, बरगद, आंवलों के लिये
- हम दुआएं करें जंगलों के लिये
- घुल रहा है हवा में ज़हर ही ज़हर
- कुछ जतन तो करें कोंपलों के लिये
हार्दिक धन्यवाद एवं आभार 🌹👍🏽

प्रतिमा चंद्राकर said...

जब भी मनुष्य को सामने से काल आते नजर आता है तो वह सारे कुकर्मों को त्यागने एवं ईश्वर के सामने माथा टेक कर सही मार्ग पर चलने की प्रतिज्ञा करने में समय नही लगाता। वक्त के साथ संकट टल जाने पर भी अगर मनुष्य अपने द्वारा किए गए वायदे व प्रतिज्ञा पर चले तो शायद प्रकृति हमें माफ़ कर दे, और आने वाली पीढ़ियों के लिए कुछ अच्छा बचा के छोड़ पाए, वरना अगली पीढ़ी भी हमारे जीवन के अंशों को उसी तरह ढूंढती रहेगी जैसा कि हम आज डायनोसोर के जीवाश्मों में रिसर्च कर रहे।

रत्ना वर्मा said...

शुक्रिया जोशी जी 🙏

रत्ना वर्मा said...

शुक्रिया श्रीवास्तव जी 🙏

रत्ना वर्मा said...

बहुत सच्ची और खरी बात कह रही हो प्रतिमा। हमें प्रकृति के साथ तालमेल बिठा कर चलना सीखना होगा।

रत्ना वर्मा said...

शुक्रिया भावना 🙏

Unknown said...

प्रकृति के अत्यधिक दोहन का दुष्परिणाम या देवी आपदा ये चाहे जो भी हो परन्तु इसने इस भागती दौड़ती जिंदगी में हमे रुककर कुछ सोचने का सुअवसर प्रदान किया है।

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष