March 21, 2011

हाऊस वाईफ के अस्तित्व पर उठते सवाल?

- वन्दना गुप्ता

एक स्वस्थ और खुशहाल समाज इन्हीं हाऊस वाईफ की देन है। आज बच्चों की परवरिश और घर की देखभाल करके हाऊस वाईफ अपना जो योगदान दे रही है वह किसी भी वर्किंग वूमैन से कम नहीं आंकी जा सकती है...
क्या हाऊस वाईफ सिर्फ बच्चे पैदा करने और घर सँभालने के लिए होती हैं ?
क्या हाऊस वाईफ का परिवार, समाज और देश के प्रति योगदान नगण्य हैं ?
यदि नहीं हैं तो क्यों ये आजकल के लाइफ इंश्योरेंस, बैंक या म्युच्यूवल फंड वाले फोन पर पूछते हैं कि आप हाऊस वाईफ हैं या वर्किंग वुमैन? आर्थिक निर्णय तो सर लेते होंगे?
इस तरह के कई प्रश्न करके क्या ये लोग हाऊस वाईफ के अस्तित्व पर प्रश्नचिन्ह खड़ा नहीं कर रहे हैं?
आखिर क्यों आज इतने पढ़े लिखे होकर भी ऐसी अनपढ़ों जैसी बात पूछी जाती हैं और सबसे मजेदार बात तो ये है कि इस तरह के प्रश्न पूछने वाली महिला ही होती है।
ऐसे सवाल पूछते समय क्यूँ उसे शर्म नहीं आती। वह क्यों नहीं सोच पाती कि महिलाएं वर्किंग हों या हाऊस वाईफ उनका योगदान देश के विकास में एक पुरुष से किसी भी तरह कमतर नहीं है। जबकि आज सरकार ने भी घरेलू महिलाओं के योगदान को सकल घरेलू उत्पाद में शामिल करने का निर्णय लिया है...
अपने त्याग और बलिदान से, प्रेम और सहयोग से हाउस वाईफ इतना बड़ा योगदान करती है यह बात ये पढ़े- लिखे अनपढ़ क्यों नहीं समझ पाते?
जबकि हम सब जानते हैं कि एक स्वस्थ और खुशहाल समाज इन्हीं हाऊस वाईफ की देन है। आज बच्चों की परवरिश और घर की देखभाल करके हाऊस वाईफ अपना जो योगदान दे रही है वह किसी भी वर्किंग वूमैन से कम नहीं आंकी जा सकती है... आखिर इतनी सी बात भी इन बड़ी- बड़ी कंपनियों को समझ नहीं आती ?
पति और पत्नी दोनों शादी के बाद एक इकाई की तरह होते हैं तो फिर सिर्फ आर्थिक निर्णय लेने की स्थिति में एक को ही महत्व क्यूँ दिया जाता है? क्या सिर्फ इसलिए क्योंकि वह कमाता है? ऐसा कई बार होता है कि कोई मुश्किल आये और पति न हो तो क्या पत्नी उसके इंतजार में आर्थिक निर्णय न ले? क्या पत्नी की हैसियत घर की चारदीवारी तक ही बंद है?
जबकि हम देखते हैं कि कितने ही घरों में आज और पहले भी आर्थिक निर्णय महिलाएं ही लेती हैं... पति तो बस पैसा कमाकर लाते हैं और उनके हाथ में रख देते हैं... उसके बाद वो जाने... कि कैसे उस पैसे का इस्तेमाल करना है।
जब पति- पत्नी को एक दूसरे पर इतना भरोसा होता है तो फिर ये कौन होते हैं एक स्वच्छ औ मजबूत रिश्ते में दरार डालने वाले...
कुछ लोगों की मानसिकता क्या दर्शा रही है कि हम आज भी उस युग में जी रहे हैं जहाँ पत्नी सिर्फ प्रयोग की वस्तु थी... मानती हूँ आज भी काफी हद तक औरतों की जिन्दगी में बदलाव नहीं आया है तो उसके लिए सिर्फ हाऊस वाईफ कहना कहाँ तक उचित होगा जबकि वर्किंग वुमैन की स्थिति भी अपने परिवार में आर्थिक निर्णय लेने की नहीं होती... उन्हें सिर्फ कमाने की इजाजत होती है। खर्च करने या आर्थिक निर्णय लेने का अधिकार वे नहीं रखतीं। ...तो फिर क्या अंतर रह गया दोनों की स्थिति में?
फिर ऐसा प्रश्न पूछना कहाँ तक जायज है कि निर्णय कौन लेता है? और ऐसा प्रश्न क्या घरेलू महिलाओं के अस्तित्व और उनके मान सम्मान पर गहरा प्रहार नहीं है?
क्या ऐसी कम्पनियों पर लगाम नहीं लगाया जाना चाहिए? उन्हें इससे क्या मतलब कि निर्णय कौन लेता है... वो सिर्फ अपना प्रयोजन बताएं । यह उनके परिवार की समस्या है वे निर्णय चाहे मिलकर लें या अकेले... फिर क्यूँ वे ऐसे प्रश्न पूछकर घरेलू महिलाओं के अस्तित्व को सूली पर लटकाते हैं? इस एक छोटे से सवाल को आधार बनाकर मैं आप सबसे भी पूछना चाहती हूं कि क्या आप भी ऐसा ही सोचते हैं -
- कि घरेलू महिलाएं निर्णय लेने में सक्षम नहीं होतीं?
- कि उन्हें अपने घर में दायरे तक ही सीमित रहना चाहिए?
- कि आर्थिक निर्णय लेना उनके बूते की बात नहीं है ?
और यह भी कि ये कम्पनियाँ जो कर रही हैं क्या सही कर रही हैं?
मेरे बारे में ...
मैं एक गृहिणी हूँ। मुझे पढऩे- लिखने का शौक है तथा झूठ से मुझे सख्त नफरत है। मैं जो भी महसूस करती हूँ, निर्भयता से उसे लिखती हूँ। अपनी प्रशंसा करना मुझे आता नहीं इसलिए मुझे अपने बारे में सभी मित्रों की टिप्पणियों पर कोई एतराज भी नहीं होता है।

10 Comments:

दीपक 'मशाल' said...

Bahut aavashyak prashn uthaya hai Vandana ji.. khushi hui padhkar..

अरुण चन्द्र रॉय said...

vandana jee ka main niyamit pathak hoo.... kavita ke saath saath aalekh me bhi we bahut gambhir prashna uthati hain... isi kram me yah aalekh bhi hai.. bhasha par unki pakad achhi hai aur vishay par nai drishti de rahi hain...

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बेहतरीन लेख ...सही मुद्दा उठाया है ..सटीक और सार्थक प्रश्न

Anita said...

वन्दना जी आपका लेख वाकई एक ज्वलंत प्रश्न पर चर्चा की मांग कर रहा है, घर में रहकर बच्चों को संस्कार देना तथा समाज में परिवार को एक सम्मानजनक स्थान दिलाना एक गृहणी का ही काम है और अन्ततः देश के प्रति योगदान !

baabusha said...

Excellent ! :)
happy to see another staunch feminist in the row. Though I m a working girl yet I do respect housewives a lot because I know, those who are going out to earn bread-butter, actually can't think of a life without housewives. If we, the working people are the 'bread winners', u - the housewives are the 'heart-winners'. way to go vandana Ji.

Er. सत्यम शिवम said...

बहुत ही प्रेरनादयी और आज के समाज को कचोटती...अच्छी रचना........
वंदना जी ने नारी शक्ति का बोध कराया है सबको।

Kailash C Sharma said...

बहुत सार्थक प्रश्न उठायें हैं...बहुत सुन्दर लेख ..आभार

pinky said...

मै नौकरी करती हूँ ..मुझे फिर भी कभी ये नहीं लगा कि जैसे मै कुछ बहुत बड़ा कोई महान काम कर रही हूँ ...घर की थोड़ी बहुत जिम्मेदारिया भी निभाने की कोशिश करती हूँ पर जैसी... मेरी मदर हर काम को बड़ी आसानी से निपटा लेती है ...वो बात मुझमे नहीं आती ...जो लोग ऐसा समझते है कि गृहिणी मतलब सिर्फ घर के कामकाज करने वाली ..तो उनकी सोच पे मुझे तो हँसी ही आएगी ..क्यों कि मुझे पता हैं कि अगर मेरी मदर 2 दिन काम से छुट्टी पा ले या आराम कर ले तो मेरी क्या 'हालत' होती है ...उनकी महत्ता मै पैसे कमा के लाने वाली से कही 'ज्यादा' है ...घर के सारे आर्थिक निर्णय भी उन्ही के होते है ..और सही भी...उनकी महत्ता नहीं समझना ही सबसे बड़ी बेवकूफी की बात है....

वन्दना said...

दोस्तों,
हौसला बढाने के लिये आप सबकी हार्दिक आभारी हूँ …………और यही चाहती हूँ कि सब अपनी सोच के दायरे को बढायें।

pinky said...

मै नौकरी करती हूँ ..मुझे फिर भी कभी ये नहीं लगा कि जैसे मै कुछ बहुत बड़ा कोई महान काम कर रही हूँ ...घर की थोड़ी बहुत जिम्मेदारिया भी निभाने की कोशिश करती हूँ पर जैसी... मेरी मदर हर काम को बड़ी आसानी से निपटा लेती है ...वो बात मुझमे नहीं आती ...जो लोग ऐसा समझते है कि गृहिणी मतलब सिर्फ घर के कामकाज करने वाली ..तो उनकी सोच पे मुझे तो हँसी ही आएगी ..क्यों कि मुझे पता हैं कि अगर मेरी मदर 2 दिन काम से छुट्टी पा ले या आराम कर ले तो मेरी क्या 'हालत' होती है ...उनकी महत्ता मै पैसे कमा के लाने वाली से कही 'ज्यादा' है ...घर के सारे आर्थिक निर्णय भी उन्ही के होते है ..और सही भी...उनकी महत्ता नहीं समझना ही सबसे बड़ी बेवकूफी की बात है....

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष