September 15, 2019

यादें

 100वाँ जन्मदिन मुबारक हो माझा  
- जेन्नी शबनम

जन्मदिन मुबारक हो माझा! सौ साल की हो गई तुम, मेरी माझा। गर्म चाय की दो प्याली लिये हुए इमा अपनी माझा को जन्मदिन की बधाई दे रहे हैं। माझा कुछ नहीं कहती बस मुस्कुरा देती है। इमा-माझा का प्यार शब्दों का मोहताज़ कभी रहा ही नहीं। चाय धीरे-धीरे ठंडी हो रही है। माझा अपने कमरे में नज़्म लिख रही है और इमा अपने कमरे में रंगों से स्त्री का चित्र बना रहे हैं; स्त्री के चेहरे से सूरज का तेज पिघल रहा है। बहुत धीमी आवाज़ आती है - इमा इमा। इमा दौड़े आते हैं और पूछते हैं- तुमने चाय क्यों नहीं पी माझा? अच्छा अब उठो और चाय पियो,  देखो ठंडी हो गई है। तुम्हें रोज़ रात को चाय पीने की तलब होती है, मुझे मालूम है, तभी तो रोज़ रात को एक बजे तुम्हारे लिए चाय बना लाता हूँ। इमा धीरे-धीरे दोनों प्याली पी जाते हैं मानों एक प्याली माझा ने पी ली। फिर माझा को प्यार से सुलाकर अपने कमरे में चले जाते हैं रंगों की दुनिया में जीवन बिखेरने।
 हाँ! इमा, वही इमरोज़ हैं जिनके प्रेम में पड़ी अमृता की नज्मों को पढ़-पढ़कर एक पीढ़ी बूढ़ी होने को आई है। माझा वह नाम है जिसे बड़े प्यार से उन्होंने दिया है। अमृता- इमरोज़ ने समाज के नियम व कायदे के ख़िलाफ़ जाकर सुकून की दुनिया बसाई। वे एक मकान में आजीवन साथ रहे लेकिन कभी एक कमरे में न रहे। दोनों अपने-अपने काम मे मशगूल,  कभी किसी की राह में अड़चन पैदा न की। आपसी समझदारी की मिसाल रही यह जोड़ी; हालाँकि प्यार में समझदारी की बात लोग नहीं मानते हैं। दोनों ने कभी प्यार का इज़हार न किया, लेकिन दोनों एक दूसरे के प्यार में इतने डूबे रहे कि कभी एक दूसरे को अलग माना ही नहीं। अब भी इमरोज़ के लिया अमृता जीवित है और कमरे में बैठी नज्में लिखती है। अब भी वे रोज़ दो कप चाय बनाते हैं और अमृता के लिए रखते हैं। चाय के प्यालों में आज भी मचलता है अमृता इमरो का प्यार।  
इमरोज़ अमृता से शिकायत करते हैं - ''अब तुम अपना ध्यान नहीं रखती हो माझा। मैं तो हूँ नहीं वहाँ जो तुम्हारा ख्याल रखूँगा।'' माझा मुस्कुरा देती है, कहती है - एक आखिरी नज़्म सुन लो इमा, मेरी आखिरी नज़्म जो सिर्फ तुम्हारे लिए -  
मैं तुम्हें फिर मिलूँगी
कहाँ कैसे पता नहीं 
शायद तेरे कल्पनाओं
की प्रेरणा बन
तेरे केनवास पर उतरुँगी
या तेरे केनवास पर
एक रहस्यमयी लकीर बन
ख़ामोश तुझे देखती रहूँगी
मैं तुझे फिर मिलूँगी
कहाँ कैसे पता नहीं
या सूरज की लौ बन कर
तेरे रंगो में घुलती रहूँगी
या रंगो की बाँहों में बैठ कर
तेरे केनवास पर बिछ जाऊँगी
पता नहीं कहाँ किस तरह
पर तुझे ज़रुर मिलूँगी...  
बीच में ही टोक देते हैं इमरोज़। आह! मैं जानता हूँ मेरी माझा, तुम अपनी नज्मों में मुझे जीवित रखोगी और मैं अपने जीवन के पल-पल में तुम्हें सँभाले रखूँगा। तुम गई ही कहाँ हो? जो मुझसे मिलोगी। तुम मेरे साथ हो। हाँ, अब हौज़ ख़ास का वह मकान न रहा जहाँ हमारी सभी निशानियाँ थीं, वक़्त ने वह छीन लिया मुझसे। तुम भी तो नहीं थी उस वक़्त जो ऐसा होने से रोकती। पर यह मकान भी अच्छा है। तुम्हारी पसंद का सफ़ेद रंग यहाँ भी है। परदे का रंग देखो, कैसे बदलता है, जैसा तुम्हारा मन चाहे उस रंग में परदे का रंग बदल दो। इस मकान में मैं तुम्हें ले आया हूँ, और अपनी हर निशानी को भी अपने दिल में बसा लाया हूँ। जानता हूँ तुम्हारी परवाह किसी को नहीं, अन्यथा आज हम अपने उसी घर में रहते, जिसे हमने प्यार से सजाया था। हर एक कोने में सिर्फ तुम थी माझा, फिर भी किसी ने मेरा दर्द नहीं समझा। हमारा घर हमसे छिन गया माझा। अब तो ग्रेटर कैलाश के घर में भी कम ही रहता हूँ, जहाँ बच्चे कहें, वहाँ ही रहता हूँ। पर तुम तो मेरे साथ हो मेरी माझा। अमृता हँसते हुए कहती है - इमा, मेरे पूरी नज़्म पढ़ लेना।  
बहुत अफ़सोस होता है,  इतनी कोशिशों के बाद भी अमृता-इमरोज़ के प्रेम की निशानी का वह घर बच न सका। हर एक ईंट के गिराए जाने के साथ-साथ टुकड़े-टुकड़े होकर अमृता-इमरोज़ का दिल भी टूटा होगा। किसी ने परवाह न की। काश! आज वह घर होता तो वहाँ अमृता का 100 वाँ जन्मदिन मनाने वालों की भीड़ होती। छत पर पक्षियों की टोली जिसे हर दिन शाम को इमरोज़ दाना पानी देते हैं, की चहकन होती और अमृता के लिए मीठी धुन में जन्मदिन का गीत गीत। घंटी बजने पर सफ़ेद कुर्ता पायजामा में इमरोज़ आते और मुस्कुराते हुए दरवाज़ा खोलते और गले लगकर हालचाल लेते। फिर खुद ही चाय बनाते और हमें पिलाते। अमृता की ढेर सारी बातें करते। अमृता का कमरा जहाँ वह अब भी नज्में लिखती हैं, दिखाते। इमरोज़ को घड़ी पसंद नहीं, इसलिए वक़्त को वे अपने हिसाब से देखते हैं। हाँ, वक़्त ने नाइंसाफी की और अमृता को ले गया। काश! आज अमृता होती तो उनकी 100 वीं वर्षगाँठ पर इमरोज़ की लिखी नज़्म अमृता से सुनती। बहुत-बहुत मुबारक हो जन्मदिन अमृता-इमरोज़!
 (31. 8. 2019)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष