July 14, 2019

गाँव के हाइकु

1. रोती है गगरिया
-डॉ.कविता भट्ट
1
पीपल मौन
पनघट सिसके
सुध ले कौन?
2
ना ही बतियाँ
रोती है गगरिया,
क्या डगरिया।
3
हँसी छिटकी
चौपाल यों सिसकी
विदा कन्या-सी
4
गाँव से रास्ते
माना जाने के लाखों,
लौटे न कभी.
5
खाली गौशाला
नाचे-झूमे खामोशी
ओढ़े दुशाला ।
6
गाँव यों रोए-
पगडण्डी रुआँसी
शाम धुआँ-सी
7
विरहनसे
गाँव हैं अब सारे
राह निहारे 
8
आँखें भी मौन
ग्राम -बालिका वधू
सुध ले कौन 
9
बूढ़ी चौपाल
 तोड़ रही है दम
कोई न प्यार
10
जीर्ण हैं द्वार
पहाड़ी घर के तो,
 मनुहार 

-0-

2. मेघ हुए बेवफ़ा 
-डॉ० शिवजी श्रीवास्तव
1.
श्रम की बूँदें
झरती खेतों बीच
उगता सोना।
2.
गाय रम्भाए
धनिया पानी लाए
होरी मुस्काए।
3.
हल्कू उदास
फिर आई बैरन
पूस की रात
4.
गाँव की बातें
धूप के संत्रास में
छाँव की बातें।
5.
गाँव का स्कूल
बच्चों का आकर्षण
मिड-डे-मील।
6.
बिके जो धान
करे वो कन्यादान
गङ्गा में स्नान।
7.
सूना चौपाल,
गाँव के बाहर ही
खुला है मॉल।
8.
पत्नी प्रधान
सत्ता पति के पास।
कैसा विधान?
9.
गीतों के झूले
खेतों बीच डोलते
धान रोपाई।
10
खेतों में धान
इंद्रदेव रूठे हैं
क्या होगा राम।
11.
विकास -राशि
प्रधान की बैठक
बन्दरबाँट।
12.
कैसा गोदान
खेत चरें गोवंश
त्रस्त किसान।
13.
गागर रीती
पनघट गिरवी
जल आँखों में।
14.
मेघ से डरे
कुटिया किसान की
बचें न बचें।
15
काँपी कुटिया
रोई पगडंडियाँ
झरे सावन।
16.
सूखते खेत,
मेघ हुए बेवफा 
दुखी किसान।
 सम्पर्कः विवेक विहार, मैनपुरी। mail--shivji.sri@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष