January 15, 2019

स्मरण

केवल विचारों से नहीं 
व्यवहार में भी प्रतिबद्ध थे
प्रभाकर चौबे
विनोद साव
                       
मुक्तिबोध अपने समय में अकेले अकेले से रहने वाले लेखक थे। महाराष्ट्र मंडल, रायपुर के आयोजन में तब यह बताया गया था कि ’मुक्तिबोध के नाम से रखा गया पुरस्कार इस नए राज्य (छत्तीसगढ़) में अकेला साहित्यिक पुरस्कार है।’ उस पुरस्कार को प्राप्त करने वाले प्रभाकर चौबे अपने आसपास अकेले प्रभाकर चौबे ही रहे। मुक्तिबोध सम्मान समारोह के दौरान प्रभाकर चौबे सभा भवन के बाहर अकेले ही मिलेतो विनोद शंकर शुक्ल ने कह दिया कि ’चौबे जी! सभा कक्ष से बाहर मत घूमिए, नहीं तो आपका सम्मान कोई दूसरा लेकर चम्पत हो जाएगा।’ प्रभाकर जी ने अपनी चिरपरिचित विनोद प्रियता में जवाब दिया -’मैंने आयोजकों के सामने अपनी हाजिरी लगा दी है, ताकि ऐसी कोई वारदात न हो जाए। रिटायमेंट के बाद ग्यारह हजार रुपयों का पुरस्कार मायने रखता है। लेनदारों को भी बता दिया है कि किस- किसका कितना बकाया है यहीं आकर ले जाए।’ 
उस दिन सम्मान ग्रहण करने से पहले बड़े आकर्षक दिख रहे थे प्रभाकर जी। पेंट के उपर खोंसकर पहना हुआ बढ़िया चेक शर्ट और बाल करीने से सजे हुए थे। सम्मान में बड़ी शक्ति होती है। माइक पर आते ही उन्होंने कह भी दिया था कि ’मुझे पुरस्कार मिलने पर जिन्हें प्रसन्नता हुई उनके प्रति तो मैं आभारी हॅूं ही.. और उनके प्रति भी जिन्हें प्रसन्नता नहीं हुई।‘ तुलसीदास की खल वन्दना की तरह। बड़ी बेबाकी से यह कह दिया था उन्होंने। लेकिन उस दिन महाराष्ट्र मंडल का खचाखच भरा हाल प्रभाकर चौबे की साख और उनकी रचना यात्रा के प्रभाव को प्रमाणित कर रहा था। 
प्रभाकर चौबे का जीवन एक साधक की तरह रहा है। उन्होंने जीवन का एक लम्बा कालखण्ड रायपुर में देशबन्धु परिवार के साथ बिताया और रामसागर पारा में निवास किया। देशबन्धु में उनके व्यंग्य कालम ’हॅसते हैं रोते हैं’ लगभग पच्चीस बरसों तक चला होगा। संभवतः यह किसी भी अखबार में सबसे अधिक समय तक चलने वाला साप्ताहिक स्तम्भ लेखन था। यह व्यंग्य का स्तम्भ था। इस स्तम्भ का अगर रजत जयन्ती वर्ष पूर्ण हुआ हो तो प्रभाकर जी के अवदान पर गम्भीर चर्चा होनी थी ,पर हो नहीं पायी। इस कीर्तिमान को गढ़ने का श्रेय देशबन्धु के सम्पादक ललित सुरजन और प्रभाकर चौबे दोनों को जाता है। ललित जी ने हरिशंकर परसाई के सन्दर्भ में कहा था कि ’अपने तल्ख विचारों के कारण परसाई जी को छापने का साहस तब अखबार नहीं कर पाते थे, पर बाबूजी (मायाराम सुरजन) ने परसाई जी को देशबन्धु और नई दुनिया में खूब छापा और परसाई के लोक शिक्षण से भरे विचारों को जन जन तक पहुँचाया।’ यह बात प्रभाकरजी के लिए भी लागू होती है... और जिस तरह देशबन्धु ने उन्हें अपने साथ हमेशा जोड़े रखा यह एक विचारवान और सम्प्रेषित होने वाले लेखक को मुखरित होने देने का सद्प्रयास है। यह श्रेयस्कर है। देशबन्धु के बारे में यह माना जाता रहा है कि उन्होंने इस तरह के प्रतिबद्ध और सरस लेखकों का जमावड़ा किया और उन्हें स्थापित करके छोड़ा - इनमें परसाई, प्रभाकर चौबे, राजनारायण मिश्र, रामनारायण उपाध्याय, सत्येन्द्र गुमास्ता, रमेश याज्ञिक, रमाकांत श्रीवास्तव और परदेशी राम वर्मा जैसे ढेरों लेखक रहे।
प्रभाकर चौबे परसाई की परम्परा के संवाहक रहे. तब देशबन्धु परिवार में इस परम्परा को अपनी पूरी सघनता में देखा जा सकता था। ललित सुरजन, राज नारायण मिश्र और प्रभाकर चौबे की लेखनी और उनके विचारों में परसाई का गहन प्रभाव रहा।  ललित सुरजन अपने व्याख्यानों में परसाई का नाम निरन्तर लेते रहे हैं। बाद में राज नारायण मिश्र के राइटिंग टेबल में रखे फोटो स्टेन्ड में परसाई का चित्र भी दिखा था। प्रभाकर चौबे ने अपने कालम का नाम ’हॅसते हैं रोते हैं’ रखा था जो परसाई की पहली किताब का नाम था। परसाई, मार्क्सवाद, वामपंथ और प्रगतिशील आन्दोलन पर उनकी हमेशा आस्था रहीं और वे उनमें हमेशा सक्रिय भी रहे। परसाई ने अपने विचारों के सम्प्रेषण के लिए व्यंग्य को एक शैली के रुप में अपनाया और प्रभाव पैदा किया, ऐसा प्रभाकर चौबे ने भी किया। परसाई की तरह प्रभाकर चौबे ने भी व्यंग्य को विधा नहीं माना ,लेकिन पाठकों ने उन्हें व्यंग्यकार माना। मुक्तिबोध सम्मान उन्हें प्रदान करते हुए यह बार बार कहा गया कि ’प्रभाकर चौबे व्यंग्य विधा के अत्यंत महत्वपूर्ण लेखक हैं।’

प्रभाकर चौबे एक वरिष्ठ लेखक होने के बाद भी अपने परवर्ती लेखकों की रचनाएँ पढ़ने और उन पर विस्तार से चर्चा करने की सदाशयता हमेशा दिखलाते रहे हैं। वे हर नये लेखकों की रचनाएँ पढ़ने के बाद युवा रचनाकारों को एक अच्छी रचना लिखे जाने के लिए फोन पर बधाई देते थे और रचना पर विस्तार से चर्चा करते थे। यह उनके समकालीन अन्य लेखकों के लिए भी अनुकरणीय है। ऐसे ही फोन पर एक निजी क्षण में उन्होंने मुझसे कहा था कि ’तुम मुझे क्या मानते हो मैं नहीं जानता ,पर मैं तुम्हें अपना भतीजा मानता हूँ.’ तब लतीफ़ घोंघी, त्रिभुवन पांडेय, विनोदशंकर शुक्ल जैसे नामी व्यंग्यकार मुझसे मित्रवत् व्यवहार तो करते थे पर उम्र के लिहाज़ से वे थे सभी मेरे चाचा समान।
अमूमन लेखकों में प्रतिबद्धता को लेकर एक भ्रम होता है और वे अपनी प्रतिबद्धता को केवल विचारों से लेकर जोड़ते हैं और बहुत जल्दी इस खुशफहमी में हो लेते हैं कि हम अपने विचारों के प्रति प्रतिबद्ध हैं जबकि वे अपने निजी व्यवहारों में अपने विचारों से भिन्न आचरण कर रहे होते हैं। उनके व्यवहार में उनके विचारों की प्रतिबद्धता की झलक नहीं होती। विचार और व्यवहार का यह एक अन्तर उनकी प्रतिबद्धता में आड़े आता है और वे उस मुकाम पर नहीं पहुँच पाते हैं जहां कि एक प्रतिबद्ध लेखक को पहुँचना होता है। प्रभाकर जी की प्रतिबद्धता जो उनके विचारों में रही लगभग वही उनके व्यवहार में रही। पत्रकारिता और साहित्य जगत की अपनी लम्बी मैराथन दौड़ में वे हमेशा अपनी ट्रैक पर ही दौड़ते रहे हैं।  उन्होंने दूसरों की ट्रैक पर अतिक्रमण नहीं किया। अनावश्यक स्वाभिमान और महत्वाकांक्षा की विभीषिका से अपने को बचाये रखा। सुरजन परिवार और देशबन्धु के साथ समर्पण भाव से वे जीवन पर्यन्त जुड़े रहे। साहित्यिक आयोजनों में नेताओं की मौजूदगी उन्हें रास नहीं आई। ऐसे कार्यक्रमों से वे दूर रहे। साम्प्रदायिक और कट्टरपंथी ताकतों के खिलाफ उन्होंने हमेशा अपनी कलम चलाई और उनका उपहास किया। किसी प्रकार के दुर्व्यसन से वे दूर रहे। प्रकाशन संस्थान से जुड़े रहने के बावजूद वे अनावश्यक पुस्तकें प्रकाशित करवाने का लोभ संवरण कर सके, जिसे आज के लेखकों में एक महामारी के रुप में देखा जा सकता है। अपने ही ट्रैक एण्ड फील्ड पर रहते हुए उन्होंने चौरासी वर्ष का दीर्घ जीवन सफलता से जिया और स्वस्थ्य बने रहे। अभी अंतिम समय में एम्स-रायपुर अस्पताल में जब उन्हें हम देखने गए, तब अशक्तता के बाद भी अपने कामरेडी जोश में हमसे मुस्कुराते हुए हाथ मिलाया. इस प्रकार प्रभाकर चौबे केवल विचारों से ही नहीं अपने व्यवहार में भी सदैव प्रतिबद्ध बने रहे. हमें उनसे सीखना चाहिए।
मो. 9009884014

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष