June 11, 2018

कविता

सूखी नदियाँ
- रामेश्वर काम्बोज हिमांशु

सूखी नदियाँ
नीर नहीं पाएँगे
नीर न मिला
गाछ कहाँ हों हरे !
गाछ न हरे
नीड न बनाएँगे
नीड के बिना
पाखी बेचारे प्यारे
बोलो तो ज़रा
किस देश जाएँगे ?
निर्झर सूखे
कल -कल उदास
पाखी न कोई
अब आता है पास
रोता वसन्त
रो रहे हैं बुराँश
बचा- खुचा जो
लील गई आग है
हरीतिमा का
उजड़ा सुहाग है
बहुत हुआ,
अब तो जाग जाओ
छाँव तरु की
बूँद -बूँद नीर की
जीना है तो बचाओ।

सम्पर्कः सी-1702, जेएम अरोमा, सेक्टर-75, नोएडा- 201301 (उत्तरप्रदेश)

2- कंठ है प्यासा
- डॉकविता भट्ट
कंठ है प्यासा
पहाड़ी पगडंडी
बोझ है भारी
है विकट चढ़ाई
दोपहर में
दूर-दूर तक भी
पेड़ न कोई
दावानल से सूखे
थे हरे-भरे
पोखर-जलधारा
सिसके-रोए
ये खग-मृग-श्रेणी
स्वयं किए थे
चिंगारी के हवाले
वृक्ष -लताएँ
अब गठरी लिये
स्वयं ही खोजें
पेड़ की छाँव घनी
और पीने को पानी

सम्पर्कः FDC, PMMMNMTT, द्वितीय ताल, प्रशासनिक ब्लॉक- ll, हे... गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर गढ़वाल उत्तराखंड- 246174

3- पेड़ों को मत काटो
-महेन्द्र देवांगन माटी
एक एक पेड़ लगाओ,
धरती को बचाओ ।
मिले ताजा फल फूल,
  पर्यावरण शुद्ध बनाओ।
मत काटो तुम पेड़ को,
पुत्र समान ही मानो।
इनसे ही जीवन जुड़ा है
रिश्ता अपना जानो।
सोचो क्या होगा अगर,
  पेड़ सभी कट जाएँगे?
कहाँ मिलेगी शुद्ध हवा,
तड़प- तड़प मर जाएँगे।
फल फूल और औषधि तो,
पेड़ों से ही मिलते हैं।
रहते मन प्रसन्न सदा,
बागों में दिल खिलते हैं।
पंछी चहकते पेड़ों पर,
घोसला बनाकर रहती हैं।
फल फूल खाते सदा,
धूप छाँव सब सहती हैं।
सबका जीवन इसी से हैं,
फिर क्यों इसको काटते हो।
अपना उल्लू सीधा करने,
लोगों को तुम बाँटते हो।
करो संकल्प जीवन में प्यारे,
एक एक वृक्ष लगाएँगे।
हरा भरा धरती रखेंगे,
जीवन खुशहाल बनाएँगे

सम्पर्कः पंडरिया (कवर्धा), छत्तीसगढ़, वाट्सएप नंबर- 8602407353

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष