December 18, 2017

व्यंग्य

आ बैल...
 - सुशील यादव
बैल को, शायद ही किसी ने आक्रमक  होते देखा हो? शायद इसी कारण इस नीरीह प्राणी को हर कोई लडऩे के लिए, दावत देने की, हिमाकत और हिम्मत कर लेता है,....चैलेंज दे डालता है... आ ..मार।
साँड को लडऩे के लिए ललकारने वालों का इतिहास, न समाज में और न ही राजनीति में कहीं मिलता है। इस विषय में शोध करने वाले व्यर्थ माथा-पच्ची न करें, वरना आपके गाइड सालो-साल आपको, सब्जी-भाजी लाने के लिए थैला टिकाते रहेगा, अंत में मिलेगा कुछ नहीं ।
खैर, साँड टाइप शख्शियत, जो बिना कहे लडऩे-लड़ाने के लिए हरदम तैयार रहता है, लोग उससे बच के निकलने में ही बुद्धिमानी समझते  हैं।
साँड से कितना भी बचना चाहो, तो भी वो आपके सायकल, मोटर सायकल, स्कूटर, गाड़ी के सामने आम चौराहे पर खड़ा हो जाता है। दम है तो निकल के देख?
गाहे-बगाहे, बिना कारण आफत को न्योता देना, ‘आ बैल मुझे मारके तार्किक मायने कहे जाते हैं। मैं कुछ लोगों को करीब से जानता हूँ, उनके दिमाग में बैल से नूरा कुश्तीका कीड़ा कुलबुलाते रहता है।
बैल को पता नहीं किन कारणों से हमने राष्ट्रीय स्तर पर सजग  प्राणीहोने की मान्यता नहीं दी? हालाकि उससे हल जुतावाये, गाड़ी में भर-भर के सामान खिचवाया, मगर जब श्रेय देने की बात हुई तो हम अच्छे मौसम और उत्तम  बीज की चर्चा करके रुक गए। ये कभी नहीं कहा कि दो जोड़ी बैलोंने इज्जत रखने में अपना अहम् रोल निभाया।
बैलों ने भी कभी इंसानों से, अपनी उपेक्षा की शिकायत नहीं की। उन्हें  कभी किसी बात पे वाहवाही लूटने, अपनी प्रशंसा सुनने का सरोकार नहीं रहा। वे निरपेक्ष बने रहे। उनके चेहरों में शिकन भी देखने को नहीं मिला कि कैसे मालिक से पाला पड़ा है? यहाँ तक कि, उनके हिस्से का चारा खाने वालों के खिलाफ भी वे निरपेक्ष बने रहे। वे अमीर-गरीब, ऊँचे-नाटे, सभी मालिकों के वफादार रहे। नियत समय पर खेत जोत देने और गोबर कर देने के उनकी दिनचर्या के अनिवार्य क्षणों में कोई तब्दीली नहीं हुई। कितनी भी परिस्थतियाँ बदली, उन्हें कितनी भी प्रतारणाएँ मिली, उनको दल बदलते कभी देक्खा ही नहीं गया ।
मैंने बैलों में, शृंगार की अनुभूति का आनन्द लेते, सिर्फ प्रेमचन्द जी की कहानी हीरा-मोतीमें महसूस किया। वैसे सजे-सजाये बैल फिर कभी सुने-दिखे नहीं ।
बैल जोड़ी के निशान को लेकर एक पार्टी का बरसों राज चला। सचमुच में वे दिन बैलों की तरह निश्चिन्त, निसफिक्र, निर्विवाद थे। महँगाई के मुह खुले न थे। कालाबाजारी, घुसखोरी भ्रस्टाचार पर नथे हुए बैलों की तरह लगाम लगे थे।
बैल को बैल की तरह देखने की प्रवित्ति में एक अलग भाव तब उत्पन्न होता है, जब हम शिवालय जाते हैं। अगाध श्रद्धा उमड़ती है। वहाँ के नंदीको बैल जैसा कोई कह नहीं पाता, लगभग सभी भक्तों को खाते-पीते मस्त साँडके माफिक दिखता जो है । 
आज की पीढ़ी को कोल्हू के बैल की कथा सुनाने व महसूस कराने में शायद हम कामयाब न हों मगर हमने अपनी आँखों से कोल्हू के बैल को तिल की घानीमें घूमते हुए देखा है। पाँच कंडील, सदर- बाजार जाने के रास्ते एक खुफिया किस्म का मकान आता था, तेल से बजबजाता एक अब-तब टूटने लायक फाटक, एक मिली-कुचैली सी साड़ी में लिपटी हुई बुजुर्ग सी औरत, एक तेल पेरने की घानी, और नथुनों में समा जाने वाली तिल के तेल की गंध। बहुत दूर से पता चल जाता था कि कहीं तेल निकल रहा है। उस जमाने का समझो वो ऑटोमेटिक मशीन था, एक बार तिल डाल दो, बैल चक्कर पे चक्कर मार के तेल निकालता रहेगा। सुबह-दोपहर-शाम, सर्दी-गर्मी बरसात, आप सुबह दातून करते वक्त, या रात सेकंड शो पिक्चर से लौटते समय, कभी भी देख लो, बैल का अनवरत चक्कर चलते रहता था।    
बैल के नाम पर कर्ज लेने वाले किसान आजकल नदारद से हो गए। इन  दिनों कभी आपने सुना है कि, किसान अपनी पत्नी से गंभीर मंत्रणा कर रहा हो कि मंगलू की अम्मा, सोच रहा हूँ, इस साल एक जोड़ी बैल खरीद लेते? खेत पिछले कई सालों से ठीक से जुते ही नहीं, फसले बिगड़ रही हैं।
इन संवादों के पीछे मंगलू की अम्मा को, भ्रम यूँ होने लग जाता है कि उनके पति को भूत- प्रेतों का साया तो नहीं लग गया है। वे चुड़ैल के चक्कर में तो नहीं फंस गए कहीं? आज बैल खरीदने की बाध्यता या मजबूरी कहाँ रह गई?
कहाँ तो एक रूपये-दो रुपये में मजे से चावल-गेहूँ मिल रहे हैं? क्या करेंगे बैल जोड़ी लेकर? जगह भी कहाँ है इनको रखने की? नौकर कहाँ है जो देख- रेख करे? पत्थर, सीमेंट या टाइल्स बिछे घरों को अब गोबर से लीपता कौन है?
 अब जब टीवी, फ्रिज, मोबाइल, मकान के नाम पर आधा गाँव लोन उठा रहा हो, बैलों के नाम पर लोन की कोई सोचे तो लोग पागल ही कहेंगे ना ?
फिल्मों से भी ये सब्जेक्ट कब का उठ गया है। अब कोई सुक्खी लाला, ‘राधा रानी के बैलों कोछुड़ाने के पीछे, हाथ धोकर पड़े नहीं मिलता। गरीब प्रोड्यूसर जो सौ-दो सौ करोड़, बिना बैल डाले, मेहनत से कमा रहे है, अगर बैल-नुमा एक सीन डाल दें तो फिल्म अगले दिन ही फ्लाप हो जाए।
मुझसे अक्सर यह पूछा जाता है कि, शहरों में अब बैल होते नहीं, कोई भला किससे कहे कि आ बैल मुझे मार?
मैं पूछने वालों की बुद्धि पर तरस खा जाने वाली निगाह से देखता हूँ। इस निगाह से देखने का मतलब ये भी होता है, कि मुझे आज के जमाने के, दिमागी तौर से तंग लोगों पर हैरानी, कोफ्त, या गुस्से का मिला-जुला भाव आ रहा होता है। स्सालो, हर शाख पे उल्लू बैठा है की तर्ज पर, यहाँ हर गली में दो पैरों वाले, पढ़े- लिखे, अपढ़, गँवार, ढीठ, जिद्दी, अकडू, येड़ा, कोल्हू के बैल बैठे हैं, घूम रहे हैं, तुझे दिखाई नहीं देता?
राजनीति वाले, ‘बैलोको यूँ बुलाते हैं, धारा 144 लगी हो, तो तोड़ो, आचार संहिता है, तो उलंघन करो।
किसी ने अपने दल की जरा तारीफ की, तो उसका पिछला इतिहास ढूढ़ कर बखिया उधेड़ो।
भाई भतीजा, माँ-बहन की तह तक जा कर मीडिया के सामने परोस के रख दो, जनता मायने निकालते रहेगी ।
जनता तुम्हारे वादे पर एतबार करके, तुम्हें राज करने भेजती है, तुम जनता को तंग करने लग जाते हो?
अपनी नीयत न सम्हाल सकने वाले, अरबों कमाने वाले बाबा, ‘आ बैल की गुहारबुढ़ापे में लगा बैठते हैं?
लालच पे लगाम न रखने वाले, छोटे-छोटे जोखिम उठाने वाले, सैकड़ों लोग हैं जो अकारण ही बैल के गले की  घंटी बनने’  का नित प्रयास करते हैं।
हमारी जनता प्रगतिके मिल्खा सिंगके पीछे भागने की जिद किये रहती है।
 भागो मगर इसका भी एक कायदा है। अर्थ-हीन मत भागो, आगे लक्ष्य का कहीं न कहीं मैडलअवश्य हो। उस रफ्तार को अगर पाना है तो मेहनत -मशक्कत-तैय्यारी- सोच तो रहनी चाहिए न ?
अपना मतदान अवश्य करें, गंभीरता-गहराई से करें, भूले से भी किसी बैल को दावत न भेजे, कि आ मार..... 
लेखक परिचय: सुशील यादव- जन्म 30 जून, 1952, दुर्ग, लेखक के बतौर कहानी, कविता और व्यंग्य के क्षेत्र में सतत लेखन।  विभिन्न पत्र पत्रिकाओं के अलावा अधिकतर रचनाएँ वेब मैगजीन यथा- gadayakosh.org, रचनाकार. org ,अभिव्यक्ति, उदंती. com, साहित्य शिल्पी, एव. साहित्य कुञ्ज में नियमित रूप से प्रकाशित। पुस्तक बाजार डॉट काम के सौजन्य, एवं श्री सुमन घई जी के सहयोग से एक व्यंग्य संग्रह, ‘शिष्टाचार के बहाने’ - कनाडा से प्रकाशित।   सम्प्रति-  रिटायर्ड डिप्टी कमीश्नर, कस्टम्स, सेन्ट्रल एक्साइज एवं सर्विस टेक्स, सम्पर्क-न्यू आदर्श नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़) Email- sushil.yadav151@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष