July 25, 2017

कब आओगे घन

 कब आओगे घन (कुण्डलिया)

- डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा

बढ़ते -बढ़ते आज हो गई
उसकी पीर सघन
बाट जोहती रही धरा तुम
कब आओगे घन!

सोचा था महकेंगे जल्दी
गुंचे आशा के
समझाया फिर लाख तू मत गा
गीत निराशा के
बस में नहीं मनाना इसको
बिखरा जाए मन।

उजड़े बाग़-बगीचे सूने
मौसम बदला- सा
तड़की छाती, खेत ,घूमता
किसना पगला- सा
जोड़-तोड़कर चले ज़िंदगी
करता रहा जतन।

उमड़ी ममता कब तक रहती
धरती माँ बहरी
जला हृदय सागर का, उसकी
पीर हुई गहरी
टप-टप बरसे नयन मेघ के
रोया खूब गगन।

बाट जोहती रही धरा फिर
लो घिर आए घन।

 भिगो गई मन
धरती तपती आग -सी, करती हाहाकार,
बादल लेकर आ गए, तब बूँदें दो-चार।
तब बूँदें दो-चार, दे रहे हमें दिलासा,
बरसेंगे हम खूब, रखेंगे तुम्हें न प्यासा।
कलियाँ तजतीं प्राण, भला क्या धीरज धरती,
हुई बहुत बेहाल, विकल है कितनी धरती।। 1

दिनकर देता ताप जब, लेता नहीं विराम,
हरने को संताप, तब, आओ भी घनश्याम।
आओ भी घनश्याम, फूल, कलियाँ हर्षाएँ,
सरसें मन अविराम, मगन हो झूमे गाएँ।
धरा धार ले धीर, गीत खुशियों के सुनकर,
कुछ तो कम हो पीर, लगे मुस्काने दिनकर।। 2   

नन्ही बूँदें नाचतीं, ले हाथों में हाथ,
पुलकित है कितनी धरा, मेघ-सजन के साथ।
मेघ-सजन के साथ, सरस हैं सभी दिशाएँ,
पवन-पत्तियों संग, मगन मन मंगल गाएँ।
अब अँगना के फूल, ठुमककर नाचें कूदें,
भिगो गईं मन आज, धरा संग नन्ही बूँदें।। 3

कठिनाई के सामने, झुके न जिनके माथ,
जोड़े हैं उनको सदा, क़िस्मत ने भी हाथ।।
क़िस्मत ने भी हाथ, बढ़ाकर दिया सहारा,
मंज़िल ने ख़ुद राह, दिखाकर उन्हें पुकारा।
खिले ख़ुशी के फूल, सरस बगिया मुस्काई
सदा हुई निर्मूल, टिकी है कब कठिनाई।। 4 


सम्पर्क:॥-604 , प्रमुख हिल्स, छरवाडा रोड, वापी, जिला- वलसाड (गुजरात) 396191, मो. 9824321053

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष