July 25, 2017

तीन लघुकथाएँ:

 -डॉ. सुषमा गुप्ता

1 ब्रेकिंग न्यूज़
'साहब ये तो मर चुका है। बुरी तरह जल गई है बॉडी। और कार भी बिल्कुल कोयला हो रखी है। आग तो भीषण ही लगी होगी।  ’कॉन्स्टेबल रामलाल अपने इंस्पैक्टर साहब से हताश सा बोला। बहुत भयानक बदबू फैली थी माँस जलने की। वो बदबू से बेहोश होने का था। फिर भी बड़ी हिम्मत से उसने जाँच की।
'अरे पूछ तो रामलाल आसपास के लोगों से कुछ देखा इन्होंने?’ इंस्पैक्टर साहब गरज के बोले।
भीड़ में से एक आदमी बोला। 'सर कुछ क्या सबकुछ देखा। 10 मिनटों में तो पूरी तरह से सब जल कर राख हो गया। हम पाँचों यहीं थे तब।
'आप क्या कर रहें थे पाँचों यहाँ। आपने कोशिश नहीं की आग बुझाने की?’
'सर हम आग कैसे बुझाते?’
'तो आप सब खड़े देखते रहे?’
'नही सर हमनेंवीडियो बनाई है न । अलग अलग ऐंगल से,
ताकि मीडिया दिखा सके कि ये हुआ कैसे।
 2 मानसिक संतुलन
बहुत साल बंद रही वह एक अंधेरी कोठरी में। फिर शायद प्रभु को दया आ गई। आ पहुँचे कुछ समाजसेवी और चंद पुलिसकर्मी और बंद करा दिया वह चकला। पर 'वहहाँ 'वहअब उसका कोई नाम नहीं बचा। कोई पहचान वाला भी नहीं मिला उसका या किसी ने पहचानना नहीं चाहा ये तो भगवान जाने। वह खुद कुछ बताने की हालत में नहीं रही थी। मानसिक संतुलन खो चुकी थी। हमारे देश के दयालु कानून ने उसे एक आशा किरण नाम के मैंटलअसयालम (एक इज्जत वाला नाम पागलखाने का) में भेज दिया। बहुत सारे कर्मचारी थे वहाँ उसका ध्यान रखने को।
'वहनहाती भी खुले में थी उसका मानसिक संतुलन ठीक नहीं था न। और बाकी सब कर्मचारी बहुत ध्यान से उसे देखते थे ,क्योंकि उनका मानसिक संतुलन बिल्कुल ठीक था। और एक दिन 'वोयूँ ही मर गई।रिपोर्ट में लिखा गया उसका पैर फिसलने से सर फट गया।

3 राजनीति
'अबे तूने ये क्या तमाशा लगाया है। हिंदुस्तान मुर्दाबाद, पाकिस्तान जिंदाबाद?’ राहुल ने यूनिवर्सिटी कैम्पस में भीड़ देख मोहन से पूछा।
मोहन फुसफुसा के बोला 'कुछ नहीं यार तू तो जानता है मुझे राजनीति में जाना है। कई साल से देशभक्ति के नारे लगा रहा हूँ कोई ध्यान ही नही देता। आज जरा पाकिस्तान जिंदाबाद क्या बोला, तू सामने भीड़ देख। और तो और मीडिया वाले भी जमघट लगाएँ है।
'अबे गधे जेल जाएगा।
'गधा होगा तू। इतनी सी बात तेरी समझ नही आ रही जेल जाते ही हीरो बन जाऊँगा। सब अखबारों में छा जाऊँगा । फिर अपनी बात से पलट जाऊँगा। बेरोजगारी की झुंझलाहट का जामा पहनाऊँगा और किसी न किसी बड़ी पार्टी का टिकट पा जाऊंगा। अब हट साइड में। टाइम मत खराब कर।हिंदुस्तान मुर्दाबाद, पाकिस्तान जिंदाबाद।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष