July 18, 2016

पावस अलबेली

 पावस अलबेली 

डॉ. सुधा गुप्ता
1
खड़ी है सजी
पावस अलबेली
भू की सहेली। 
2
नभ उमड़ी
भरपूर फ़सल
नीले मेघों की।
 3
चुरा ले गई
कोई नीली ओढऩी
नभ की बिन्दी।
 4
रात उदास -
मेघ-मेले की भीड़
खोई बिन्दिया।
5
आए सावन
तने हैं शामियाने
नीले कासनी।
6
मोती की झार
धरा-वधू ने पाई
मुँह दिखाई
7
उमड़ रहा
नव-वधू धरा का
रूप का ज्वार ।
8
हरी चुँदड़ी
चाँदी -सोने के तार
बूँटे-कढ़ी है ।
9
नभ से  झरे
मेघ-प्रेमोपहार-
आग के फूल।
10
मेघों की पीर -
दिखाए दिल चीर
आग -लकीर ।
11
पहली वर्षा -
रूखी-सूखी थी धरा
खूब नहाई।
12
अल्हड़ निशा
बारिश की धुन पे
नाचती रही।
13
बरसे पिया
तन-मन से तृप्त
बुझी भू -तृषा।
14
लाए सावन
कुठला भर धान
होठों की हँसी।
15
मेघ जो झरे
सोखे धरा-कोख ने
खिले गुलाब।
16
लौटा के लाया
सावन का पाहुना
खोई मुस्कान।
17
आए हैं इन्द्र
प्रिया वृष्टिके साथ
करो सत्कार!
18
घिरे पड़े हैं
अमराई के झूले
मेघ-मल्हार।
19
अब जो आए
जाना नहीं बिदेस’-
कहे धरती।
20
मैं तो उर्वरा
छोड़ऩा न परती
मैं फलवती।


सम्पर्क: 120 बी/2, साकेत, मेरठ- 250003, 
फोन- 94-10029500

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home