February 10, 2015

लघु कथाएँ - प्रेम गुप्ता 'मानी’

माँ

रात का गहरा काला अँधेरा आकाश से उतर कर पूरी तरह नीचे आ गया थापर तेज रफ्तार से अपने गंतव्य की ओर जा रही ट्रेन के यात्री थे कि चारों ओर से बेखबर हो सुख की नींद ले रहे थे।
अचानक 'धाप’ की आवाज हुई तो सब हड़बड़ा कर उठ बैठे। आसपास आँखें फाड़ कर देखाआवाज कहाँ से आईकोई चोर-डकैत तो नहीं आ गयाआशंका से सारी बत्तियाँ जल गई तो सभी की आँखें भी जैसे गुस्से से जल उठी।
ऊपर की बर्थ से एक नन्हा-सा बच्चा पता नहीं कैसे नींद के झोंके में नीचे गिर गया था। उसका कोमल शरीर फर्श से टकरायातभी 'धाप’ की आवाज हुई थी। पता नहीं चोट लगने से या सदमे से बच्चा एकदम शान्त हो गया था पर नीचे चारों ओर शोर मच गया था, 'अरे देखोमर तो नहीं गया?’
'अरेकैसी बेवकूफ औरत है...बच्चे को पीछे सुलाना चाहिए और यह है कि...
'गँवार औरत... पालना नहीं आता था तो पैदा क्यों कर लिया?’
'क्यों री करमजली....बेहोशी में थी क्या....नन्हें को कुछ हो गया तो यहीं चीर कर फेंक दूँगा।
चारों तरफ शोर का एक अजीब से गुबार उठ रहा था पर ऊपर की बर्थ पर अवाक्गुमसुम सी बैठी बेहद कालीपर मासूम-सी चेहरे वाली षोडशी अपनी गँवई कुर्ती को बार-बार उठा कर बच्चे का सिर सहलाती हुई उसे दूध पिलाने की कोशिश में जुटी थी। इसी कोशिश में दूध की हल्की-सी धार फूटी तो बच्चा कुनमुनाया।
बच्चे की कुनमुनाहट के साथ माँ भी कुनमुनाई,’ मेरो लाल जि़न्दो है...।
थोड़ी देर बाद बच्चा छाती से लग कर दूध पीने लगा तो सबकी नजर बचा कर उसने अपनी गीली आँखें पोंछ लीं.....।


तोहफा

नींद की खुमारी में वह पूरी तरह डूबता कि तभी बगल में लेटी पत्नी ने उसे हल्का सा झिंझोड़ दिया- सुनोतुम्हें पता हैकल कौन सा दिन है?
ऊहँ... जो भी दिन होगाअच्छा ही होगापर इस समय तो सोने दो....।
ऊहूँ... मुँह इधर करो न...अभी तो ग्यारह ही बजे हैं और तुम हो कि...। पत्नी ने जबर्दस्ती उसे अपनी ओर खींचा तो न चाहते हुए भी उसे अपनी नींद से बोझिल पलकों को खोलना ही पड़ाअच्छा बाबा बताओ....क्या है कल....?
कल...कल नए साल का पहला दिन है न....।
हाँ है तो..... वह तो हर साल होता है....इसमें नई बात क्या है....खामख्वाह नींद खराब कर दी....। उसके चेहरे पर हल्का क्रोध उगा कि तभी पत्नी ने उसके खुरदरे गाल को चुम्बित कर दियाइस बार नए साल पर तुमसे एक तोहफा चाहती हूँ.. .बोलो दोगे...?
पत्नी के चेहरे पर जब उसने प्यार का भरपूर सूरज उगे देखा तो फिर अपने को भी रोक नहीं पाया और पत्नी को आलिंगन में जकड़ लिया- बोलोक्या चाहिए तुम्हें....?
बस यही कि सुबह खिले हुए मिलो...। सुना है नए साल की शुरुआत जैसी होती हैवैसा ही पूरा साल गुजरता है....। मैं चाहती हूँ कि पिछली बार की तरह इस बार सुबह उठते ही तुम मुझसे लड़ो नहीं...। हर बार किसी न किसी बात पर लडऩे की शुरुआत कर ही देते हो....।
मुझे लडऩे का शौक चर्राया है....उसकी जकड़ अपने आप ढीली पड़ी तो पत्नी कसमसा उठीनहीं...शौक तो मुझे है।
जब देखो तब चिड़चिड़ा उठते हो.....। अब मैं तुम्हारी कोई बँदी तो हूँ नहीं जो हर वक्त चाकरी में जुटी रहूँ...।
नहीं जनाब....नौकर तो मैं तुम्हारा हूँजो कहती होहाजिर कर देता हूँ...। वह ताव में उठ कर बैठ गया तो पत्नी भी उठ बैठी।
देखोआधी रात के समय लड़ाई मत शुरू करो....। क्या मैं जानती नहीं कि क्या हो तुम....?
जानती हो तो क्या कर लोगी तुमबड़ी आई नए साल का तोहफा लेने वाली...। इन दस सालों में बड़ा जी खुश कर दिया है न जो तुम्हें तोहफों से लाद दूँ.....?
हाँ- हाँ....सुबह जाती हो तो अभी चली जाओपर मेरा दिमाग मत खाओ...। पता नहीं अनजाने ही वह कैसे चीख पड़ा तो पत्नी सिसकियाँ भरने लगी।
रात के बारह बज चुके थे। पास ही कहीं नए साल के आगमन पर खुशियों का उजाला फैला था और संगीत की चहकन से पूरा वातावरण गुंजित हो रहा था पर अंदर उनके कमरे में गहरे अँधेरे का तोहफा उनको मुँह चिढ़ा रहा था...।

संपर्क: एम.आई.जी-292, कैलाश विहारआवास विकास योजना संख्या-एककल्याणपुरकानपुर-208017 (उप्र) E-mail- premgupta.mani.knpr@gmail.com

1 Comment:

Shiam said...

आदरणीय सम्पादक महोदय हिन्दी चेतना कि और से आपको नमस्कार,

मेरे साहित्यकार मित्र छोटे भाई रामेश्वर काम्बोज "हिमांशु" जी के स्नेह के कारण मुझे भारत से औसंग्थित , स्तरीय साहित्य को देखने और पढने का अवसर मिल पाटा है | गुरु-गोविन्द दोनों खड़े काके लागों पावं? बलिहारी हिमांशु जी की जिन्हों मार्ग दियो दुखाय|| आपकी पत्रिका ने मुझे मोहित कर दिया | इसके हर पृष्ठ में एक स्र्स्यता है, मधुरता है और गम्भीरता है | एक सद्भाव है | एक मानतता जी झलक दिखी | मैं इसे पूर्ण रूप से नहीं पढ़ पाया , केवल लघु कथाओं में ही फंस गया | सुकेश साहनी जी की कहानी पढकर मुझे अपना अतीत याद आ गया | मेरी और से हार्दिक शुभकामनाएं | ऐसे सुंदर साहित्य को सजीव रखना हर हिन्दी प्रेमी का प्रयास होना चाहिए | श्याम त्रिपाठी -प्रमुख सम्पादक हिन्दी चेतना

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष