February 21, 2013

दो लघुकथाएँ



-जगदीश राय कुलरिया
1-कीमत
मैंने कहा जी! आप कब के शराब पीने लगे हो। आपको पता है कि टाइम क्या हुआ है... रात के बारह बजने को हैं। अपना शाम आज पहली दफा फैक्टरी गया है और अभी तक घर नहीं लौटा है। मेरा मन बहुत घबरा रहा है भागवती अपने पति सेठ राम लाल से बोली।
वह कौन सा दूघ पीता बच्चा है। आ जाएगा फालतू में क्यों टेंशन ले रही हो। थोड़ा इंतजार करो। नहीं तो कोई फोन वगैरह करके पता करता हूँ। कुछ ही समय पश्चात दरवाजे की घंटी बजने से भागवती के साँस में साँस आता है।
क्यों बेटा इतना लेट, आज कल का समय बहुत खराब है मेरी तो जान मुट्ठी में आई पड़ी थी। भगवती एकदम बोली।
अरे! कोई फोन ही कर देता तेरी माँ बड़ी चिंता कर रही थी, चल बता कि तुझे अपनी फैक्टरी कैसी लगी? रामलाल ने अपने बेटे से पूछा।
फैक्टरी तो ठीक है पापा जी! पर मेरी समझ में ये बात नहीं आ रही कि आप ने वहा पर सिर्फ बाहर के ही मजदूर क्यों रखे हुए हैं, जब कि अपने पंजाबी लोग तो यहाँ पर खाली घूमते फिर रहे हैं।
बेटा! तुम्हारी समझ में नाहीं आवे ये बातें
 कैसे पापा जी?
तुझे तो पता ही है कि हमारी फैक्टरी में कैसा काम है, मामूली सी लापरवाही से ही मजदूर की मौत हो जाती है, यदि इन में से कोई मजदूर मर खप जाए तो यह दस बीस हजार रुपये लेकर समझौता कर लेते हैं और अपने वाले तो लाखों की बात करते है।
सेठ राम लाल ने खिसियानी हँसी हँसते हुए शराब का एक और पैग अपने अंदर डाल लिया।

फेसबुक
मेरी फेसबुक की फ़्रेंड लिस्ट में औरो के अतिरिक्त मेरी छात्राएँ भी शामिल है। यह ऑन लाइन कभी कभार मेरे से मार्गदर्शन भी प्राप्त करती रहती है। अभी मैने फेसबुक आन ही की है कि दबादब अपडेट्स आने शुरू हो गए है। मेरी छात्र रिंपी ने आज फिर आपनी प्रोफाईल पिक्चर चेंज कर दी है। सौभाग्य से यह आनलाइन भी है।
मैसेज आता है... सर, नमस्कार।
नमस्कार... क्या बात आज फिर फोटो चेंज कर डाली ...किसकी है यह? मैने पूछा हैं।
सर ... हीरोइन है ...कैटरीना कैफ!
जवाब पढ़ते ही सिर घूमने लग जाता है कि आजकल के बच्चों को हो क्या गया है।
मैं फिर पूछता हूँ ...बेटा ... इसकी फोटो क्यों लगाई है ...।
सर ... कोई हमारी फोटो का मिस यूज न कर डालें, इसी लिए लगाई है। उसने लिखा है।
वह तो ठीक है बेटे ... मगर आप सिर्फ  ऐक्टरस की फोटो ही क्यों लगाते हो ... मदर टेरेसा और किरण बेदी की क्यों नही?
मेरे इतना लिखते ही, रिंपी ऑफ लाइन हो गई।
संपर्क: 46, एम्पलाइज कालोनी, बरेटा जिला मानसा (पंजाब)- 151501,
MO. 095018-77033 Email: jagdishkulrian@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष