December 18, 2012

उतरी साँझ

उतरी साँझ 
 -भावना सक्सैना
1
 मन-बंजारा
भटके हर दिन
खोज खुशी की।
2
मन के पाखी
उड़ें अनियंत्रित
तन में कैद।
3
धूप साँझ की
सींचती अन्तर्मन
यादें जीवन।
4
नर्म आँचल
धूप गुनगुनी-सी
माँ की ममता।
5
बुहारा हुआ
आसमान साँझ का
सुखद दृश्य।
6
ऊँचा शिखर
उस पर जो चढ़ा
बस एकाकी।
7
महान गिरि
कण-कण से बना
कण को भूला।
8
उड़ती खुशी
नीली तितली सम
कैसे पकड़ें?
9
निशा उतारे
चूनर तारों-भरी
आए प्रकाश।
10
नवल गात
पहन भोर आई,
खिला संसार।
11
तेरे होने से
जीवन में उजाला
खिलती खुशी।
12
उतरी साँझ
निशा- दामन फैला
तम ने सींचा।
13
देख दर्पण
आक्रांत हुआ मन-
बीता यौवन।
14
खाली है नीड़
अश्रुप्लावित मन
लुप्त जीवन।
15
बरसों बीते
गाँव की वे गलियाँ
नाम पूछतीं।
16
तुम लाए हो,
स्नेह-पूरित मन
पाया जीवन।
17
छप्पर नीचे,
चढ़ा है दुमंजिला
सिमटी धूप।
18
शान्त थी नदी
किनारों में जो बँधी
बहती रही।
19
आया था ज्वार
तोड़ सब सीमाएँ
मचल उठी।
20
सुख सुविधा
सब कुछ है पास
फिर भी प्यास।
21
ओस की बूँद
बस इक प्यारा पल
यही जीवन।
22
मन में बसे
वे मधुर बसंत
लौट न पाए।
23
जीवन-राह
समझौते अनंत
है अग्निपथ।
24
बिछुड़े अब
फिर कहाँ मिलेंगे
द्रवित मन।

लेखक के बारे में: भावना सक्सैना भारत सरकार के गृह मंत्रालय के राजभाषा विभाग में कार्यरत हैं। पिछले साढ़े तीन वर्ष सूरीनाम स्थित भारत के राजदूतावास में अताशे (हिन्दी व संस्कृति) पद पर प्रतिनियुक्त रहकर वहाँ हिंदी प्रचार-प्रसार करती रहीं। आपके प्रोत्साहन से सूरीनाम के हिन्दी लेखकों में नव-ऊर्जा का संचार हुआ। आपने सूरीनाम साहित्य मित्र संस्था द्वारा प्रकाशित प्रथम कविता संग्रह ‘एक बाग के फूल’ और कवि श्री देवानंद शिवराज के कविता संग्रह ‘अभिलाषा’ का संपादन किया और ‘सूरीनाम में हिन्दुस्तानी, भाषा, साहित्य व संस्कृति’ नामक पुस्तक लिखी है। समय-समय पर कई लेख, कविता व कहानी कई पत्र-पत्रिकाओं में छपते रहते हैं।

संपर्क: 64,प्रथम तल, इंद्रप्रस्थ कॉलोनी, सेक्टर 30-33,फरीदाबाद, हरियाणा 121003

Email- bhawnasaxena@hotmail.com, bhawnavsaxena@gmail.com

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home