October 27, 2012

व्यंग्य


     रावण का बढ़ता कद

- रामस्वरूप रावतसरे
कुछ दिनों पहले की बात है, जब सर्दी ने एक बार जाकर फिर से अपना रंग दिखाना शुरू किया था। एक सुबह हम अपनी फटी रजाई में दुबके यह विचार कर रहे थे कि किस प्रकार अचानक आई इस सर्दी से दो-दो हाथ किये जाएँ लेकिन प्रत्येक स्थिति तें हम पिटते से लग रहे थे और इसी कारण से हमारी हड्डियाँ भरत मिलाप करने लगी थी ओर दाँत स्वर देने लगे थे। हम बराबर रजाई को अपने चारों और मजबूती से लपेटते, फिर भी लगता ना जाने कहाँ से कम्बख्त यह सर्दी आ रही है, लगता कहीं यह रजाई ही तो सर्दी नहीं उपजाती, क्योंकि आज कल प्रत्येक जगह यही हो रहा है और जब तक यह नहीं होता तब तक यह कहावत चरितार्थ नहीं होती कि 'घर का भेदी लंका ढहावे'
पहले के जमाने में एक लंका हुआ करती थी। एक अयोध्या थी, एक राम व एक रावण हुआ करते थे, पर आज प्रत्येक जगह लंका है, कई-कई रावण हैं। उसी प्रकार विभीषण भी हैं और राम कितने हैं कहा नहीं जाता। हर पल राम उत्पन्न होते हंै और लंका की ओर प्रस्थान करते नजर आते हैं। लंका के नजदीक पहुँचने के बाद, उनका कोई मालूम नहीं रहता, उनके आदर्श का निशां नहीं दिखता, दिखाई देता है तो सिर्फ रावण का अट्टहास करता विशाल रूप और खिसियाते विभीषण। जिनकी संख्या व रूप कितने हैं कोई अंदाजा ही नहीं लगाया जा सकता, पर इसके कुछ क्षणों के बाद एक और रावण का उत्पन्न होना सुना जाता है।
हर बार राम को लेकर समाज में एक नया विषय आता है। लोगों की नजरें उसे प्रेम बिछाती स्वागत स्वरूप अपनाती हैं अपनी आशाओं व आकांक्षाओं का बाना उसे पहनाती हैं चलने को पाँव, करने को हाथ सौंपकर अपनी आशाओं की पूर्ति का इन्तजार करती है, पर वह राम बना सजा सँवरा शक्ति व मंजिल के लिये साधन पाकर लोगों की ओर से उन्मुख हो रावण का आदर्श अपना कर, अपने भविष्य को सँवारने लग जाता है और लोग हताश फिर किसी राम की तलाश में लग जाते हैं।
खैर यह विषय तो इतना लम्बा है हम इसे पूरा नहीं कर पाएँगे। यह राम व रावण की कहानी बड़े लोगों का मसला है, जो अन्दर से ठगन और बाहर से भजन की कला में माहिर हैं, जिनके कभी दो हाथ थे आज हजार हाथ हंै और हजारों की संख्या में पाँव भी हैं। हम इसी उधेड़ बुन में लगें थे कि हमारे लँगोटिया ने धड़ाम से दरवाजा खोला। हम कुछ बोलते वे हाथ की छड़ी को बजाते हुए हमारे सामने खड़े थे। वे अन्दर ही अन्दर कुछ बोल रहे थे यह उनके हिलते होठों से लग रहा था। हमने उन्हें गौर से देखा तो पाया कि वे सर्दी से काँप रहे हंै। हमने उन्हें तत्काल रजाई में घुसाया। उनके टेढें जबड़े व कटे होठ में से पान की पीक अपने आप ही टपक रही थी।
जब वे कुछ नार्मल हुए तो बोले 'अमाँ छुट्टन इस मँंहगाई के जमाने में किसी प्रकार रात तो गुजार ली पर ज्यों ही दिन निकला हमसे रहा नहीं गया और हम तुम्हारे पास चले आए। कुछ देर चुप रहने के बाद उन्होंने झट से मँुह खोला कि उनके कटे होंठ व टेढ़े जबडें़ से थूक के छींटे उछले और ओस की तरह हमारे दागल चेहरे के गड्डों में छुटभैया नेताओं की तरह आकर बैठ गये। हमें गुस्सा तो बहुत आया पर मौसम को देख कर गति नहीं पकड़ पाया। वे गम्भीर होकर बोले छुट्टन तुम आज कल क्या कर रहे हो?
हमने अपने चेहरे को रजाई से पोंछा और बोले बड़े मियाँ हमारा घर देश बन गया है और उसमें उसी के अनुरूप समस्याओं ने डेरा डाल रखा है। रसोई गृहिणी को तरस रही है, घड़ों में पानी नहीं है, चिमनी में तेल नहीं है, माचिस में तिली नहीं है, पीपे में आटा नहीं है। इस पर चूहों की धमा-चौकड़ी, काकरोचों की बढ़ती तादाद। रहे सहे को दीमक सफाचट किये दे रही है। रसोई खाली देख कर गृहिणी नहीं  रुकती। कैसे इस गृहस्थी की गाड़ी को चलाया जाए।
वे चेहरे को गम्भीर करते हुए बोले छुट्टन तुम जीवन में कुछ नहीं कर सकते, तुम से एक घर नहीं सम्भलता। अरे मूर्ख यदि सही नहीं तो गलत करो यह जमाना बड़ा सस्ता है। इसमें आगे आने के लिए आदर्श व कार्यकुशलता या अच्छाई को दिखाने की आवश्यकता नहीं है। देखा नहीं जो कल तक गुनाहगार थे, जिन्होंने देश व समाज को लूटा, गरीब लोगों का निवाला लूटा, वे ही आज आँंखों के तारे बने हुए हंै। लोग नजरों में चढऩे के लिए अच्छे काम कम बुरे काम ज्यादा करते हंै। एक तुम हो जो आदर्श का लबादा ओढ़ेे बैठे हो, कि सही काम ही किया जाए। राम जी के आदर्शो को ही ढोया जाय। तुम्हें कितनी बार सलाह दी है कि तुम अच्छे के चक्कर में मत रहा करो। उलटा करने पर लोगों में तुम्हारी सामथ्र्य बढ़ेगी। लोग तुम्हारे हौसले के कायल हो जायेंगे। नपुंसकता को अपना चुके प्राणी तुम्हारी जय-जयकार करेंगे। बस यहीं से तुम्हारा उन्नति का सफर शुरू हो जाएगा, हो सकता है आगामी चुनाव में तुम्हें टिकट भी मिल जाए। यह कहते हुए वे उठ कर चल दिये।
हमने पुन: रजाई को अपने चारों ओर लपेटा और उनकी बातों पर विचार करने लगे तो लगा कि हर बड़ा आदमी किसी ना किसी रंग में रंगा है उसने आगे आने के लिए जायज कम नाजायज ज्यादा कार्य किये है। हमारा भी पुरुषार्थ जागा क्यों ना हम भी इस घर तन्त्र के बिगड़े स्वरूप को पछाडऩे व अपनी बिगड़ी छवि को उघाडऩे के लिए कुछ ऐसा ही तिकड़म करें। हमें लगा कि हर साल जो रावण का कद बढ़ रहा है उसके पीछे यही कारण हो सकता है। यहाँ रावण की नीतियाँ अधिक प्रभावी है। राम का आदर्श तो मात्र दूसरों को दिखाने और बताने के लिये ही रह गया है। करने के लिए नहीं। (प्रवासी दुनिया से)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष