May 30, 2012

जन्म शताब्दीः सआदत हसन मंटो

कालजयी व्यक्तित्व कभी नहीं मरते

उनका पूरा नाम था सआदत हसन मंटो किन्तु मित्रों एवं परिचितों के दायरे में वे मन्टो के नाम से मशहूर थे। उनका जन्म हुआ था 11 मई वर्ष 1912 में अविभाजित पंजाब के समराला (जिला लुधियाना) नामक गाँव में। जब इनकी आयु सात वर्ष की थी उसी दौरान अमृतसर के जलियावाला बाग में वह सामूहिक बर्बर हत्याकांड हुआ था जिसने ब्रिटिश साम्राज्य के ताबूत में अन्तिम कील ठोंक दी। मंटो इस अमानवीय घटना से इस कदर प्रभावित हुए कि जब उन्होंने कहानियाँ लिखना शुरू किया तो पहली कहानी इसी विषय को आधार बनाकर उर्दू में लिखी। कहानी का नाम था- तमाशा। इसी बीच उनकी भेंट हुई ईस्ट इंडिया कंपनी के सम्बद्ध इतिहासकार बारी आलिग से, उस भेंट ने मंटो की दुनिया ही बदल कर रख दी। बारी की प्रेरणा और प्रोत्साहन से उन्होंने रूसी और फ्रेंच साहित्य का गहरा अध्ययन किया तथा विक्टर ह्ययूगों के 'द लास्ट डेड ऑफ ए कंडेम्ड मैन' तथा आस्कर वाइल्ड के 'वेरा' नामक उपन्यासों का उर्दू में तर्जुमा भी किया। बारी के ही दबाव से मंटो ने उस उर्दू जुबान में मौलिक कहानियाँ लिखनी शुरू कीं, जिसमें वह स्कूल में पढ़ते समय प्राय: फेल होते रहे थे।
मंटों की कहानियां एक अर्थ में मनोवैज्ञानिक सनसनी पैदा करने वाली कहानियाँ हैं। उसमें समाज के दलित उत्पीडि़त लोगों की मजबूरियों उनके दु:ख- दर्द को पूरी ईमानदारी से उकेरने की कोशिश की गई है। उनके वर्णनों से जो ध्वनि निकलती है वह असाधारण रूप से जीने की कला, मरने की कला और इन दोनों के बीच होने की कला से सराबोर रहती है। उनकी कहानियों के मुख्य पात्र वे यातना भोगती आत्माएं हैं जो कमजोर जिस्म से लेकर भी अपने इरादों के बल-बूते पर कट्टर सम्प्रदायवाद के खिलाफ लड़ती हैं। मजहब के तंग दायरों को तोडऩे के लिए आखिरी दम तक जंग करती हैं, और बड़ी अग्नि परीक्षा में से गुजरते हुए कुंदन बनकर निकलती हैं। अपने कीमती जिस्म बेचने को मजबूर कोठेवालियों कभी बड़ी अदाकाराओं और मुल्क के बंटवारे से पैदा हुई फिरकापरस्त दरिन्दगी को अपनी अस्मत की भेंट चढ़ाती अमीनाओं- सकीनाओं की जीती जागती तस्वीरें पेश करती है मंटो की कहानियाँ। लोगों का मानना है कि यदि पामेला बोर्डस भी मंटो के जमाने में हुई होतीं वह तो उसे भी अपनी कहानी का मुख्य पात्र जरूर बनाते।
मंटो सन् 1936 में 'मुसव्वर' नाम के फिल्मी साप्ताहिक का संपादन करने के लिए मुम्बई आए और तभी उन्होंने 'इंपीपियर फिल्म कंपनी' के लिए पटकथा एवं संवाद लेखन का कार्य भी शुरू किया। लिखने के लिहाज से ये दिन मंटो की जिन्दगी के सबसे सुनहरे दिन थे। उन्हीं दिनों उन्होंने जो कुछ लिखा, रिसालों को एडिट किया, ऑल इंडिया रेडियो को अपना रचनात्मक योगदान किया और मौलिक कहानियों एवं निबन्ध के संकलन प्रकाशित करवाए सन् 1941 में वह दिल्ली गए लेकिन दिल्ली की जिंदगी उन्हें रास न आई और दो साल बाद ही वह फिर 'फिल्मिस्तान कंपनी' में काम करने के लिए मुम्बई लौट आए।
मंटो ने अपने लेख में लिखा है कि वे दिन उनके लिए यादगार दिन थे। जिंदगी बड़े आराम से गुजर रही थी कि 14 अगस्त 1947 की रात तो ठीक 12 बजे हिन्दुस्तान का ऐतिहासिक बंटवारा हो गया। पूरे देश में अफरा- तफरी का माहौल पैदा हो गया। देश के नगरों में दोनों समुदायों के बीच मारकाट होने लगी। मुम्बई भी अछूता न रहा। उनकी पत्नी और बच्चे परिवार के दूसरे लोगों के साथ पाकिस्तान चले गए लेकिन मंटो वहीं डटे रहे। दरअसल उनका दिल मुम्बई शहर को छोड़कर जाने के लिए तैयार नहीं था। उन दिनों वह बॉम्बे टाकीज में काम कर रहे थे। उन्होंने पुख्ता इरादा कर लिया था कि कुछ भी हो जाए, वे हिन्दुस्तान छोड़कर नहीं जाएँगे, पर उनके इरादे करने से क्या होना था। मजहवी सियासत तो अपनी घिनौनी हरकतों से बाज आने वाली नहीं थी। बॉम्बे टाकीज के मालिकों को अल्टीमेटम मिला-या तो अपने सब मुस्लिम कर्मचारियों को बर्खास्त कर दें या फिर अपनी सारी जायदाद को अपनी आँखों के सामने बर्बाद होते देखने के लिए तैयार हो जाएं।
मंटो पर इस खौफनाक धमकी का बड़ा घातक असर हुआ। जनवरी 1948 को वह अपना टूटा दिल और बिखरे सपने लेकर कराची चले गए। मुम्बई में गुजरे अपने आखिरी दिनों की याद करते हुए उन्होंने लिखा- 'मेरे लिए यह तय करना नामुमकिन हो गया है। कि दोनों मुल्कों में अब मेरा मुल्क कौन-सा है। बड़ी निर्दयता के साथ रोजाना जो खून बहाया जा रहा है, उसके लिए कौन जिम्मेदार है ? अब आजाद हो गए हैं? क्या गुलामी का वजूद खत्म हो गया है? जब हम औपनिवेशक दासता में थे, स्वतंत्रता के सपने देख सकते थे, लेकिन अब हम आजाद हो     गए हैं।
तब हमारे सपने किसके लिए होंगे? इन सवालों के अलग- अलग जवाब हैं। हिन्दुस्तानी जवाब- पाकिस्तानी जवाब। हिन्दुस्तान हो गया है और पाकिस्तान तो पैदा ही आजादी में हुआ है लेकिन दोनों ही देश में आदमी अलग- अलग तरह की गुलामी ढोने को मजबूर हैं। पूर्वाग्रहों की गुलामी, मजहबी पागलपन की गुलामी पशुता की हैवानियत की गुलामी है। जलालत की गुलामी अभी तक भी आदमी को जकड़े हुए है। इन गुलामियों से छुटकारा दिलाने की पहल किसी और से नहीं हो रही है। क्यों आखिर क्यों?
तीखे नश्तर से चुभने वाले मंटो के ये सवाल उसकी मौत के 55 साल बाद भी जवाब पाने के लिए अपनी जगह बदस्तूर कायम हैं। मजहब के नाम पर सियासत का खेल खेलने वाले आदमखोर बाजीगर भारतीय उपमहाद्वीप के तीनों मुल्कों में सत्ता पाने के लिए शतरंजी चालें चलने में मशगूल हैं। नतीजा यह है कि दुनिया के सर्वश्रेष्ठ अफसाना निगारों के महत्वपूर्ण स्थान पर भी मंटो को न हिन्दुस्तान ने अपना माना है और न पाकिस्तान ने। बंगलादेश तो खैर बंगला भाषा में लिखने वालों के अलावा किसी और को स्वीकार करता ही नहीं है।
देखा जाए तो मंटो का साहित्य किसी को मान्यता का मोहताज भी नहीं है वह उतना बुलंद है जितना कुतुबमीनार। वह इतना आकर्षक है जितना ताजमहल और वह इतना ही पाक- साफ है जितना गंगाजल। आधी रात को पैदा हुए हिन्दुस्तान के बेटे- बेटियों के लिए यह एक सशक्त यादगार है उस क्रूर बंटवारे की, जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता, इसलिए नहीं कि इसने एक देश के दो टुकड़े कर दिए, बल्कि इसलिए कि इसमें एक दिल एक दिमाग और एक आत्मा को दो हिस्सों में बांट दिया।
मंटो ने जो कुछ भी लिखा, जितना भी लिखा, वास्तविकता के बहुत करीब होकर लिखा। मंटो ने सच्चाई से कभी गुरेज नहीं किया। अपनी मौत से एक साल पहले उन्होंने अपनी कब्र पर लिखी जाने के लिए जो इबादत लिखी, वह दर्द भरी होते हुए भी बड़ी प्यारी इबादत थी। उन्होंने लिखा था, 'यहां सआदत हसन मंटो लेटा हुआ है और उसके साथ कहानी लेखन की कला और रहस्य भी दफन हो रहे हैं। टनो मिट्टी के नीचे दबा वह सोच रहा है कि क्या वह खुद से बड़ा कहानी लेखक नहीं है।'
सचमुच मंटो चाहे खुदा से बड़ा कथाकार न हो, लेकिन उनका रचना संसार अनिवार्यता: ऐसे लोगों को प्रकाश में लाता है जिनकी ओर समाज कभी नजर डालना गवारा नहीं करता है। इन लोगों की जिंदगी उन अनाम, अनजाने पहलुओं को उद्घाटित करता है, जिन तक बड़े से बड़े मनोवैज्ञानिक की भी पहुँच नहीं हो पाई।
 इस नाते वह एक लाजवाब सृजनकर्ता कहलाने का हक रखते हैं। मंटो की प्रतिभा व उसकी जीवनशैली की यदि किसी से तुलना की जा सकती है तो वह हैं- अर्नेस्ट हेमिंग्वे से, सब जानते हैं कि मंटों शराब पीते थे और उनकी शराबखोरी के कारण ही उनकी मौत हुई थी। बिल्कुल यही हालात अर्नेस्ट हेमिंग्व की भी थी। उसकी शराबखोरी की आदत मंटो के जीवन में भी प्रतिबिम्बित हुई है और दोनों ने ही मानवीय भावनाओं के अदम्य प्रवाह को कसे हुए शिल्प और कम से कम शब्दों के प्रयोग करते हुए दलित उत्पीडऩ मनुष्य जाति के असह्य दु:ख- दर्द को व्यक्त किया है। उर्दू के इस महान कहानीकार ने 18 जनवरी 1955 को हमेशा के लिए आंख मूंद ली। अपनी रचनाओं में मंटो आज हमारे बीच नहीं हैं लेकिन वह अपनी कालजयी रचनाओं के कारण आज भी अमर हैं। वह एक कालजयी व्यक्तित्व था और कालजयी व्यक्तित्व कभी मरते नहीं हैं।
(आगामी अंकों में मंटों की प्रसिद्ध रचनाएं नियमित प्रकाशित होंगी )

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष