December 28, 2011

बीसवीं सदी का सदाबहार नायक देवानंद

- विनोद साव

'एक्टिंग के मामले में दिलीप साहब और खूबसूरती में देव साहब का कोई सानी नहीं'। रोमांस से लबरेज देवानंद से इस देश के नौजवानों ने बोलना, चलना, कपड़े पहनना और बाल संवारना सीखा। जूतों के डिजाइन पर ध्यान दिए, सर पर किसम- किसम की टोपियां लगाई। बेल्ट में चौड़े और आकर्षक बकल लगाए। प्रौढ़ हो चुके लोगों ने गले की झुर्री दबाने के लिए स्कॉर्फ बांधना सीखा।
कभी आइंस्टीन ने गांधी जी के लिए कहा था कि 'आने वाली पीढ़ी इस बाद को लेकर अचंभित होगी कि हाड़ मांस से बना गांधी जैसा एक महामानव इस धरती में जन्मा था।' इस स्टेटमेंट में फेर-बदल कर फिल्म सितारे देवानंद और उम्दा शायर फिराक गोरखपुरी ने अपने लिए कहा था कि 'आने वाली सदी इस बात पर हैरां होगी कि बीसवीं सदीं में देवानंद भी था।' फिराक ने इसे अपने लिए कहा था। यह सही है कि देवानंद फिल्मी दुनिया के सबसे बड़े नार्सिस्ट (आत्ममुग्ध इंसान) थे। वे कई मायनों में बड़े थे और इसलिए अपनी नार्सिसम (आत्म-मुग्धता) को भी उन्होंने घनघोर रचनात्मकता में बदल डाला था। वे बहुत आईना प्रेमी थे। हरदम आइने के सामने खड़े होकर अपने को घंटों निहारा करते थे। इस आईना प्रेम ने उनके व्यक्तित्व को खूब निखारा था और उनके व्यक्तित्व ने सारे देश के जन- मान को निखारा। मिथकों के एक स्वप्निल लोक में हमेशा विचरने वाले भारतीय जन- मानस ने आधुनिक संदर्भों में अपने सबसे बड़े नायक और महानायक चुने तो राजनीति, खेलकूद या सेना के क्षेत्रों से नहीं बल्कि फिल्मों से चुने और उन्हीं से सबसे ज्यादा प्रेरणा ग्रहण की।
ऐसे महानायकों में तीन महत्वपूर्ण व्यक्तित्व हुए - दिलीप कुमार, राजकपूर और देवानंद। तब धर्मवीर भारती के संपादन में 'धर्मयुग' एक ऐसी पत्रिका थी जो भारतीय साहित्य और विचार जगत की एक नायाब पत्रिका थी। इस पत्रिका में भारतीजी ने देवानंद का एक संस्मरण प्रकाशित किया था 'मेरी छोटी सी राजनीतिक दुनिया।' चूंकि देवानंद अंग्रेजी साहित्य में स्नातक थे इसलिए उन्होंने जीवन में जो कुछ भी लिखा वह अंग्रेजी में ही लिखा। उनके इस आलेख का हिंदी रुपांतर धर्मयुग में छपा था। इस आलेख के साथ एक तस्वीर छपी थी जिसमें जवाहर लाल नेहरु के साथ दिलीप, राज और देव की तस्वीर थी। इस चित्र में नेहरुजी ने टोपी नहीं पहनी है। चूंकि नेहरु भी अपने समय के एक बड़े महानायक थे और उन्हें 'नायकत्व' की गहरी समझ थी, इसलिए जीवन के जिस किसी भी क्षेत्र में कोई नायक हुआ तो उनका उन्होंने भरपूर सम्मान किया। नेहरुजी के हृदय में हिंदी सिने जगत के इन तीन महानायकों के प्रति भी बड़ा प्यार और सम्मान था। प्रधानमंत्री नेहरु ने अपने निज सचिव को हमेशा के लिए यह हिदायत दे रखी थी कि जब जब भी उनका बम्बई प्रवास हो वे रात्रि का भोज दिलीप, राज और देव साहब के साथ करेंगे और ऐसा होता रहा था। यह बाद के प्रधानमंत्रियों को भी सीखना चाहिए था। देव साहब नेहरु के लोकतांत्रिक व्यक्तित्व और उनके 'हीरोइजम' के बड़े काय थे। तत्कालीन विदेश मंत्री कृष्ण मेनन से उनकी मित्रता थी। अस्पताल में भरती कृष्ण मेनन से जब उनकी अंतिम मुलाकात हुई तब कृशकाय कृष्ण मेनन और उनकी शिथिल होती काया का देवानंद ने अपने संस्मरण में बड़ा मार्मिक चित्रण किया है। इस संस्मरण आलेख से यह पता चलता है कि अपने समय की राजनीति, साहित्य और विचारों की दुनिया से देवानंद कितने उद्वेलित हुआ करते थे। नेहरु से निकटता होते हुए भी उन्होंने इंदिरा के राजनीतिक निर्णय के विरोध करने का साहस किया था। आपातकाल में अभिव्यक्ति पर हुई बंदिश के खिलाफ सामने आते हुए देवानंद ने एक नेशनल पार्टी के गठन की घोषणा कर डाली थी। जबकि सोनिया गांधी के प्रति सम्मान व्यक्त करते हुए उन्हें नेहरु का प्रिय लाल गुलाब भेंट किया था। प्रधानमंत्री वाजपेयी अपनी पाकिस्तान यात्रा में देवानंद को अपने साथ ले गए थे।
लाहौर कॉलेज के अंग्रेजी स्नातक देवानंद ने अपने समय के बड़े भारतीय अंग्रेजी लेखक आर.के.नारायणन के उपन्यास 'द गाइड' पर 1965 में हिंदी में फिल्म बनाई थी। ये फिल्मों के इतिहास की एक अनूठी घटना थी। तब बाद में उपन्यास की मुद्रित प्रति के मुखपृष्ठ पर देवानंद और वहीदा रहमान के चित्र छपा करते थे। गाइड उनके छोटे भाई विजय आनंद द्वारा निर्देंशित एक क्लासिक और उम्दा फिल्म थी। इस फिल्म में उदयपुर के लोकेशन को जबर्दस्त पिक्चराइज किया गया है। फिल्म में गाइड बने देवानंद की जब वहीदा से मुलाकात होती है तब देवानंद अपनी चिरपरिचित लहराती आवाज में उनके सामने जा खड़े होते हैं कहते हैं 'गाइड! आपको कहां जाना है?' तब अपने पति किशोर साहू पर नाराज वहीदा तुनकती हुई आगे बढ़ जाती है और देवानंद से कहती है 'जहन्नुम में।' तब देवानंद पलटकर अपने अंदाज में कहते हैं कि 'जहन्नुम में जाना था तो उदयपुर क्यों आईं मैडम इसे तो लोग जन्नत कहते हैं।' देव साहब की ऐसी कई अदायगी के दर्शक दीवाने हुआ करते थे। अपनी फिल्मों के लोकेशन के प्रति हमेशा सतर्क रहने वाले देवानंद का एक बार नेपाल सरकार ने इसीलिए सम्मान किया था क्योंकि देवानंद की फिल्मों- जॉनी मेरा नाम, हरे रामा हरे कृष्णा और ये गुलसितां हमारा में नेपाल के स्थानों को इतनी खूबसूरती से फिल्माया गया था कि उसके बाद नेपाल में पर्यटकों की संख्या में भारी इजाफा हुआ और वहां की सरकार को काफी मुनाफा हुआ था। ऐसे ही 'ज्वेल थीफ' में सिक्किम और उसकी राजधानी गंगटोक की सुन्दरता को उन्होंने खूब उभारा था। हिमालय के लोक जीवन और उसकी जीवन्तता को बखूबी फिल्माने के लिए उन्होंने सचिन देव बर्मन की संगीत कला का भरपूर प्रयोग किया था। अंतर्राष्ट्रीय समस्याओं को उजागर करने के लिए देवानंद ने ही सबसे पहले पनप रही हिप्पी संस्कृति और एन.आर.आई.समस्या पर फिल्में बनाई थी। इस तरह वे अपने समय की आधुनिकता और नवीनता को हरदम पकडऩे की कोशिश करते थे।
अंग्रेजों के उपनिवेश बने रहे भारत और उसकी जनता पर अंग्रेजों का गहरा असर रहा है। अंग्रेजियत के इस प्रभाव को हमारे फिल्म जगत ने धरोहर की तरह संजोकर रखा है और अपनी सारी जादुई छटा को इसी पाश्चात्य ढंग से वह रुपहले परदे पर पेश करता रहा है। इन्हीं रुपहले परदों ने भारतीय जनमानस को पिछले सौ बरसों से ऐसा बांध के रखा है कि कट्टरपंथी और शुद्धतावादी लोग चाहें कितना भी कसमसा लें लेकिन कोई इस बंधन से मुक्ति नहीं पा सका है। लोग हमेशा फिल्मों और अदाकारों के सम्मोहन जाल में उलझे रहे हैं।
इस सम्मोहन जाल को बुनने में देवानंद को महारत हासिल थी। सही मायनों में वे बीसवीं सदी के सबसे ज्यादा सम्मोहक व्यक्तित्व थे। उनके परवर्ती हीरो धर्मेन्द्र जिनका 'अपीलिंग पर्सनलिटी' महिला दर्शकों को गरमाता आया है, ऐसे धर्मेन्द्र प्रभु चावला से हुई बातचीत में कहते हैं कि 'एक्टिंग के मामले में दिलीप साहब और खूबसूरती में देव साहब का कोई सानी नहीं'। रोमांस से लबरेज देवानंद से इस देश के नौजवानों ने बोलना, चलना, कपड़े पहनना और बाल संवारना सीखा। जूतों के डिजाइन पर ध्यान दिए, सर पर किसम- किसम की टोपियां लगाई। बेल्ट में चौड़े और आकर्षक बकल लगाए। प्रौढ़ हो चुके लोगों ने गले की झुर्री दबाने के लिए स्कॉर्फ बांधना सीखा।
स्वेटर उतारकर उसे गले में लपेटकर खड़े होने का अंदाज पाया। कस्बाई पसंद के चेक शर्ट पहने। फूल शर्ट की आस्तिन में 'कफलिन्स' टांके और तब कहीं जाकर लहराती आवाज में प्रेम का इजहार किया। अपने मोहक अंदाजों के कारण वे दर्शकों के सबसे बड़े आइकॉन हो गए थे। देव साहब ने अभी- अभी एक किताब भी लिखी 'लाइफ विद दी रोमान्स।' इसका विमोचन उन्होंने राष्ट्रपति अब्दुल कलाम से करवाया था। उनकी एक फिल्म का नाम भी था 'रोमान्स रोमान्स।' अपने अंतिम समय तक तरोताजा बने रहने वाले इस देव का दर्शन कोई इन्सान टी वी पर सबेरे- सबेरे कर लेता तो दिनभर उनके गाने गुनगुनाता हुआ तरोताजा और उर्जायुक्त रह सकता था। देव हमेशा आनंद देते थे। तब के समीक्षक उन्हें फिल्मों का च्यँवर ऋषि माना करते थे। आयुर्वेद के 'च्यँवर ऋषि' के बारे में यह माना गया है कि वे बूढ़े नहीं हुए और चिर युवा रहेे। लेकिन अंतिम रुप से भारतीय जनमानस में एक पाश्चात्य व्यक्तित्व ही उभरा। हमारे देशी पहनाव ओढ़ाव के बीच देवानंद के अपनाए पाश्चात्य ड्रेस कोड ही हमारे रोजमर्रा की पोशाक का हिस्सा बने। उन्होंने कभी पॉवर वाला चश्मा नहीं लगाया। कह सकते हैं कि हमारे देश के नौजवानों में 'पर्सनलिटी कल्ट' सबसे ज्यादा सदाबहार देवानंद से आया था। पिछले दिनों एक पुरस्कार समारोह में देव साहब ने कहा था कि 'मैं फिल्मों की दुनियां में इसीलिए आया क्योंकि यहां हमेशा एक्टिव रहा जा सकता है रिटायरमेंट कभी नहीं होता। रिटायरमेंट के डर से मैंने नौकरी छोड़ी और पॉलीटिक्स में नहीं गया।'
संपर्क: मुक्तनगर, दुर्ग छत्तीसगढ़ 491001 मो.9407984014, Email- vinod.sao1955@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष