August 25, 2011

वास्तविक स्वतंत्रता...

हम भारतीय हर साल 15 अगस्त के दिन स्वाधीनता दिवस का जश्न बड़े जोर- शोर से मनाते हैं और औपचारिकता निभा कर अपने स्वतंत्र होने पर गर्व करते हैं। पर वास्तव में देखें तो हमने इन 64 वर्षों में स्वतंत्रता के वास्तविक अर्थ को पहचाना ही नहीं है। एक परतंत्रता से मुक्त होकर हम जाने कितनी नई परतंत्रताओं से घिरते चले जा रहे हैं, जो हमारे देश को विकसित करने के स्थान पर नीचे की ओर ही ढकेलते चले जा रही है। फिर चाहे वह मंहगाई का मुद्दा हो, चाहे गरीबी, बेकारी और अशिक्षा का हो या फिर इन दिनों सबसे ज्यादा चर्चित भ्रष्टाचार का मुद्दा ही क्यों हो। कायदे से देखा जाए तो इस अवसर विशेष पर हमें देश को कमजोर करने वाली इन सभी समस्याओं की ओर ध्यान देना चाहिए

एक ऐसा ही मुद्दा पिछले दिनों उभर कर सामने अया है जिसे नया तो कतई नहीं कहा जा सकता पर स्वाधीनता के अवसर पर इस निरंतर बढ़ते जा रहे सामाजिक समस्या पर चर्चा करना, देश व समाज दोनों के हित में आवश्यक है- 2011 की जनगणना के अनुसार जो आकड़े सामने आएं हैं उसमें से एक देश में कन्याओं की लगातार घटती संख्या भी है। प्राप्त आंकड़ों की ओर नजर डालें तो प्रति हजार लड़कों के अनुपात में लड़कियों की संख्या घटकर 914 हो गई है। जबकि 2001 की जनगणना में यह संख्या 933 थी। आजादी के बाद यह पहला अवसर है जब भारत में लड़कों और लड़कियों के बीच का अनुपात इतना ज्यादा गिरा है। हरियाणा और पंजाब के कुछ गांव तो ऐसे हैं जहां लड़कियां पैदा ही नहीं हुईं हैं।
एक ओर तो जनगणना के मुताबिक पुरुषों की तुलना में महिलाओं में साक्षरता तो बढ़ी है, लेकिन इसके बिल्कुल विपरित कन्या भ्रूण हत्या या बेटियों के प्रति नफरत की भावना बढ़ती ही जा रही है। यह वास्तव में राष्ट्रीय शर्म की बात है। यह बात तो बिल्कुल उसी तरह हुई कि हम भारतीय गंगा नदी को अपनी मां की तरह पूजते तो हैं पर उसे नष्ट करने में किसी भी तरह पीछे नहीं है। इसी प्रकार कन्या भ्रूण हत्या करके हम समस्त मानवता की जड़ को ही खत्म करने पर तुले हैं।
इन सबका नतीजा यह है कि कन्या के लगातार घटते चले जाने के भयानक दुष्परिणाम कई राज्यों विशेषकर हरियाणा और राजस्थान में नजर आ रहे हैं। वहां अब विवाह के लिए लड़कियां ही नहीं मिल रही हैं और इसकी पूर्ति के लिए बंगलादेश और बंगाल से लड़कियां लाई जा रही हैं। लेकिन जो लड़कियां वहां गलती से पैदा हो भी जाती हैं, (अर्थात जो भ्रूण परीक्षण से बच जाती हैं) बड़े होने पर उनके माता- पिता उन्हें घर से बाहर इसलिए निकलने नहीं देते क्योंकि उन्हें डर होता है उनकी लड़की का कहीं अपहरण न हो जाए। इस प्रकार यहां की बेटियां कैदी बनकर रह जाती है, यह एक और भयानक सामाजिक समस्या को जन्म दे रही है।
आश्चर्य है कि लिंग अनुपात की असमानता कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए बनाए गए अनेक कानूनों के बावजूद बढ़ती जा रही है। दरअसल हमारे देश में किसी समस्या के निदान के लिए कानून बनाने वाले हमारे कर्ता- धर्ता कागजों में कानून बनाकर अपने कर्तव्यों की इतिश्री समझ लेते हैं, वे यह भूल जाते हैं कि कागजी कानून किसी भी सामाजिक समस्या का हल नहीं है। भारत सरकार ने 17 साल पहले ही एक कानून पीसीपीएनडीटी कानून (प्री-कनसेप्शन ऐन्ड प्री-नेटल डायग्नॉस्टिक टेकनीक्स ऐक्ट) पारित किया था जिसके मुताबिक पैदा होने से पहले बच्चे का लिंग मालुम करना गैरकानूनी है। इस कानून में यह भी स्पष्ट निर्देश है कि भ्रूण परीक्षण करने वाली मशीन पंजीकृत हो जबकि देश भर के अधिकांश शहरों में बिना पंजीकरण के इन मशीनों का धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा है। इतना ही नहीं गर्भवती महिला को यदि यह परीक्षण करवाना हो तो कानूनन उसे एक फार्म भरना अनिवार्य होता है, यदि इस फार्म में कुछ भी गलतियां पाई जाती हंै तो यह मान लिया जाता है कि संबंधित डॉक्टर ने लिंग का पता लगाने के लिए ही यह परीक्षण किया है। लेकिन जिस देश में यही नहीं पता कि कितनी मशीनें इस परीक्षण के लिए इस्तेमाल की जा रही हैं वहां सही फार्म भरा जाना तो दूर की बात है फार्म भरे भी जाते होंगे इसमें भी संदेह है।
एक अनुमान के आधार पर पिछले 10 वर्षों में भारत में 80 लाख कन्या भ्रूण की हत्या कर दी गई है। कितने शर्म की बात है कि इतनी बड़ी संख्या में मानव हत्या हो रही है और किसी ने इस पर उंगली भी नहीं उठाई? क्या हम इतने निमर्म समाज है? जबकि प्रकृति का यह विधान है कि दुनिया भर में लिंग अनुपात में प्रति हजार लड़कों पर 950 लड़कियां पैदा होती हैं क्योंकि लड़कों में मृत्युदर ज्यादा है। लेकिन भारत में प्रति हजार लड़कों पर सिर्फ 890 लड़कियां पैदा होती हैं।
आज के ये प्राप्त आकड़े हमारे समाज में असंतुल पैदा कर भविष्य की एक गंभीर सामाजिक समस्या की ओर संकेत कर रही है। इससे अनेक प्रकार की कुरीतियां और बुराईयां जन्म ले रही हंै। समय रहते इसे रोकना आवश्यक है। इसके लिए सरकार को चाहिए कि वह कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए बने कानून का पालन कड़ाई से हो इसके लिए एक ऐसी निगरानी समीति बनाए जो कन्या भ्रूण का परीक्षण करने वालों पर अंकुश लगाने में कारगर भूमिका निभाए। ताकि गैरकानूनी तरीके से भ्रूण परीक्षण कर कन्या को गर्भ में ही मार देने का जो व्यवसाय इन दिनों फल- फूल रहा है और समाज की जड़ों को खोखला करते चले जाने का जो काम खुले आम हो रहा है उसे रोका जा सके। इन सब प्रयासों के साथ ही साथ हमें जो सबसे कारगर और महत्वपूर्ण कदम उठाना होगा वह है शिक्षा के प्रचार- प्रसार का। क्योंकि अंधविश्वास, कुरीति, दहेज प्रथा तथा बेटी को बोझ मानने वाली जैसी हमारी अंध- परंपराओं का नाश शिक्षा रूपी हथियार के माध्यम से ही किया जा सकता है।
अंत में इतना ही कि हमारी वास्तविक स्वतंत्रता तभी मानी जाएगी जब हम लड़कियों को प्रकृति के विधान के अनुसार निर्धारित संख्या में जन्म लेने दें। जिस दिन ऐसा हो जाएगा उस दिन हम इस चर्चित कहावत को सिर्फ परंपरा का निर्वाह करने के लिए नहीं बल्कि चरितार्थ करते हुए गर्व से कहेंगे- यत्र नार्यस्तु पूजयन्ते तत्र रमंते देवता।


- डॉ. रत्ना वर्मा

1 Comment:

D.P.Mishra said...

VERY-VERY NICE........

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष