October 23, 2010

30 साल से बच्चों का चहेता मारियो

मारियो सबसे पहले 1981 में 'डौंकी कौंग' नाम के गेम में देखा गया। दो साल बाद मारियो के साथ उसका भाई लुइगी भी दिखाई देने लगा। तब से इस गेम का नाम 'मारियो ब्रदर्स'[ पड़ गया।

भले ही आजकल बच्चों के पास खेलने के लिए ऑनलाइन गेम और प्ले स्टेशन जैसे ढेर सारे विकल्प हों, पर एक जमाना था जब वीडियो गेम का मतलब सिर्फ टेट्रिस या मारियो हुआ करता था। एक पूरी पीढ़ी मारियो को खेलते- खेलते बड़ी हुई है। वीडियो गेम का किरदार सुपर मारियो ने पिछले माह अपना 30वां जन्मदिन मनाया।
करीब तीस साल पहले एक प्लंबर ने वीडियो गेम खेलने का तरीका ही बदल दिया। जहां वीडियो गेम का मतलब केवल एक स्क्रीन पर बॉल से ईंटें तोडऩा या ईंटों की दीवार बनाना था वहीं मारियो अपने साथ पहली बार एक कहानी ले कर आया। नीली शर्ट, लाल पैंट और सिर पर लाल टोपी।
बड़ी सी मूंछों वाला छोटा सा मारियो भागता, कूदता और कभी- कभी तो उड़ता भी था। कभी सिक्केे लेकर अमीर हो जाता तो कभी मशरूम खा कर आकार में तिगुना हो जाता। उछलते कूदते अंत में जा कर यह छोटा सा मारियो एक बड़े से गोरिल्ला से भिड़ जाता और यह सब झमेला अपनी राजकुमारी को गोरिल्ला के चंगुल से छुड़ाने के लिए।
इस तरह का गेम अपने आप में एक बहुत बड़ी बात थी। खेलने वालों को भी यह खूब पसंद आया क्योंकि इसमें पहली बार वे खुद किरदार को निभा रहे थे। उस वक्त के सबसे लोकप्रिय गेम पैकमैन के मुकाबले यह बहुत ही अलग था। जहां पैकमैन में बस एक ही स्क्रीन दिखा करती थी जिसमें एक बड़ा गोला छोटे गोलों को खाया करता जबकि मारियो और भी ढेर सारी चीजें कर सकता था। वो एक छोटा सा कार्टून हीरो था जिसका पूरा कंट्रोल खेलने वाले के हाथ में था।
मारियो सबसे पहले 1981 में 'डौंकी कौंग' नाम के गेम में देखा गया। दो साल बाद मारियो के साथ उसका भाई लुइगी भी दिखाई देने लगा। तब से इस गेम का नाम 'मारियो ब्रदर्स' पड़ गया। फिर पंद्रह साल बाद 1996 में और भी बदलाव किए गए और इसका 3डी अवतार दिखाई दिया। पहले पोर्टेबल वीडियो गेम्स में भी मारियो सबसे ज्यादा लोकप्रिय रहा।
मारियो की लोकप्रियता बरकरार रखने के लिए इसे बनाने वाली जापानी कंपनी निनटेन्डो ने प्लंबर मारियो को कभी डॉक्टर मारियो बनाया तो कभी खिलाड़ी। मारियो को अब तक टेनिस, गोल्फ, बेसबॉल और फुटबॉल खेलते हुए देखा जा चुका है।
सुपर मारियो में इतने सालों में भले ही खूब बदलाव आए हों, लेकिन एक चीज है जो अभी तक नहीं बदली वो है उसकी आवाज। अमेरिकी अभिनेता चाल्र्स मार्टीनेट 1996 से मारियो को अपनी आवाज देते आए हैं। पिछले पंद्रह सालों से चाल्र्स मार्टीनेट की आवाज में मारियो के 'युहू' और 'मामा मिया' बेहद लोकप्रिय रहे हैं।
क्यों बना मारियो
मार्टीनेट ने जब पहली बार मारियो को अपनी आवाज दी थी तो यह बिलकुल नहीं सोचा था कि वह उनके जीवन का इतना महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाएगा। उन्हीं की तरह निनटेन्डो कंपनी ने भी यह नहीं सोचा था कि मारियो इतनी ऊंचाइयों को छू सकेगा। बहुत कम लोगों को यह बात पता होगी कि जब जापानी कंपनी निनटेन्डो ने पहली बार अमेरिका में मारियो गेम शुरू की थी तब वो यह सोच रहे थे कि शायद इसे कोई भी नहीं खरीदेगा।
उस समय मारियो की रचना सिर्फ इसलिए की गई थी क्योंकि उनके पास उस समय सड़क पर लगने वाली गेम की मशीनें अधिक संख्या में थीं। उन्हें कूड़े के भाव बेचने से रोकने के लिए मारियो बनाया गया और अमेरिका में जब मारियो का 'डौंकी कौंग' आया तो उसकी मशीनें हाथों- हाथ बिक गईं। मारियो मिकी माउस से भी ज्यादा लोकप्रिय हो गया और देखते ही देखते अमेरिका में उसकी 60,000 मशीनें लग गई। अब तक मारियो की बीस करोड़ गेम्स बिक चुकी हैं। यह किसी भी गेम का अब तक का रिकॉर्ड है।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष